बैठक / 5 दिन के अंतराल में नप ने दूसरी बार बुलाई विशेष सम्मेलन की बैठक

X

  • विवादित प्रस्ताव पर उपाध्यक्ष व पार्षद ने कलेक्टर को दर्ज कराया विरोध

दैनिक भास्कर

Jul 01, 2020, 04:02 AM IST

मंडलेश्वर. 5 दिन के अंतराल में नगर परिषद ने 3 प्रस्तावों को लेकर दूसरी बार विशेष सम्मेलन की बैठक रही है। 2 जुलाई को परिषद का विशेष सम्मेलन आमंत्रित किया है। 27 मई को नप की सामान्य बैठक हुई थी। इसमें विभिन्न प्रस्तावों पर परिषद ने मुहर लगाई। 5 दिन बाद फिर से विशेष सम्मेलन के नाम से बैठक आमंत्रित की जा रही है। जनप्रतिनिधियों ने बताया प्रस्तावों को 27 मई की बैठक में समाहित किया जा सकता था।
नप के सूचना पटल पर चस्पा विषय सूची के अनुसार प्रस्तावों में लाइब्रेरी से फिल्टर प्लांट तक सीसी रोड निर्माण,नगर के सभी वार्डों में सीसी रोड, सीसी नाला, अन्य निर्माण व सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट के तहत किए जा रहे अव्यवस्थित कार्यों में निर्वाचित पार्षद व अन्य जनता के विरोध में संबंधित फर्म को ब्लैक लिस्ट किए जाने के प्रस्ताव रखे जाएंगे। विशेष सम्मेलन प्रस्तावों को लेकर नप उपाध्यक्ष श्याम मेवाड़े ने विरोध दर्ज कराते हुए कलेक्टर को शिकायती आवेदन भेजा है।
3 में से 1 प्रस्ताव विवादित, नप उपाध्यक्ष ने दर्ज कराया विरोध
नप उपाध्यक्ष श्याम मेवाड़े ने बताया विशेष सम्मेलन में 3 प्रस्तावों पर चर्चा होना है। इसमें से एक प्रस्ताव विवादित है। पार्षद समीर जैन व पार्षद प्रतिनिधि रईस कुरैशी ने तीसरे प्रस्ताव में सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट की निर्माण फर्म में प्रोफेशनल इंजीनियरिंग कंपनी लिमिटेड को प्रतिबंधित कर ब्लैक लिस्ट करने संबंधी प्रस्ताव के संबंध में नप अध्यक्षा मनीषा मनोज शर्मा व सीएमओ प्रियंक पंड्या ने पार्षदों को गुमराह कर विशेष सम्मेलन आमंत्रित करने के संबंध में कलेक्टर को लिखित शिकायत की है। शिकायत के माध्यम से बताया नप ने कार्यक्षेत्र के बाहर जाकर निर्माण एजेंसी को ब्लैक लिस्ट करने का प्रस्ताव लाया जा रहा है। सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट की लाइन डालने के पूर्व नगर में कोई भी सीसी रोड निर्माण नहीं होना चाहिए। अन्य निर्माण कार्यो पर रोक लगाते हुए मप्र शासन की योजना सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट की पाइप लाइन का कार्य निर्बाध रूप से जारी रखा जाए।
नप के अधिकार क्षेत्र में नहीं है ब्लैक लिस्ट करना
निर्माण कंपनी को ब्लैक लिस्ट करने संबंधी प्रस्ताव नप के अधिकार क्षेत्र में नहीं आता। प्रोफेशनल इंजीनियरिंग को काम का ठेका एमपीयूडीसीएल ने दिया है। हम उनके कार्य की गुणवत्ता जांच रहे हैं। नप मंडलेश्वर ने आज तक निर्माण फर्म को पिछले 2 वर्षों में ट्रीटमेंट प्लांट के लिए स्थान उपलब्ध नहीं कराया है। ऐसी परिस्थिति में कार्य को गति प्रदान करना निर्माण फर्म के लिए परेशानी का काम है।
-वीके तिवारी, डिप्टी डायरेक्टर टेक्निकल एमपीयूडीसीएल

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना