पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

समर्थन मूल्य:4 दिन बाद भी मैसेज जारी नहीं किए, मूंग खरीदी अटकी

खरगोनएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • सत्यापन में देरी से मंडी में बेचने पहुंच रहे किसान, 4700 से ज्यादा ने कराया है पंजीयन
  • अनाज मंडी में 35 बोरी की आवक

जिले में 15 जून से 7196 रुपए प्रति क्विंटल के हिसाब से समर्थन मूल्य पर मूंग खरीदी शुरू होना थी। 5 उपार्जन केंद्र पर पूरी तैयारी कर ली गई। इसके बावजूद खरीदी की प्रक्रिया शुरू नहीं हो पाई। 4 दिन में एक भी किसान उपज लेकर नहीं पहुंचा। इसका प्रमुख कारण भोपाल से मैसेज जारी नहीं होना बताया जा रहा है।

इधर कम उत्पादन वाले किसान मंडियों में पहुंचकर उपज बेच रहे हैं। सरकार के आदेश के बाद जिले के 50 केंद्रों पर किसानों का पंजीयन शुरू किया गया। अब तक 4700 से ज्यादा किसानों ने पंजीयन करवाया है। पंजीकृत किसानों की सूची राजस्व विभाग को भेजकर सत्यापन करवाया जा रहा है।

खरीफ बुवाई के लिए खेत तैयार करने किसानों ने फसल काट ली। इससे सत्यापन में दिक्कतें हो रही है। उपसंचालक कृषि एमएल चौहान ने कहा सत्यापन की प्रक्रिया चल रही है। जल्द किसानों को मैसेज मिलना शुरू होंगे।

समर्थन मूल्य से कम भाव में बेचने पहुंचे
मंडी में रोजाना किसान उपज लेकर पहुंच रहे। शुक्रवार को 35 बोरी आवक रही। न्यूनतम 5840 से अधिकतम 6121 रुपए प्रति क्विंटल भाव रहे। मंडी आए किसान संतोष राठौड़ छोटी ठिबगांव व मीठाराम सेन खेड़ी ने कहा इस साल कम रकबे में ग्रीष्मकालीन मूंग की बुवाई की थी। उत्पादन इसी अनुसार रहा। इसलिए पंजीयन नहीं करवाया। अब मूंग की भी सरकारी खरीदी होने से आगामी सालों में रकबा बढ़ सकता है।

खबरें और भी हैं...