पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना पर जीत:फेफड़ों में 52% संक्रमण, योग व हिम्मत से हुईं स्वस्थ

खंडवाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • हरसूद के वार्ड क्र. 4 की सुशीला कौशल ने खुद पर हावी नहीं होने दिया महामारी का डर

यह सुखद और कोरोना मरीजों में साहस भरने वाली खबर है कि नगर की 70 वर्षीय महिला ने फेफड़ों में 52 % संक्रमण और ऑक्सीजन सैचुरेशन 60 होने बाद भी 10 दिन में कोरोना महामारी को हरा दिया। दो दिनों पूर्व घर लौटने के बाद अब उनकी दिनचर्या पहले जैसी हो रही है। परिवार में मां के स्वस्थ होकर लौटने से बेटा, बहू, पोता-पोती सब खुश है। तीन दिन पहले भी इंदौर में रहने वाले हरसूद के एक ही परिवार के चार सदस्य के पॉजिटिव होने और 25 दिनों में होम आइसोलेट होकर स्वस्थ होकर हरसूद लौट आए हैं।

शुगर और बीपी के बाद भी डर को हावी नहीं होने दिया
नगर के वार्ड क्रमांक 4 निवासी सुशीला बाई कौशल को 24-25 अप्रैल को अचानक घर पर सांस लेने में दिक्कत के बाद घबराहट हुई। अधिवक्ता बेटे नीलेश तत्काल खंडवा लेकर पहुंचे। यहां सीटी स्कैन में 52% संक्रमण की जानकारी से परिजन हताश हो गए, लेकिन सुशीला बाई ने हिम्मत बनाए रखी। सुशीला बाई शुगर और बीपी की भी मरीज है। इससे परिजन ज्यादा परेशान थे।

खंडवा कोविड में पदस्थ डॉ. पंकज जैन ने परिजनों को भरोसा दिलाया सब ठीक होगा। नीलेश ने बताया सेंटर में चिकित्सक की सलाह के अलावा मम्मी खुद योग, समय पर खाना-नाश्ता, चाय के साथ हौसला रखती थी। हमें भी मोबाइल पर चिंता नहीं करने का कहती रहती। सुशीला बाई ने कहा कि बीमारी बड़ी नहीं है, उसका खौफ लोगों को हताश कर रहा है। सात दिनों में ऑक्सीजन लेवल मेंटेन होने के बाद खुद भी बिना ऑक्सीजन के रहने की कोशिश करती रही। उससे उन्हें काफी अच्छा लगा।

बिना रेमडिसिविर लगवाए स्वस्थ हुईं
शुगर की मरीज हाेने की वजह से एहतियात के ताैर पर बिना रेमडिसिविर इंजेक्शन लगवाए स्वस्थ हुईं। बुधवार शाम घर लौटने के बाद से घर पर डॉक्टरों की सलाह अनुसार समय पर दवाई लेना, काढ़ा, नीबू पानी व गर्म पानी के गरारे के साथ ही सुशीला बाई प्रतिदिन योग व प्राणायाम कर रही हैं। जिससे ब्लड प्रेशर व शुगर पर भी नियंत्रण है।

खबरें और भी हैं...