कलेक्टर को अनुरोध पत्र:पीएम आपदा राहत कोष में जमा करें 3 करोड़ की संपत्ति, बहन की मौत के बाद भाई ने कलेक्टर को लिखा पत्र

खरगोन6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

शासकीय कन्या मावि क्रमांक 2 से सेवानिवृत्ति प्रधानपाठक अरुणा यादव का 21 अप्रैल को उज्जैन के अस्पताल में इलाज के दौरान निधन हो गया। उनके निधन के बाद उनकी चल-अचल संपत्ति प्रधानमंत्री आपदा राहत कोष में देने के लिए भाई सेवानिवृत्त प्राचार्य अजय नारमदेव ने कलेक्टर को अनुरोध पत्र लिखा है।

नारमदेव ने बताया बहन अरुणा का दूसरा विवाह 1991 में उज्जैन निवासी पीएन यादव से हुआ था। विवाह के बाद 21 दिसंबर 91 को ही पीएन यादव ने नोटरी करवाकर शपथपत्र में घोषणा की थी कि उनकी पत्नी की चल-अचल संपत्ति पर उनका व उनके बेटों का कोई अधिकार नहीं होगा। पत्नी अरुणा इस संपत्ति को किसी को भी दे या दान कर सकती है।

नारमदेव ने बताया बहन अरुणा का खरगोन, उज्जैन व झाबुआ में मकान है। बैंकों में जमा राशि, वाहन, जेवर, गृहोपयोगी सामान, पेंशन आदि करीब 3 करोड़ रुपए की संपत्ति है। उन्होंने कहा बहन की भावना अनुरूप उसकी चल-अचल संपत्ति की गणना कर दान राशि जल्द प्रधानमंत्री तक भेजें और इस राशि का आपदाओं में रचनात्मक उपयोग हो।

खबरें और भी हैं...