पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बीमारी बड़ी संसाधन बौने:वेंटिलेटर नहीं मिलने से महिला की मौत, 23 गंभीर में से 11 को जरुरत

खरगोन14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • वैक्सीन, आरएटी, कर्मचारियों सहित बजट की कमी बन रही बाधा

जिले के बड़े सरकारी अस्पताल में कोरोना मरीज लगातार बढ़ रहे हैं। फिलहाल 23 गंभीर हैं। उन्हें तत्काल वेंटिलेटर चाहिए। वेंटिलेटर 12 ही है। 11 मरीज वेटिंग में है। रविवार रात को दो दिन से भर्ती गोगावां की 80 वर्षीय बुजुर्ग महिला की सांस फूलने लगी। कोरोना टेस्ट ले लिया। रिपोर्ट के पहले महिला ने दम तोड़ दिया है। गंभीर मरीजों को इंदौर के निजी अस्पतालों में ले जा रहे हैं। शहर के 3 निजी अस्पतालों में 20 से ज्यादा संक्रमित व संदिग्ध मरीज भर्ती है। परिजनों ने वेंटिलेटर उपलब्ध न होने का आरोप लगाया लेकिन सीएमएचओ डॉ सुदेश सरल का कहना है महिला बुजुर्ग थीं। इम्युनिटी कमजोर थी। वेंटिलेटर न मिलने से मौत की बात सही नहीं है। बीते 24 घंटे में 75 नए कोरोना मरीज मिले हैं। जबकि 59 स्वस्थ होकर घर लौटे। अब जिले में कोरोना से संक्रमित कुल 6781 मरीज हो गए हैं। इनमें 6162 मरीज डिस्चार्ज हो चुके है। 121 लोगों की मृत्यु हो चुकी है। 498 मरीज स्थिर है।

आईसीयू में फिलहाल 12 गंभीर मरीज भर्ती

^आईसीयू में 12 बेड पर गंभीर मरीज भर्ती हैं। इसके अलावा 23 संक्रमित मरीज वार्ड में है। रैनबसेरा में भी बेड लगाए हैं। आईसीयू में बेड बढ़ाने के प्रयास कर रहे हैं। -डॉ. दिव्येश वर्मा, सिविल सर्जन

टीके लगवाने भीड़ बढ़ी, शारीरिक दूरी घटी

शहर में 33 वार्डों में शिविर लगाने के दावे से पहले सोमवार को जिला मुख्यालय के एकमात्र केंद्र पर वैक्सीन लगवाने के दौरान शारीरिक दूरी घट गई। 45 साल से अधिक उम्र के लोगों ने कतार में पहुंचे। भीड़ बढ़ने से सुरक्षा व्यवस्था लगाना पड़ी। टीका लगवाने के बाद किसी भी नहीं रोका। कम कर्मचारी होने से दबाव बढ़ा। नोडल अधिकारी डाॅ. सुनील वर्मा ने बताया शहर में सिर्फ पुराना अस्पताल परिसर में ही केंद्र हाेने से भीड़ हुई।

आरएटी टेस्ट : शहर में गंभीर के नहीं, गांव में सामान्य का हो रहा
जिला अस्पताल में गंभीर मरीजों की आरएटी (रैपिड एंटीजन टेस्ट) नहीं किया जा रहा है। क्योंकि रेपिड किट की कमी है। इसके उलट गांवों में सामान्य व्यक्ति का आरएटी टेस्ट हो रहा है। लोगों का कहना है कि इस जांच में केवल 20 मिनट लगते हैं। यह जांच होने लगे तो गंभीर मरीजों का कोरोना संक्रमण का जल्दी पता हो जाए। जिले को रोज 200 टेस्ट के हिसाब से किट मिल रही है। एक किट की 25 चीप होती है। जिलेभर में रोजाना 400 से 500 से ज्यादा जांचें जरूरी है। आरटीपीसीआर टेस्ट में 12 से 16 घंटे लगते हैं। ​​​​​​​

वैक्सीन : 15000 नए डोज मिले
जिला टीकाकरण अधिकारी डा. संजय भट्ट ने बताया कि जिले को रविवार शाम 15 हजार कोरोना वैक्सीन की डोज मिली। सोमवार को जिले में 45 केंद्रों पर 5500 से अधिक लोगों को वैक्सीन लगाई गई।​​​​​​​

पर्याप्त साधन नहीं
जिला अस्पताल में आईसीयू 16 जनवरी से बंद कर दिया गया था। एक सप्ताह से खुला है तो पर्याप्त सुविधा नहीं है। वेंटिलेटर की कमी से लोग जान गंवा रहे हैं। सरकार को तत्काल आईसीयू के लिए 10 और वेंटिलेटर देना चाहिए।
- रवि जोशी, विधायक,खरगोन​​​​​​​

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- कुछ रचनात्मक तथा सामाजिक कार्यों में आपका अधिकतर समय व्यतीत होगा। मीडिया तथा संपर्क सूत्रों संबंधी गतिविधियों में अपना विशेष ध्यान केंद्रित रखें, आपको कोई महत्वपूर्ण सूचना मिल सकती हैं। अनुभव...

    और पढ़ें