पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

इंदौर-इच्छापुर हाईवे:डेढ़ माह पहले जहां किया था पैचवर्क, वहीं पर दोबारा हो गए गड्‌ढे, हादसे का डर

खरगोन7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • एनएचआई ने इंदौर से लेकर देशगांव तक कराया था रोड का काम

इंदौर-इच्छापुर हाईवे पर हुए गड्‌ढों से राहत देने के लिए डेढ़ माह पहले एनएचआई ने गड्‌ढों को खोद कर पैचवर्क का काम कराया था लेकिन बारिश के शुरू होते ही कई स्थानों पर वापस गड्‌ढे होना शुरू हो चुके हैं। तेज बारिश के बाद पुराने गड्‌ढे वापस दिखाई देने लगेंगे। इससे हाईवे पर सफर करने वाले यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ेगा। गड्‌ढों को बचाने के कारण दोबारा हादसों का डर बना रहेगा।

नेशनल हाईवे ने इंदौर से लेकर देशगांव तक हाईवे पर हुए गड्‌ढों को भराकर डामरीकरण किया था लेकिन अब थोड़ी सी बारिश में ही गड्‌ढे दोबारा होने लग गए हैं। सनावद में खंडवा रोड स्थित कब्रिस्तान के पास सड़क पूरी तरह से जर्जर हो गई थी। नाली का निर्माण नहीं होने से पूरे हाईवे पर पानी भरा रहता था। इसके कारण आए दिन हादसे हो रहे थे। ट्रकों के पलटने का डर बना रहता था। लोगों की मांग के बाद नेशनल हाईवे बाकुंड नदी से लेकर पुराने ट्रेंचिंग गाउंड तक पूरे मांग की खुदाई कर वहां पर भराव भरकर डामरीकरण किया गया था। इससे यहां से गुजरने वाले लोगों व रहवासियों को सुविधा मिली थी लेकिन अब इस मार्ग पर तीन से चार बड़े गड्‌ढे हो गए हैं। इससे बचकर लोग सफर कर रहे हैं। समय रहते इन गड्‌ढों को नहीं भरा गया तो पहले की तरह पूरा मार्ग जर्जर हो जाएगा। यहां पर दोबारा हादसों की संख्या में वृद्धि होगी।

हाईवे पर मिट्‌टी से साइड पटरी भरने पर दुर्घटनाग्रस्त हो रहे वाहन चालक

मुरुम के बदले मिट्‌टी से भरी साइड पटरी, फिसलन बढ़ी

सनावद से देशगांव के बीच बने हाईवे पर सड़क व साइड पटरी का अंतर बढ़ गया था। इससे वाहन चालक को वाहन उतारने के दौरान हादसे का शिकार होना पड़ रहा था। इसके लिए नेशनल हाईवे ने साइड पटरी भरने का काम किया लेकिन मुरुम के स्थान पर पूरे हाईवे किनारे मिट्‌टी डाल दी गई है। इसके कारण यहां से गुजरने वाले दोपहिया वाहन चालक फिसलने से दुर्घटनाग्रस्त हो रहे हैं।

वाहन चालकों ने बताया बारिश के बाद मिट्‌टी हाईवे पर जमा हो गई है। इसके कारण कई स्थानों पर घुमावदार मार्ग होने से लोगों के वाहन फिसल रहे हैं। मिट्‌टी के कारण सड़क चिकनी हो गई है, जबकि विभाग को यहां पर मुरुम का उपयोग करना चाहिए था। विभाग की लापरवाही के कारण लोग दुर्घटनाग्रस्त हो रहे हैं।

गड्‌ढों के कारण बारिश में होंगे हादसे

आगामी दिनों में सावन माह शुरू होने वाला है। इसके कारण आसपास के जिलों सहित अन्य राज्याें से लोग ओंकारेश्वर दर्शन व नर्मदा स्नान के लिए पहुंचेंगे। यातायात का दबाव बढ़ने के कारण हाईवे पर हुए गड्‌ढों मे वृद्धि हो जाएगी। बारिश में गड्‌ढों में पानी जमा होने से वाहन चालक भी हादसों के शिकार होंगे। लोगों ने एनएचआई से इन गड्‌ढों को भरकर राहत देने की मांग की है।

दौड़वा में पूरी सड़क हुई जर्जर, हो गए हैं बड़े-बड़े गड्‌ढे

दौड़वा गांव से गुजर रहा हाईवे पूरी तरह से जर्जर हो गया है। इसके कारण यहां से गुजरने वाले वाहनों को दुर्घटना होने का डर बना रहता है। यहां पर कई स्थानों पर बड़े-बड़े गड्‌ढे हो गए है। इसके कारण बड़े वाहनों के पूरे पहिए ही धंस जाते हैं। इससे वाहनों को नुकसान पहुंचने का डर बना रहता है। गड्‌ढों को बचाने के कारण कई बार वाहन फंस जाते हैं। इससे गांव में जाम की स्थिति बनी रहती है। पानी निकासी की व्यवस्था नहीं होने से हाईवे पर ही पानी जमा हो जाता है।

जिस ठेकेदार ने पैचवर्क का काम किया है। उससे पैचवर्क वाले स्थानों पर हुए गड्‌ढों को सर्वे कराकर दोबारा भराया जाएगा। साइड पटरी भरने के लिए जिसे ठेका दिया था। उसका पेमेंट रोक लिया है। साथ ही उसे नोटिस भी जारी कर दिया गया है।
-रामोराव दाडे, डीजीएम एनएचआई

खबरें और भी हैं...