पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Khandwa
  • 68 Crores Will Be Spent On Narmada, So The Alternatives Are Being Made To Sukta And Nagchun, The Line Of Narmada Water Scheme Costing 106.72 Crores Has Broken More Than 250 Times In 8 Years

दो बड़े प्रोजेक्ट खत्म करेंगे जलसंकट:नर्मदा पर 68 करोड़ खर्च हाेंगे, इसलिए सुक्ता व नागचून को बना रहे विकल्प, 106.72 करोड़ की लागत वाली नर्मदा जल योजना की लाइन 8 साल में 250 से अधिक बार फूट चुकी

खंडवा21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
आबना नदी के पुराने पुल पर सुक्ता की नई लाइन बिछाने के लिए स्थान देखते निगम और कंपनी के इंजीनियर्स। - Dainik Bhaskar
आबना नदी के पुराने पुल पर सुक्ता की नई लाइन बिछाने के लिए स्थान देखते निगम और कंपनी के इंजीनियर्स।
  • जसवाड़ी स्थित सुक्ता फिल्टर प्लांट में 8.90 करोड़ लागत से बदली जा रही लाइन
  • 127 साल पुराने नागचून तालाब को एनवीडीए की नहर से भरकर शहर तक पानी लाने के लिए निगम बनवा रहा डीपीआर
  • सुक्ता से लाइन बिछाने पर 8.90 करोड़ रुपए खर्च होंगे
  • नागचून तालाब प्रोजेक्ट की डीपीआर बन रही, संभवत: 8.50 कराेड़ रुपए खर्च होंगे

106.72 करोड़ की लागत वाली नर्मदा जल योजना की 800 एमएम डाया वाली जीआरपी लाइन 8 साल में 250 से अधिक बार फूट चुकी है। 49.50 किलोमीटर लंबी इस लाइन के फूटने पर दो से तीन दिन तक शहर में जलसंकट की स्थिति बनती है।

समस्या के स्थायी हल के लिए निगम ने डेढ़ साल पहले 67.88 करोड़ रुपए लागत से नई पाइप लाइन जावर मार्ग से बिछाने का प्रस्ताव बनाया। कोरोना काल होने के कारण इतनी अधिक राशि फिलहाल प्रदेश शासन से नहीं मिल पाएगी। इसलिए निगम 56 साल पुराने सुक्ता जलप्रदाय केंद्र और 127 साल पुराने नागचून तालाब को विकल्प बना रहा है। इसमें से सुक्ता जलप्रदाय केंद्र की 11 किमी नई पाइप लाइन बिछाने का काम 8.90 करोड़ रुपए लागत से शुरू कर दिया है।

वहीं नागचून तालाब को एनवीडीए की नहर से भरने और शहर तक पानी लाने के लिए निगम भोपाल के कंसल्टेंट से डीपीआर बनवा रहा है। इस प्राेजेक्ट पर संभवत: 8.50 कराेड़ रुपए खर्च होंगे। इधर, सोमवार को निगम के अधीक्षण यंत्री कैलाश चौधरी, उपयंत्री प्रशांत पंचोरे सहित पाइप लाइन बिछाने का काम कर रही कंपनी के इंजीनियर्स ने जसवाड़ी से खंडवा तक रास्ते में आ रहे नदी-नालों की पुलिया के पास पाइप बिछाने के लिए मौके का निरीक्षण किया।

पुलिया में बनाया जाएगा काॅलम, आबना के पुराने पुल पर बिछाई जाएगी लाइन

नई लाइन बिछाने के लिए जसवाड़ी गांव के पास पुलिया में काॅलम बनाकर पाइप को कसा जाएगा। पाइप जमीन की बजाए ऊपर रखा जाएगा, ताकि पानी का फ्लो सही रहे। इसी तरह आबना नदी के पुराने पुल पर लाइन बिछाई जाएगी। पाइप लाइन बिछाने के लिए जमीन का लेवल लेकर खंडवा और जसवाड़ी दोनों तरफ से काम किया जाएगा। कृषि कॉलेज से सीधे सिविल लाइंस संपवेल तक लाइन बिछाई जाएगी, ताकि तय समय में काम पूरा हो जाए।

इसलिए जरुरी है सुक्ता और नागचून का विकल्प

  • नर्मदा योजना में पानी इंदिरा सागर के बैकवाटर चारखेड़ा से पानी लिया जा रहा है। इसी साल यहां जलस्तर 246 मीटर से नीचे चला गया था। ऐसे में इंटेकवेल के तीसरे पोट से पानी लिया गया। इसमें गाद फंसने पर शहर की पानी सप्लाई कुछ दिन के लिए पूरी तरह बंद हो गई थी।
  • सुक्ता की पुरानी लाइन से 5 से 7 एमएलडी ही पानी ही शहर में आता है। यह पानी भी जसवाड़ी रोड और मध्य क्षेत्र में ही कम प्रेशर से बांट पाता है। नई लाइन से प्रतिदिन लगभग 13 एमएलडी पानी मिल सकेगा। इसे शहर के किसी भी क्षेत्र में सप्लाई किया जा सकेगा।
  • अब इंदिरा सागर बांध में सिर्फ 253.39 तक ही पानी भरा है। 8.7 मीटर पानी कम है। बांध नहीं भर पाया तो गर्मी में चारखेड़ा में बैकवाटर संभवत: फरवरी-मार्च में ही कम हो सकता है। सिंचाई के लिए नहर से आपात स्थिति में 234.22 मीटर जलस्तर से पानी लिया जा सकता है। इससे नागचून तालाब तक पानी लाकर शहर में पीने के लिए पानी दिया जा सकता है।

बिछा रहे लाइन, नागचून की बनवा रहे डीपीआर

वैकल्पिक रूप से शहर को सुक्ता का पानी मिल सके, इसके लिए नई पाइप लाइन बिछा रहे हैं। इसका काम चालू हो गया है। नागचून की भी डीपीआर बना रहे हैं। -सविता प्रधान, आयुक्त, नगर निगम

खबरें और भी हैं...