समर्थन मूल्य:50 किलो गेहूं के साथ बारदान सहित 800 ग्राम अधिक तौल, प्रभारी बोले- सूखने से वजन कम होगा

मूंदी6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बुधवार दोपहर विधायक बेटे दीपक पटेल कृषि उपज मंडी प्रांगण में समर्थन मूल्य खरीदी केंद्र पहुंचे और व्यवस्थाओं का जायजा लिया। - Dainik Bhaskar
बुधवार दोपहर विधायक बेटे दीपक पटेल कृषि उपज मंडी प्रांगण में समर्थन मूल्य खरीदी केंद्र पहुंचे और व्यवस्थाओं का जायजा लिया।
  • खरीदी केंद्र पर उपज की चोरी, किसानों की शिकायत पर केंद्र पहुंचे विधायक के बेटे, हकीकत आई सामने

नगर के पटेल कृषि उपज मंडी प्रांगण में खरीदी केंद्र पर किसानों के सामने उनकी उपज की चोरी की जा रही है। खरीदी केंद्र के कर्मचारी व हम्माल 50 किलो गेहूं की उपज का बारदान सहित 800 ग्राम तौल अधिक कर रहे हैं, जबकि बारदान का वजन मात्र 600 ग्राम है। ऐसे में 50 किलो के साथ 200 ग्राम उपज का तौल अधिक हो रहा है। इसके अलावा कुछ किसानों को गेहूं के ढेर लगने के बावजूद टोकन नंबर समय पर नहीं मिल पा रहा है।

किसानों द्वारा ऐसी शिकायतें मिलने के बाद बुधवार दोपहर विधायक बेटे दीपक पटेल कृषि उपज मंडी प्रांगण में समर्थन मूल्य खरीदी केंद्र पहुंचे और व्यवस्थाओं का जायजा लिया। किसानों की शिकायत सुनने के बाद केंद्र प्रभारी से चर्चा तो उन्होंने कहा खरीदी केंद्र पर तौल के बाद 3 दिन तक उपज खरीदी केंद्र पर रहने से नमी वाला गेहूं सूखने से वजन कम हो जाता है। केंद्र प्रभारी का जवाब सुन विधायक के बेटे ने 50 किलो पर 800 की जगह 600 ग्राम तौलने की बात कही। इस पर केंद्र प्रभारी ने सहमति जताई।

नमी वाला गेहूं सूखने से वजन कम हो जाता है

खरीदी केंद्र प्रभारी राजेंद्र डोंगरे ने बताया केंद्र पर उपज की अधिक आवक व बारदान कमी और केंद्र प्रांगण से समय पर परिवहन नहीं हो पा रहा है। किसानों से 50 किलो तौल पर बारदान सहित 800 ग्राम लिया जा रहा है, क्योंकि खरीदी केंद्र पर तौल के बाद 3 दिन तक उपज खरीदी केंद्र पर रहने से नमी वाला गेहूं सूखने से वजन कम हो जाता है। गुरुवार से तौलकांटों की संख्या बढ़ाई जाएगी।

किसान बोले- खरीदी केंद्र पर रातभर उपज की चौकीदारी करते हैं

नगर के कृषि उपज मंडी प्रांगण स्थित उपार्जन केंद्र पर गेहूं की खरीदी की जा रही है। सरकार के आदेश हैं कि किसानों की उपज 400 ग्राम के बारदान में 50-50 किलो उपज का तौल करना है, लेकिन खरीदी केंद्रों पर आदेश का पालन नहीं हो रहा, तौल के दौरान किसानों की उपज चोरी की जा रही है। इसके अलावा खरीदी केंद्र पर अव्यवस्थाएं देखने को मिल रही हैं।

ग्राम जलवा बुजुर्ग के किसान दिलीप राठौर सहित अन्य ने बताया शनिवार को उपज लेकर खरीदी केंद्र आए थे, लेकिन अभी तक माल नहीं तौला गया। रात भर उपज की चौकीदारी करना पड़ रही है।

केंद्र भारी बोले- किसानों की समस्या का करेंगे निराकरण

किसानों ने कहा खरीदी केंद्र पर माल की आवक अधिक होने के कारण टोकन नंबर भी समय पर नहीं मिल पा रहा है। किसानों ने विधायक के बेटे दीपक पटेल को समस्या बताई। किसानों ने तौल कांटे पर खाली बारदान का वजन कराया जो 400 ग्राम के आसपास निकला। इसके अलावा 50 किलो भरे गेहूं कट्टे का भी वजन कराया गया जो 50 किलो 800 ग्राम आया।

इस पर किसानों ने कहा 50 किलो तौल कट्टे पर 600 ग्राम गेहूं लेना चाहिए जबकि 200 ग्राम अधिक लिया जा रहा है। सभी किसानों की समस्या सुनने के बाद पटेल ने ब्रांच मैनेजर सीएल यादव और केंद्र प्रभारी राजेंद्र डोंगरे से चर्चा कर किसानों की समस्या निराकरण करने की बात कही।

सेवा सरकारी समिति कोहदड़ का मामला

डोंगरगांव, गांव की सेवा सरकारी समिति कोहदड़ द्वारा संचालित उचित मूल्य की दुकान के सेल्समैन पर ग्रामीणों ने कम राशन देने का आरोप लगाया है। गांव के शेख अरमान व पिंटया पिता कैलाश ने बताया सीएम के आदेश अनुसार सभी पात्र उपभोक्ताओं को 3 महीने का राशन निशुल्क दिया जा रहा है।

आदेश अनुसार 4 किलो गेहूं, 1 किलो चावल का प्रावधान था लेकिन हमें केवल 2.5 किलो गेहूं, 1 किलो चावल व 1 किलो बाजरा सहित 4.5 किलो अनाज दिया गया। जब सेल्समैन अजय पिता श्याम सुंदर पटेल ने बताया अप्रैल के अंत में आदेश आने के कारण अभी 2 माह का राशन दिया जा रहा है। इधर दुकान पर उपभोक्ताओं द्वारा कोरोना गाइडलाइन का पालन भी नहीं किया जा रहा है।

बुधवार को बड़ी संख्या में उपभोक्ता राशन लेने पहुंचे। इस दौरान लोग एक-दूसरे से सटकर खड़े नजर आए। कुछ लोगों ने तो मास्क भी नहीं लगाया। इससे संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ गया है। हैरानी की बात तो यह है कि सबकुछ जानने के बाद भी सेल्समैन द्वारा नियमों का पालन नहीं कराया जा रहा है। मामले में पंधाना जनपद सीईओ केएल सोलंकी ने बताया यदि ऐसा हो रहा है तो मैं सेल्समैन से बात करता हूं।

खबरें और भी हैं...