पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

हिरासत में मौत का मामला:डॉक्टर व पुलिसकर्मियों पर केस दर्ज नहीं होने तक चलेगा आंदोलन

खरगोन8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
समाजजन महेंद्र कन्नौज ने हत्या का केस दर्ज करने की मांग की। - Dainik Bhaskar
समाजजन महेंद्र कन्नौज ने हत्या का केस दर्ज करने की मांग की।
  • सर्व आदिवासी समाज प्रतिनिधियों ने दी चेतावनी

झगड़ी घाट के लूट के आरोपी बिसन हाबू की हिरासत में मौत मामले में मंगलवार को सर्व आदिवासी समाज व जयस ने दोपहर 12.30 बजे से टीआईटी कॉम्पलेक्स के सामने पीड़ित परिवार के साथ 5 घंटे धरना प्रदर्शन किया। इसमें खरगोन, बड़वानी, धार, अलीराजपुर जिलों के लोग शामिल हुए। प्रतिनिधियों ने दोषी पुलिसकर्मियों व डॉक्टर पर हत्या का केस दर्ज न होने तक आंदोलन की चेतावनी दी। दोपहर में हलकी बारिश में भी सभा हुई। आंदोलन में पीड़ित परिवार के लिए दो गमछों की झोली बनाकर सहायता जुटाई।

लोगों ने 10 रुपए से लेकर 500 रुपए तक मदद की। कुल 12 हजार 900 रुपए की राशि बिसन की पत्नी रमतूबाई, बेटा मिथुन को सौंपी गई। शाम 5 बजे एडीएम बीएस सोलंकी, प्रभारी एसपी जितेंद्रसिंह पंवार व एसडीएम सत्येंद्र सिंह ज्ञापन लेने पहुंचे। उनसे पुलिसकर्मियों व डॉक्टर पर हत्या का केस दर्ज करने व मानव अधिकार आयोग के निर्देशों पर जांच की मांग की। सस्पेंड जेलर को बहाल किया जाए।

एडीएम व प्रभारी एसपी ने कहा कि न्यायिक जांच जारी है। अन्य मांगें वरिष्ठ अफसरों को भेजेंगे। इस दौरान नितेश अलावा, इंजीनियर लोकेश मुजाल्दे, सीमा वास्कले ने भी संबोधित किया। इस दौरान बिसन दादा बड़वानी, कोलू खोड़े, कपिल पंवार, मयाराम बारेला, बलीराम सोलंकी, जगीराम बारेला, नानूराम भूरिया सहित अन्य मौजूद थे।

एसपी को माफियाओं ने हटवाया
माधुरी बेन ने कहा एसपी की कार्यप्रणाली के कारण जिलेभर में सट्‌टा, जुआ व शराब बंद थे। बिसन की मौत के मामले की आड़ में सट्‌टा व शराब माफियाओं ने एसपी को हटवाया है। आदिवासियों ने कभी व्यक्ति विशेष पर कार्रवाई की मांग नहीं की।

सुबह दो घंटे शहरबंद, एसपी रिलीव
एसपी पर कार्रवाई के विरोध में सकल समाजजन के आव्हान पर मंगलवार सुबह शहर दो घंटे सांकेतिक बंद रहा। सोमवार रात को ही एसपी शैलेंद्रसिंह चौहान रिलीव होकर भोपाल पहुंचे। उनका चार्ज एएसपी जितेंद्रसिंह पंवार के पास है।

कार्रवाई नहीं की तो अन्य राज्यों से आएंगे समाजजन : महेंद्र कन्नौज
धार के महेंद्र कन्नौज ने कहा पुलिस की पिटाई व डॉक्टरों की लापरवाही से बिसन की मौत हुई है। पीएम रिपोर्ट में 8 दिन पुरानी बीमारी बताई। बीमार कैसे लूट कर सकता है। बीमार की थाने में पिटाई क्यों की। अस्पताल में भर्ती कराना था। जिला अस्पताल के डॉ. जेपी बडेरिया की डिग्री की जांच होना चाहिए। दो बार जांच में बिसन बीमार नहीं लगा। झारखंड, गुजरात, राजस्थान के समाजजन भी कार्रवाई के लिए आएंगे।

खबरें और भी हैं...