पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जिला अस्पताल में मिलेगी राहत:तीसरी लहर से पहले तैयारी, एक सप्ताह में शुरू हो जाएगी सीटी स्कैन की सुविधा

खरगोनएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मिलेगी राहत...सीटी स्कैन मशीन के लिए कक्ष तैयार हाे रहा - Dainik Bhaskar
मिलेगी राहत...सीटी स्कैन मशीन के लिए कक्ष तैयार हाे रहा
  • बच्चों में संक्रमण बढ़ने से रोकने के लिए 1000 ईजीजी इंजेक्शन भी बुलाए गए

कोरोना संक्रमित मरीजों को जांच के लिए अब भटकना नहीं पड़ेगा। जिला अस्पताल में एक सप्ताह में सीटी स्कैन शुरू हो जाएगी। यह मशीन पुराने मेटरनिटी वार्ड के ऑपरेशन थियेटर के पास ड्रेसिंग रूम में लगेगी। एजेंसी को स्टॉलेशन का काम सौंप दिया है। यहां के पुराने भवन को तोड़कर मरम्मत चल रही है। इसके बाद एजेंसी मशीन इंस्टॉलेशन करेगी।

फिलहाल शहर के निजी अस्पताल व एक अन्य स्थान पर ही जांच की सुविधा है। इसके अलावा बच्चों में संक्रमण बढ़ने से रोकने के लिए 1000 ईजीजी इंजेक्शन भी बुलाए गए हैं। दूसरी लहर में एचआर सीटी की जांच करवाने के लिए मरीजों को 4 से 5 दिन का इंतजार करना पड़ा था।

समय पर जांच व इलाज शुरू नहीं होने से कई मरीजों में संक्रमण की स्थिति बढ़ी। अब तीसरी लहर में फिर यह स्थिति न बने इसलिए स्वास्थ्य विभाग ने मशीन लगाने का प्रस्ताव भेजा था। निजी अस्पताल में सीटी स्कैन की जांच में शुरुआत में 5 से 6 हजार रुपए शुल्क चुकाना पड़ा था। अधिक शुल्क की शिकायत के बाद प्रशासन ने 3000 रुपए शुल्क निर्धारित किया। जबकि जिला अस्पताल में यह जांच मात्र 600 रुपए के शुल्क में हो सकेगी।

यह फायदा होगा

  • बच्चों व अन्य संक्रमितों की जरूरत पर जांच होगी।
  • दुर्घटना में घायलों की भी जांच की जा सकेगी।
  • बाजार की तुलना में 20 प्रतिशत खर्च लगेगा।

इन सुविधाओं पर भी शुरू हुआ काम
एक : पीडियाट्रिक आईसीयू का निर्माण शुरू : आरएमओ डॉ. दिलीप सेप्टा ने बताया अस्पताल के कोविड सेंटर के पास प्रस्तावित पीडियाट्रिक आईसीयू का काम गुरुवार से शुरू होगा। एक माह में काम पूरा करने का लक्ष्य है। एनएचएम भोपाल से संसाधन उपलब्ध करवाए जाएंगे।

दो : ईको मशीन से जांचेंगे दिल की गतिविधि : कोरोना मानव शरीर की एंटीबॉडी के साथ अन्य ऑर्गन पर भी बुरा असर डालता है। तीसरी लहर में बच्चों के संक्रमित होने पर हार्ट से जुड़ी समस्या बढ़ने की भी आशंका है। यहां जल्द ईको मशीन की सुविधा भी मिलेगी।

कोविड आईसीयू का कंट्रोल पैनल बदला, लीकेज ढूंढकर किया वेंटिलेटर दुरुस्त
कोविड आईसीयू का कंट्रोल पैनल बदला, लीकेज ढूंढकर किया वेंटिलेटर दुरुस्त

अस्पताल के कोविड आईसीयू व एक अन्य आईसीयू में ऑक्सीजन लाइन से सप्लाय शुरू हुआ है। कोविड आईसीयू में मई माह में आग लगी थी। मरीजों को एचडीयू में शिफ्ट करना पड़ा था। पिछले एक माह से सिलेंडर के माध्यम से गंभीर मरीजों को ऑक्सीजन दी जा रही थी।

कंट्राेल पेनल बदलने के बाद अब आईसीयू व एचडीयू में लाइन से सप्लाय शुरू हुआ है। एक अन्य आईसीयू की लाइन में भी खराबी थी। तीन माह से दो वेंटिलेटर बंद थे। इंजीनियर सुरूचि परते ने बताया फ्लो मीटर में खराबी से समस्या आ रही थी। दिक्कत को दूर कर दिया है।

खबरें और भी हैं...