धर्म-सभा:जातिय भेदभाव खत्म करने रोटी-बेटी का व्यवहार जरूरी

खरगोन9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • संगीतमय श्रीराम कथा में स्वामी जितेंद्रनंद स्वामी ने भक्तों से कहा-

शहर के बिस्टान रोड स्थित निजी गार्डन में शनिवार से तीन दिनी संगीतयम श्रीराम कथा शुरू हुई। यहां स्वामी जितेंद्रानंद सरस्वती ने श्रीराम के जन्म से संघर्ष तक की जानकारियां दी। उन्होंने कहा कि जातियों में बटे हिंदू समाज को एक होना जरूरी है। हिंदू समाज को अलग-अलग जातियों में बांटने का काम विदेशी ताकतों ने किया है। जिससे देश में भेद-भाव पैदा हुआ। हिंदू समाज एक दूसरे से रोटी और बेटी का व्यवहार करें जिससे जातिय भेदभाव समाप्त होगा।
स्वामी जितेंद्रनंद के भजनों म से श्रोताओं की कभी आंखें नम हुई तो कभी झूमते नजर आए। कथा में अखिल भारतीय ग्राहक पंचायत संघ भोपाल के प्रांत संगठन मंत्री घनश्याम चंद्रवंशी उपस्थित हुए। रामकथा का आयोजन शिव मिलन धर्म जागरण समिति द्वारा किया जा रहा है। इस दौरान बड़ी संख्या में श्रद्धालु शामिल हुए। आयोजन समिति से जुड़े लोगों का कहना है कि यहां तीन दिनी कथा दोपहर 2 से शाम 5 बजे तक होगी। सदस्यों ने बताया कि पिछले दिनों मुंबई पहुंचकर स्वामीजी को आमंत्रित किया है। आग्रह पर उन्होंने तीन दिन का समय निकाला है।
बुरी आदतें छोड़े मनुष्य
स्वामी जितेंद्रानंद स्वामी ने कहा मनुष्य को लोभ- बेईमानी, बुरी नियत व आदतें आदि छोड़ना होगी। क्योंकि इससे संसार में पाप बढ़ रहा है। मनुष्य भगवान को भूलकर केवल अपना व परिवार का स्वार्थ चाहता है। वह भूल जाता है इस धरती पर जिसने जन्म दिया है। जिसने बड़ा किया है। जो जीने के लिए हवा-पानी, अग्नि दे रहा है उसका तो धन्यवाद करो। सुबह व शाम एक बार भगवान का जरूर स्मरण करना चाहिए। क्योंकि जिसके कारण जीवन चल रहा है उसे ही भूल रहे हो।

खबरें और भी हैं...