पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अच्छी खबर:कैनो सलालम की खेल एकेडमी को 25 एकड़ जमीन मिली, सीमांकन पूरा

महेश्वर6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • वाटर स्पोर्ट्स : होस्टल, जीम, बोट हाउस व खेल मैदान बनने से मिलेगा बढ़ावा,नवंबर-दिसंबर में संभावित नेशनल चैंपियनशिप की तैयारी शुरू

मप्र वाटर स्पोर्ट्स एकेडमी भोपाल की कुछ माह पहले स्थानीय स्तर पर खुली कैनो सलालम शाखा के लिए की गई 25 एकड़ सरकारी जमीन की मांग पूरी हो चुकी है। नर्मदा किनारे भूमि का चयन कर सीमांकन भी पूरा कर लिया गया है। मप्र खेल संचालनालय के अफसरों के निर्देश पर आगामी समय में यहां खिलाड़ियों (युवक-युवतियों) के लिए अलग-अलग होस्टल, जीम, बोट हाउस व खेल मैदान का निर्माण होगा।

इससे खिलाड़ी इस खेल के माध्यम से आगे बढ़ सकेंगे। नर्मदा नदी के फ्लेट व व्हाइट वाटर में खिलाड़ियों को प्रशिक्षित करने में कोच भी किसी प्रकार की कमी नहीं रख रहे हैं। यहां सहस्रधारा स्थित नेशनल ट्रैक पर 5 साल पहले 11 मार्च 2016 को खेल मंत्री यशोधराराजे सिंधिया ने कैनो सलालम कोर्स का उद्घाटन किया था। तब से लेकर अब तक यहां 8 नेशनल चैंपियनशिप हो चुकी है।

9वीं चैंपियनशिप की तैयारी शुरू : आगामी नवंबर व दिसंबर माह में यहां 9वीं राष्ट्रीय चैंपियनशिप की संभावना जताई जा रही है। इसमें खेल मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया के शामिल होने की बात भी सामने आ रही है। चैंपियनशिप को लेकर खिलाड़ी तैयारी में जुट गए हैं। विश्वामित्र अवार्डी देवेंद्र गुप्ता, विक्रम अवार्ड 2020 से सम्मानित प्रिंस परमार व एशियन गेम्स की सीनियर खिलाड़ी चंपा मौर्य एकेडमी के खिलाड़ियों को प्रशिक्षण दे रही हैं। प्रशिक्षक गुप्ता ने बताया एकेडमी के 10 युवक व 3 युवतियां नियमित रूप से अभ्यास कर रही है। रोजाना सुबह-शाम 3-3 घंटे नर्मदा के फ्लेट वाटर में बोट चलाकर अभ्यास के साथ एक्सरसाइज की जा रही है।

नर्मदा के तेज व हल्के बहाव के कारण मिली मान्यता
कयाकिंग-केनोइंग के तहत स्प्रिंट, सेलिंग व रोइंग प्रतियोगिताएं फ्लेट वाटर में होती है। यह भोपाल, ग्वालियर, दतिया जैसे स्थानों पर तालाब में होती है। महेश्वर में नर्मदा नदी का जल एक जैसा स्थिर नहीं है। इसलिए यह तीनों कोर्स की एकेडमी यहां खोलना संभव नहीं था। कैनो सलालम तेज व हल्के बहाव में होता है। यहां नर्मदा के जल में यह दोनों स्थितियां होने से कैनो सलालम कोर्स के लिए यह स्थान बहुत ही उपयुक्त है।

विक्रम अवार्डी को सरकारी नौकरी का प्रावधान
इस खेल में विक्रम अवार्ड प्राप्त करने वाले खिलाड़ियों के लिए सरकारी नौकरी का प्रावधान है। कोच गुप्ता ने बताया वर्ष 2020 के विक्रम अवार्डी प्रिंस परमार को एलडीसी के पद पर किसी भी विभाग में सरकारी नौकरी मिलेगी। वे शासन के नियमों के अनुसार डॉक्यूमेंट एकत्रित कर उपलब्ध करवा रहे हैं।

25 एकड़ भूमि का सीमांकन करवाकर एकेडमी को सौंप दी है। वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देशानुसार आगे की कार्रवाई सुनिश्चित की जाएगी। -पवी दुबे, जिला खेल अधिकारी

खबरें और भी हैं...