पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

जीवनदान:भगवंत सागर किसानों के लिए बना वरदान, मिला जीवनदान

कुमठी4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
भगवंतसागर बांध इस साल लबालब हो गया था। यह फसलों के लिए जीवनदान है।

पंधाना तहसील के कुमठी और आसपास के गांव सिंचाई के साधन के अभाव में मानसून पर निर्भर रहते थे। क्षेत्र में जल स्तर नीचे होने से किसान बमुश्किल खरीफ की फसल ज्वार, कपास, उड़द, तुअर, मूंगफल्ली लेते थे। कुछ किसान जिनकी जमीन (बाड़ी या सड़) की थी, जिसमें बारिश का पानी भरा रहता था, उनमें ठंड के दिनों में रबी की फसल गेहूं-चना बो दिया करते थे। किसानों के पास खेती का रकबा भी कम था। कुओं की संख्या बहुत कम थी।

खेत में पीने का पानी घर से लेकर जाते थे। मानसून की मेहरबानी से जो भी फसल अच्छी हाेती थी, काट लेते थे। कुल मिलाकर किसान बारिश पर ही निर्भर थे। 1981 में सुक्ता नदी पर भगवंत सागर बांध का निर्माण हुआ। बांध से छोटी-बड़ी नहरों के माध्यम से सिंचाई के लिए भरपूर पानी मिलने लगा। जिससे यहां का किसान सालभर में तीन फसल लेने लगा, जिसमें मक्का, सोयाबीन, अरबी, प्याज, गेहूं, चना के साथ तरबूज, खीरा, गोभी, टमाटर, अदरक आदि प्रमुख फसलें शामिल हैं। आज यहां के अधिकतर किसान साधन संपन्न हैं।

चार पहिया वाहन, ट्रैक्टर-ट्रॉली सहित हड़ंबा मशीन बहुतायत में हैं। इस साल बारिश अच्छी होने और भगवंत सागर में भरपूर पानी होने से क्षेत्र के किसान संपन्न हैं। कुमठी के ही सुभाष बलीराम गुर्जर सिविल इंजीनियर हैं। उन्होंने नौकरी के बजाय खेती को महत्त्व दिया, सुभाष अपने पिता के साथ खेती करते हैं। उन्होंने चार हजार स्क्वेयर फीट में 34 लाख की लागत से सेटनेट हाऊस लगाकर खीरा, ककड़ी,1.25 लाख की लागत से लगाईं, जिसे गुजरात भेज कर 4 लाख 20,000 की कमाई हुई।

12 एकड़ जमीन में जाम के 4000, सीताफल के 2500 पौधे लगाए

गांव में शासकीय जमीन नहीं थी। 1954-55 में पंचायत भवन बनाने के लिए बलरामपुर के मालगुजार रहे कुनबी समाज के घीसाजी भगवान पटेल ने हाइवे किनारे अपनी एक एकड़ जमीन दी थी। उसी जमीन पर आज पंचायत भवन, स्कूल, और स्वराज भवन की इमारतें खड़ी हैं। घीसाजी के बेटे रामेश्वर पटेल ने राष्ट्रीय बागवानी बोर्ड भोपाल की योजना के अंतर्गत 2019 में बैंक से लोन लेकर 12 एकड़ में जाम के 4000, सीताफल के 2500 पौधे लगाए हैं। शुरुआत में मात्र एक से सवा लाख की उपज प्राप्त की। जब फसल से आमदनी होने का समय आया तब इसमें से 5 एकड़ जमीन इंदाैर-इच्छापुर हाईवे पर फोरलेन निर्माण में जा रही है। रामेश्वर पटेल ने बताया कि शासन की गाइड लाइन के मान से मुआवजा कम मिल रहा है। बहुत ही परिश्रम से बगीचा तैयार किया है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप सभी कार्यों को बेहतरीन तरीके से पूरा करने में सक्षम रहेंगे। आप की दबी हुई कोई प्रतिभा लोगों के समक्ष उजागर होगी। जिससे आपका आत्मविश्वास बढ़ेगा तथा मान-सम्मान में भी वृद्धि होगी। घर की सुख-स...

और पढ़ें