पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

देरी:50 हजार विद्यार्थियों ने नहीं भरा क्रीड़ा शुल्क; खेल नहीं हुए, सामग्रियों पर धूल

खंडवा5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
स्कूलों में पड़ी खेल सामग्रियों पर धूल जम गई। - Dainik Bhaskar
स्कूलों में पड़ी खेल सामग्रियों पर धूल जम गई।

कोविड-19 के चलते शिक्षा विभाग विद्यार्थियों से फीस के साथ क्रीड़ा शुल्क नहीं वसूल पाया। संस्थाएं खेल सामग्री खरीद पाई ना ही कोई गतिविधियां हो सकीं। स्कूलों में पड़ी खेल सामग्रियों पर धूल जम गई। सरकारी स्कूलों में हर साल विद्यार्थियों से स्कूल फीस के साथ क्रीड़ा शुल्क, परीक्षा शुल्क सहित अन्य शुल्क लिया जाता है। जिले में 188 स्कूल हैं जिनमें 45 ट्रायबल के हैं।

इनमें पढ़ने वाले विद्यार्थियों की संख्या करीब 50 हजार है। स्कूल प्रबंधन 11वीं व 12वीं के विद्यार्थियों से 100 रु व 9वीं व 10वीं के विद्यार्थियों से 60 रु. सालाना क्रीड़ा शुल्क लेता है, लेकिन कोविड-19 के चलते नए शिक्षा सत्र में स्कूलें नहीं खुली। स्कूलें नहीं खुलीं तो विद्यार्थी भी यहां नहीं पहुंचे और खेल गतिविधियां भी नहीं हो सकी। क्रीड़ा शुल्क नहीं मिलने से ब्लाक, जिला, संभाग व प्रदेश स्तर की खेल गतिविधियों के लिए फंड भी जमा नहीं हो सका।

स्कूलों में होती हैं ये खेल गतिविधियां

सरकारी स्कूलों में हर साल ब्लाक, संभाग, प्रदेश स्तर पर क्रिकेट, फुटबॉल, खो-खो, व्हालीबॉल, लागोरी, कबड्‌डी, गोला फेंक, 100, 200, 400 मीटर दौड़, ऊंची कूद, लंबी कूद, टेबल टेनिस, बैडमिंटन आदि खेल गतिविधियां होती है।

सरकारी स्कूलों में 11वीं-12वीं के विद्यार्थियों से 100 व 9वीं-10वीं से 60 रुपए सालाना लेता है। कोविड के चलते शुल्क नहीं ले पाए। आदेश जारी कर शुल्क लेंगे। -आशा कटियार, जिला खेल अधिकारी, शिक्षा विभाग

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आप प्रत्येक कार्य को उचित तथा सुचारु रूप से करने में सक्षम रहेंगे। सिर्फ कोई भी कार्य करने से पहले उसकी रूपरेखा अवश्य बना लें। आपके इन गुणों की वजह से आज आपको कोई विशेष उपलब्धि भी हासिल होगी।...

    और पढ़ें