पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कपास के पौधे सिकुड़े:कीटनाशक छिड़काव का भी असर नहीं, देवली के किसान ने 20 दिन पहले 15 पैकेट बीज लगाया था

खरगोन12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

ग्राम देवली के किसान गोवर्धन भाई ने 20 मई को अपने खेत में कंपनी विशेष का 15 पैकेट कपास बीज लगाया। इस पर करीब 11 हजार रुपए खर्च आया। बीज अंकुरित हुआ। लेकिन 20 दिन में ही पौधों के पत्ते सिकुड़ने लग गए। इससे बचाव के लिए दवाई का छिड़काव भी किया। लेकिन इसका असर नहीं हो रहा है। किसान ने कहा कृषि वैज्ञानिक कहते हैं कि 40 से 45 दिन की फसल होने के बाद ही दवाई का स्प्रे करना चाहिए।

किसान ने बताया आसपास के गांवों में भी ऐसी स्थिति बन रही है। बीज कंपनी व व्यापारी ने लाभ कमा लिया और किसान ठगा गए। फसल खराब होने पर व्यापारी, कंपनी कर्मचारी व कृषि विभाग का अमला निरीक्षण करने तक नहीं पहुंचा। देवली के दशरथ राठौर, कोठा के जगदीश कुमावत, रामप्रसाद हरिनारायण कर्मा, सौभाग सिंह गहलोत आदि ने कहा कृषि अफसरों से फसल का निरीक्षण कर बीज व कीटनाशक खर्च हुई राशि दिलाने की मांग की।

खबरें और भी हैं...