पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

पौधारोपण:टाकलखेड़ा में मियावाकी तकनीक से लगा रहे 2500 पौधे

खंडवा6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • समूह के सदस्य बोले- 25 हजार वर्गमीटर में रोपेंगे पौधे, 4 हजार पौधे लगाने का लक्ष्य
Advertisement
Advertisement

ग्राम टाकलखेड़ा में जापान की मियावाकी तकनीक से 20 हजार वर्गमीटर में 2500 पौधे लगाए जा रहे हैं। इस तकनीक के सहारे दो मीटर चौड़ी और 30 मीटर लंबी पट्टी में एक और आधे फीट के अंतराल से पौधे रोपे जाएंगे, जो दोगुनी रफ्तार से बढ़ेंगे। इससे जंगल तो बढ़ेगा, साथ ही पर्यावरण को लाभ मिलेगा। यह पौधे अॉक्सीजन बैंक की तरह काम करते हैं और बारिश को आकर्षित करने में भी सहायक होते हैं। मध्यप्रदेश डे राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन विकासखंड पंधाना के अंतर्गत संचालित ग्राम टाकलखेड़ा में उजाला आजीविका स्वयं सहायता समूह द्वारा एवं ऐफिकोर संस्था के सहयोग से 20 हजार वर्गमीटर में 20 प्रजातियों के पौधे लगाए जा रहे हैं। संस्था द्वारा 4 हजार पौधे लगाने का लक्ष्य है। इसके अलावा पौधे की सुरक्षा के लिए चारों और तार फेंसिंग भी किया गया है। एफिको संस्था के प्रोजेक्ट मैनेजर सेमसन युहान ने बताया पौधे लगाने का मुख्य उद्देश्य गांव में पर्यावरण संरक्षण को बढावा, वृक्षों को बढ़ाना है वातावरण को शुद्ध बनाना व साथ ही समूह की आय में बढ़ोत्तरी करना है। इस दौरान ग्राम नोडल किलरसिह जाधव, सुनिल खोटे, शिवलाल जाधव, प्रकाश जमरा मौजूद थे।

यह है मियावाकी तकनीक
2014 में बॉटनिस्ट अकीरा मियावाकी ने हिरोशिमा के समुद्री तट के किनारे पेड़ों की एक दीवार खड़ी की, जिससे न सिर्फ शहर को सुनामी से होने वाले नुकसान से बचाया जा सका, बल्कि दुनिया के सामने कम्युनिटी व घने पौधारोपण का एक नमूना भी पेश किया। इस तकनीक में महज आधे से एक फीट की दूरी पर पौधे रोपे जाते हैं। इसमें जीव अमृत और गोबर खाद का इस्तेमाल किया जाता है।
तकनीक के इस्तेमाल का तरीका... पीपल और बरगद जैसे पौधों के साथ कम ऊंचाई तक जाने वाले पौधे लगाए जाएं। पौधारोपण के समय जीवामृत और जैविक खाद का इस्तेमाल करें। पौधारोपण के बाद मिट्टी को पुरानी पत्तियों से ढंक दें।

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - अपने जनसंपर्क को और अधिक मजबूत करें। इनके द्वारा आपको चमत्कारिक रूप से भावी लक्ष्य की प्राप्ति होगी। और आपके आत्म सम्मान व आत्मविश्वास में भी वृद्धि होगी। नेगेटिव- ध्यान रखें कि किसी की बात...

और पढ़ें

Advertisement