रोक-टोक नहीं:बड़वी व गढ़ी चेक पोस्ट पर शिक्षक स्वास्थ्य कर्मचारी बन कर रहे जांच, बढ़ रहा संक्रमण

महेश्वर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बड़वी चेक पोस्ट पर वाहनों की रोक नहीं हो रही है। - Dainik Bhaskar
बड़वी चेक पोस्ट पर वाहनों की रोक नहीं हो रही है।
  • दो शिक्षकों से नहीं रुक रहे वाहन, पुलिस व स्वास्थ्य कर्मचारी की तैनाती जरूरी

नगर से 8 किलोमीटर दूर ग्राम बड़वी चेक पोस्ट। गुरुवार को सुबह 9.30 बजे का समय। चेक पोस्ट से धार व इंदौर की ओर से सैकड़ों वाहन जिले की सीमा में प्रवेश कर रहे हैं। चेक पोस्ट पर ड्यूटी पर पुलिस तैनात नहीं है। इससे वाहन नहीं रुक रहे हैं। इसके अलावा स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी भी तैनात नहीं है। केवल शिक्षक ड्यूटी कर रहे हैं। शिक्षकों से न वाहन रुक रहे हैं न ही उन्हें जांच करते आ रही है। इस लापरवाही के कारण लगातार महेश्वर सहित जिलेभर में संक्रमण बढ़ रहा है।

ड्यूटी पर शिक्षक कर्मचारी सुरेश पटेल राजाराम मंडलोई व भारतसिंह ठाकुर बड़वी चेक पोस्ट पर ड्यूटी पर थे लेकिन कर्मचारियों के साथ स्वास्थ्यकर्मी कोई भी उपस्थित नहीं थे। वहीं पुलिस कर्मचारी भी एक घंटे देर से पहुंचे। शिक्षकों की मजबूरी यह है कि उनके पास खाकी वर्दी नहीं है जो कोई वाहन चालक रुक जाए। साथ ही थर्मल स्क्रीनिंग मशीन व पल्समीटर से जांच करते नहीं आती है।

मशीन भी खराब, तापमान गलत बताती है

कर्मचारियों के पास कुछ दिनों पहले थर्मल स्क्रीनिंग शरीर का तापमान जांच के लिए मशीन दी गई थी। यह मशीन किसी काम की नहीं है क्योंकि मशीन कभी व्यक्ति का तापमान सही नहीं बता पा रही है। कभी 80 तो कभी 95 तापमान बता रही है। ऐसे में सही जानकारी सामने नहीं आ रही है। मजबूरी में शिक्षक ही स्वास्थ्य कर्मचारी बनकर जांच कर रहे हैं।

यहां भी परेशानी : इंदौर से भी आ-जा रहे वाहन, कोई रोक नहीं

ऐसे ही हालत नगर से 18 किलोमीटर दूर ग्राम गढ़ी चेक पोस्ट पर भी बनी हुई है। यहां दोपहर में तैनात शिक्षक कर्मचारी अपनी ड्यूटी कर रहे हैं, लेकिन स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी नहीं है। शिक्षक कर्मचारियों के पास भी स्वास्थ्य संबंधी जांच के लिए किसी प्रकार से कोई उपकरण उपलब्ध नहीं है। यहां स्वास्थ्य कर्मचारी पहले तैनात था, लेकिन अब उनकी ड्यूटी दूसरी जगह लगाई है। यहां इंदौर से आने वाले वाहन सीधे गुजरी एबी रोड से ग्राम काकड़दा होते हुए ग्रामीण क्षेत्र गढ़ी से सीधे महेश्वर मंडलेश्वर सहित अन्य ग्रामीण क्षेत्रों में निकल जाते हैं।

ग्रामीण क्षेत्रों में लगाई गई चेक पोस्ट पर विशेष जांच नहीं होने के कारण धार व इंदौर जिले सहित अन्य क्षेत्रों से आने वाले वाहन भी ग्रामीण मार्ग का सहारा लेकर सीमा में प्रवेश कर रहे हैं। यदि इनकी जांच चेक पोस्ट पर हो जाए तो स्थानीय तहसील स्तर पर भी कोरोना मरीज की संख्या में कमी जरूर आएगी। ग्राम गढ़ी के समाजसेवी भीमसिंह ठाकुर का कहना है कि ड्यूटी पर तैनात कर्मचारियों को स्वास्थ्य संबंधी जांच किट उपलब्ध कराना चाहिए। इससे प्रवेश करने वालों के स्वास्थ्य की जांच हो सके। कोरोना जैसी महामारी फैलने में भी कमी आएगी।

एक सप्ताह से जांच नहीं, पहले रोज 20 सैंपल लेते थे

एक सप्ताह से रैबिज एंटीजन टेस्ट भी नहीं हो रहे हैं। इससे संक्रमण बढ़ रहा है। पहले रोजाना 15 से 20 लोगों के सैंपल लिए जाते थे। इन सैंपलों मंे से 3 से 5 लोग संक्रमित मिलते थे। अब जांच नहीं हो रही है। लोगों ने कहा कि संक्रमण रोकने के लिए रोज जांच व सैंपलिंग होना चाहिए। साथ ही गाइड लाइन का पूरा पालन कराना चाहिए।

ये बोले जिम्मेदार

कोविड सेंटर में लगाई है ड्यूटी, जल्द लगाएंगे

अभी कुछ दिनों से चेक पोस्ट से स्वास्थ्य कर्मचारियों को हटा दिया है। इनकी ड्यूटी कोविड केयर सेंटर व अन्य स्वास्थ्य संबंधी कार्यक्रम में लगाई है। जल्द कर्मचारी तैनात करेंगे।
डॉ. विमल वंदावड़े, बीएमओ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र महेश्वर

जल्द किट देंगे

स्वास्थ्य विभाग की टीम को चेक पोस्ट से हटाकर वर्तमान में गांव -गांव कोरोना कील अभियान में लगाया है। साथ ही चेक पोस्ट पर अन्य कर्मचारी ड्यूटी कर रहे हैंं। जल्द जांच किट देंगे।
विवेक सोनकर, तहसीलदार महेश्वर।

दोनों चेकपोस्ट का निरीक्षण करूंगा

पुलिस कर्मचारी चेक पोस्ट पर ड्यूटी कर रहे हैं। मैं स्वयं भी दोनों चेकपोस्ट का निरीक्षण कर पुलिस कर्मचारियों को निर्देशित करूंगा।
डीआरएस चौहान, एसडीओपी महेश्वर

खबरें और भी हैं...