पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

हो रहा अनलॉक:कल सुबह 6 बजे तक रहेगा लॉकडाउन, फिर खुलेगी मंडी, आज होगा निर्णय

खरगोन13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • 1 जून से धीरे-धीरे सेवाएं बहाल होंगी, ऑफिसों में कर्मचारी बढ़ेंगे
  • लेकिन अब भी सतर्क रहने की जरूरत, लापरवाही पड़ेगी भारी

प्रदेश में अनलॉक के साथ शहर में भी 1 जून से कुछ सेवाएं बहाल होने लगेंगी। सुबह तक लॉकडाउन रहेगा उसके बाद मंडियों में सुरक्षात्मक उपायों के साथ कामकाज शुरू होगा। एक वाहन के साथ एक ड्रायवर व व्यक्ति उपज लेकर मंडी आएंगे। बिना मास्क के व्यापारियों, किसानों व हम्माल-तुलावटियों को मंडी प्रांगण में प्रवेश नहीं मिलेगा।

हालांकि कोरोना के संक्रमण को देखते हुए लॉकडाउन की अवधि 1 जून की सुबह 6 बजे तक बढ़ा दी गई है। अपर कलेक्टर बीएस सोलंकी ने आदेश जारी कर दिए हैं। पूर्व में कोरोना कर्फ्यू 31 मई सुबह 6 बजे तक लागू रहने के आदेश दिए थे। सोमवार सुबह लॉकडाउन खत्म होने के बाद कृषि उपज मंडी में नीलामी शुरू होगी। मंडी सचिव रामवीर किरार ने बताया कि बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए मंडी में नीलामी बंद की गई थी। कोरोना की स्थिति सामान्य होने व किसानों की सुविधा को देखते हुए सोमवार से नीलामी फिर शुरू की जा रही है।

1 जून से अन्य गतिविधियां खुलने को लेकर 31 मई को जिला संकट प्रबंधन समूह की बैठक में तय होगा। सुबह 11 बजे यह बैठक कलेक्टोरेट में होगी। इसमें जिले की स्थितियों पर विचार विमर्श कर सहूलियत व प्रतिबंध लगाने संबंधी निर्णय लिए जाएंगे।

50% कर्मचारियों के साथ खुलेंगे ऑफिस
जरूरी सेवाएं दे रहे कार्यालयों को छोड़कर बाकी कार्यालय 100 प्रतिशत अधिकारियों व 50 प्रतिशत कर्मचारियों के साथ शुरू होंगे। इस संबंध में सामान्य प्रशासन विभाग के अवर सचिव सुनील मडावी ने आदेश जारी कर दिए हैं।

जारी आदेशानुसार अत्यावश्यक सेवाओं में जिला कलेक्ट्रेट, पुलिस, आपदा प्रबंधन, फायर, स्वास्थ्य व चिकित्सा शिक्षा, जेल, राजस्व, पेयजल आपूर्ति, नगरीय प्रशासन, ग्रामीण विकास, विद्युत प्रदाय, सार्वजनिक परिवहन, कोषालय एवं पंजीयन सम्मिलित हैं। इसके अलावा जरूरी सेवाएं कलेक्टर तय कर सकेंगे। यह आदेश 15 जून तक प्रभावशील रहेंगे।

दुकानदार लगाएंगे टीके का प्रमाण पत्र
कलेक्टर अनुग्रहा पी ने कहा कि प्रशासन के साथ विक्रेता, दुकान संचालक, संस्थान या हाथ ठेले वाले की भी नैतिक जिम्मेदारी होना चाहिए है कि वे अपने उपभोक्ता या ग्राहक को संक्रमित करने से बचाएं। इसलिए अपने प्रतिष्ठानों पर टीके का प्रमाण पत्र चस्पा करें। इससे ग्राहक संक्रमण से निश्चिंत होगा। प्रशासन को भी अगली योजना बनाने में मदद मिलेगी। सभी वर्क प्लेस के लोगों का टीकाकरण सुनिश्चित कर रहे हैं।

खबरें और भी हैं...