पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अनियमितता:ब्लॉक में रेत स्टॉक करने की अनुमति नहीं फिर भी 20 से ज्यादा स्थानों पर कर रहे इकट्‌ठा

खरगोन2 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • अफसरों की अनदेखी के कारण स्टॉक कर सप्लायर महंगे दामों में बेच रहे हैं रेत

बड़वाह ब्लॉक में बालू रेत संग्रहण की अनुमति नहीं है। इसके बाद भी बड़वाह व सनावद सहित ग्रामीण क्षेत्रों में 20 से अधिक स्थानों पर सप्लायरों ने रेत का स्टाॅक कर रखा है। जहां से वह महंगे दामों में बेचकर मोटी रकम कमा रहे हैं। इसके बाद भी खनिज विभाग के अफसर इस ओर ध्यान नहीं दे रहे हैं जबकि शहर में मुख्य मार्ग के पास ही रेत को संग्रहण कर लोगों को सप्लाय किया जा रहा है। बालू रेत का संग्रहण करने के पहले सप्लायर को अनुमति लेना होती है लेकिन बड़वाह व सनावद में किसी भी रेत ठेकेदार ने रेत को संग्रहण करने के लिए अनुमति नहीं ली है। इसके बाद भी सप्लायर बड़ी मात्रा में रेत का संग्रहण कर खुले आम बेच रहे हैं। रेत को संग्रहण करने के लिए सप्लायरों ने कई स्थानों पर खुले में रेत रखकर रखी है। इससे वहां पर आसानी से बड़े डंपर आकर रेत काे खाली कर सके। इससे आसपास के रहवासियों को शेरगुल से परेशानी होती है। साथ ही रेत के कारण उन्हें समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। विभाग की कार्रवाई नहीं होने से सप्लायरों के भी हौसले बुलंद हो चुके हैं। जो खुले आम रेत को बेचने का काम कर रहे हैं।

विभाग का तर्क : रेत ठेकेदार को भी नहीं है रेत संग्रहण करने की अनुमति

विभाग के अफसरों के अनुसार रेत के संग्रहण के लिए अनुमति लेनी होती है लेकिन नियम में बदलाव के कारण इस बार मात्र रेत उत्खनन करने वाले ठेकेदार को ही संग्रहण करने की अनुमति दी गई है। जिसे बड़वाह ब्लॉक के बदले महेश्वर ब्लॉक में स्थान दिया है। इसके लिए उसने अनुमति ली है। इसके बाद भी जहां से रेत का खनन किया जा रहा है। वहां आसपास बड़ी मात्रा में रेत के ढेर देखे जा सकते हैं। जो शासन के नियमों का उल्लंघन कर रहे हैं। इसके बाद भी कार्रवाई न होना अफसरों की कार्य प्रणाली पर शंका पैदा कर रहा है।

नर्मदा के पानी में रेत धोकर कर रहे प्रदूषित
नर्मदा के तटों से बड़ी मात्रा में रेत का अवैध उत्खनन करने के बाद अब नदी से भी अवैध रेत का उत्खनन किया जा रहा है। रावेरखेड़ी के पास कई स्थानों पर नर्मदा नदी के बीच अधिक रेत होने पर उत्खनन करता वहां तक जाने का रास्ता बनाकर बीच नर्मदा से रेत निकाल रहे हैं। इससे नर्मदा का पानी मटमेला हो रहा है। वहीं मिट्‌टी के बीच दबी रेत को निकालने के बाद उसे नर्मदा के पानी से साफ किया जाता है। जिससे नर्मदा नदी में बड़ी मात्रा में गंदा पानी बहता है।

शहर से बाहर हो रहा है ग्रामीण क्षेत्रों में रेत का संग्रहण
शहर में बड़ी मात्रा में रेत का संग्रहण करने के कारण सप्लायरों को हमेशा कार्रवाई का डर बना रहता है। इससे बचने के लिए अब रेत के सप्लायर शहरी क्षेत्र के पास ग्रामीण क्षेत्रों में रेत का संग्रहण कर रहे हैं। इससे कार्रवाई का डर खत्म हो जाता है। शहर से लगे गांव में सस्ते दामों पर जमीन लेकर रेत को संग्रहित किया जाता है। आर्डर आने पर वहीं से रेत को ट्रैक्टरों में भर कर सप्लाय किया जाता है। इससे शासन को राॅयल्टी के साथ राजस्व का नुकसान हो रहा है।

स्टॉक की अनुमति नहीं है, होगी कार्रवाई

ब्लॉक में रेत स्टॉक की अनुमति नहीं है। ठेकेदार को महेश्वर ब्लॉक में रेत संग्रहण करने की अनुमति दी है। अगर सनावद व बड़वाह में रेत का स्टॉक किया जा रहा है तो कार्रवाई की जाएगी।-रीना पाठक, इंस्पेक्टर खनिज विभाग ​​​​​​​

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थितियां आपके स्वाभिमान और आत्म बल को बढ़ाने में भरपूर योगदान दे रहे हैं। काम के प्रति समर्पण आपको नई उपलब्धियां हासिल करवाएगा। तथा कर्म और पुरुषार्थ के माध्यम से आप बेहतरीन सफलता...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...

  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser