पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आरटीई:प्रवेशित विद्यार्थियों का नोडल अधिकारी नहीं कर रहे सत्यापन, जमा नहीं हो रही राशि

खरगोन8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • अशासकीय शिक्षण संस्था संघ के पदाधिकारियों ने सौंपा ज्ञापन, नोडल अधिकारी सत्यापन करने के लिए अनुचित रु. की कर रहे मांग

अशासकीय शालाओं में आ रही कठिनाइयों के संबंध में मप्र प्रांतीय अशासकीय शिक्षण संस्था संघ ने सोमवार को बीआरसी दशरथ पंवार को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन के माध्यम से उन्होंने बताया निजी स्कूलों की फीस प्रतिपूर्ति की प्रक्रिया चल रही है। इसके लिए छात्रों व शाला के दस्तावेज सत्यापन के लिए नोडल अधिकारी नियुक्त किए हैं लेकिन वह सत्यापन के लिए समय सीमा पर नहीं पहुंच रहे हैं। इसके कारण अशासकीय स्कूल संचालकों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। निजी स्कूलों की आरटीई के तहत प्रवेशित विद्यार्थियों की फीस भी जमा नहीं हो रही। आरटीई के तहत प्रवेशित विद्यार्थियों के सत्यापन के लिए बीआरसी कार्यालय ने नोडल अधिकारी नियुक्त किए हैं। उन्हें समय सीमा भी दी गई है लेकिन वह उनके द्वारा दिए गए समय पर सत्यापन के लिए शाला में नहीं पहुंच रहे। फोन लगाने पर बहाने बनाकर मना कर देते हैं। प्रति बच्चे के सत्यापन के लिए रुपए की मांग की जा रही है। निजी शालाओं में अध्यनरत छात्रों में से कतिपय छात्र के पालक छात्र को अन्य शाला में प्रवेश में बकाया रहती है। सभी शालाओं को निर्देशित किया जाए कि पूर्व शाला के फीस आदि का समायोजन करने के बाद ही नई शाला में प्रवेश दे। कोविड 19 महामारी के कारण वर्तमान परिस्थितियों में निजी शाला के संचालन में परेशानी आ रही है। विद्यालय आर्थिक मार झेल रहे हैं। इस दौरान संरक्षक सुरेंद्र पंड्या, अखिलेश दुबे, सीताराम पटेल, पंकज शर्मा, किशोर शुक्ला, नंदकिशोर बिरला, सुरेश मुकाती, प्रदीप दुबे व अन्य मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...