पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

अनदेखी:बोरसल व झांझर में अतिक्रमण निरोधी खंती खोदने में घपले का आरोप, वनरक्षक निलंबित

नेपानगरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • रिश्तेदारों और साथी कर्मचारियों के परिवार के सदस्यों के नाम से प्रमाणक तैयार करने का आरोप

वन विभाग के बोरसल बीट गार्ड और वनरक्षक राधू वास्कले को डीएफओ संध्या सिंह ने निलंबित कर दिया है। वास्कले पर आरोप है कि उसने अतिक्रमण निरोधी खंती खोदने में जालसाजी कर शासकीय राशि का गबन किया है। अपने और साथी कर्मचारियों के परिवार के सदस्यों के बोरसल बीट के कक्ष क्रमांक 192 और झांझर बीट के कक्ष क्रमांक 185, 188 तथा 189 में अतिक्रमण रोधी कार्य के प्रमाणक तैयार कर कार्यालय में प्रस्तुत किए। जबकि इसकी स्वीकृति नहीं थी। वहीं वनक्षरक वास्कले का कहना है वरिष्ठ अफसरों ने अतिक्रमण निरोधी खंती खुदवाने के लिए कहा था। इसके फोटोग्राफ्स भी विभाग को मुहैया कराए गए हैं।
वन परिक्षेत्र नेपानगर की बोरसल बीट के बीट गार्ड और वनरक्षक राधू वास्कले ने झांझर बीट के कक्ष क्रमांक 185, 188 और 189 के अतिक्रमण क्षेत्र में अतिक्रमण रोधी कार्य के तहत जल पुर्नभरण, गड्ढा खुदाई, खंती, कठोर मुरम में खंती खुदाई की ड्रेसिंग करने के प्रमाणक राशि 1.54 लाख 545 रुपए और 2.14 लाख 980 रुपए भुगतान के लिए वनमंडल कार्यालय बुरहानपुर को प्रस्तुत किए थे। ये प्रमाणक वास्कले और झांझर बीट के वनरक्षक तथा बीट गार्ड हेमराज राजोरिया ने तैयार किए थे।
खंदी खुदाई का किया निरीक्षण, प्रमाणों पर परिक्षेत्र सहायक के भी हैं हस्ताक्षर
राधू वास्कले ने कहा वरिष्ठ अधिकारियों ने मुझे खंती खुदवाने को कहा था। साथ ही लिखित आदेश भी दिखाया गया, लेकिन मुझे दिया नहीं गया। मौके पर खंती खुदवाई गई। इसके फोटो भी विभाग को दिखाए गए। जो प्रमाण तैयार किए गए हैं, उसमें निरीक्षण करने वाले चांदनी-बोरी के परिक्षेत्र सहायक विश्वनाथ चौधरी के भी हस्ताक्षर हैं। उन्होंने कहा अधिकारी मौके पर पहुंचकर निरीक्षण कर सकते हैं। परिवार के किसी भी सदस्य का नाम भुगतान पाने के लिए उपयोग नहीं गया गया। यह बात जरूर है कि मजदूर यहां नहीं मिलने पर अन्य जगह से बुलाए गए थे। तीन बार बेहतर काम करने पर पुरस्कार मिला चुके हैं, लेकिन अब न जाने क्यों ऐसा किया जा रहा है।

इधर...सोशल मीडिया पर सीसीएफ की हुई बुराई और डीएफओ की तारीफ
सोशल मीडिया पर मप्र वन कर्मचारी संघ के एक नेता ने लिखा है कि जिले में अवैध कटाई को लेकर वन अमले पर हमले की घटनाएं आम हैं। जो वनरक्षक दूर के जिले के निवासी हैं और बुरहानपुर में पदस्थ हैं, वे सजग हैं। खंडवा, सनावद, खरगोन, धार के निवासी वनरक्षक, रेंजर, एसडीओ और सीसीएफ वास्तव में अतिक्रमणकारियों से प्रताडि़त होते तो कब का स्थानांतरण करा चुके होते। उन्हें चरवाहों और अतिक्रमणकारियों से वन भूमि बेचने का पैसा मिलता है। सीसीएफ एसएस रावत को दो वर्ष में एक भी दिन जिले में भ्रमण और स्टाफ का मनोबल बढ़ाने का समय नहीं मिला। जबकि जिले में डीएफओ की उपस्थिति और निर्देशन में कई मुहिम चलाई जा चुकी हैं।

बिना इस्टीमेट और बजट आवंटन के कराया काम

विभाग की ओर से कहा गया है कि उक्त कार्य बिना बजट आवंटन और इस्टीमेट स्वीकृति के करा लिया गया। वन विभाग की ओर से 5 फरवरी 2020 को फोटो उपलब्ध कराने को कहा गया तो वन परिक्षेत्र अधिकारी इसमें असमर्थ रहे। बाद में श्रमिकों की सूची उपलब्ध कराई गई। लेकिन इसमें आधार कार्ड और बैंक पासबुक की छायाप्रति तो है, लेकिन राशि का उल्लेख नहीं है। साथ ही वनरक्षक वास्कले और हेमराज राजोरिया द्वारा तैयार किए गए प्रमाणकों में नानखेड़ा निवासी रामेश्वर नानका और 19 अन्य लोग, नेपानगर निवासी हरिकृष्ण और 25 अन्य लोगों के साथ में राधू वास्कले तथा वनरक्षक भारतसिंह वास्कले के परिवार के सदस्यों के नाम भी शामिल होना बताया गया है।

खंती खुदाई मामले में किया है निलंबित डीएफओ ने वनरक्षक को खंती खुदाई मामले में निलंबित किया है। अब वे अपनी ओर से पक्ष तो रखेंगे। जो भी स्थिति होगी वह जांच के बाद स्पष्ट हो जाएगी। -महेंद्रसिंह सोलंकी, एसडीओ वन परिक्षेत्र नेपानगर

0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- धार्मिक संस्थाओं में सेवा संबंधी कार्यों में आपका महत्वपूर्ण योगदान रहेगा। कहीं से मन मुताबिक पेमेंट आने से राहत महसूस होगी। सामाजिक दायरा बढ़ेगा और कई प्रकार की गतिविधियों में आज व्यस्तता बनी...

और पढ़ें