• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Khandwa
  • After 17 Months, 6 Coaches Of Meter Gauge Train Ran From Mhow To Omkareshwar, 70 Passengers Traveled

ट्रैक पर फिर दौड़ी ‘आजीविका’:17 माह बाद महू से ओंकारेश्वर तक चली 6 डिब्बों की मीटरगेज ट्रेन, 70 यात्रियों ने किया सफर

खंडवा3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ड्रोन फोटो- विकास चौहान - Dainik Bhaskar
ड्रोन फोटो- विकास चौहान
  • कोरोना के कारण 23 मार्च 2020 से बंद कर दी गई थी ओंकारेश्वर से महू तक मीटरगेज ट्रेन, टेंडर होने तक लोगों को मिल गई राहत
  • लॉकडाउन खुलने के बाद व्यापार-व्यवसाय ने पकड़ी गति, गांवों के लोगों ने रेलवे महाप्रबंधक से मीटरगेज ट्रेन पुन: चालू करने की मांग की थी

मीटरगेज ट्रैक पर 17 महीने बाद शुक्रवार को एक बार फिर छुकछुक दौड़ पड़ी। 6 डिब्बों की डेमू ट्रेन अपने तय समय शाम 5.45 बजे महू से रवाना हुई। 10 मिनट लेट होकर रात 8.15 पर ओंकारेश्वर रोड स्टेशन पहुंची। इस बीच पड़ने वाले छोटे गांवों के लोगों की आजीविका पटरी पर फिर दौड़ पड़ी। ट्रेन में सवार 70 से अधिक यात्रियों के चेहरे पर दोबारा शुरू हुई ट्रेन में सफर करने की खुशी झलक रही थी। कालाकुंड स्टेशन पर लोगों ने आतिशबाजी व पुष्पवर्षा कर यात्रियों का स्वागत किया। शनिवार को यही ट्रेन सुबह 9.25 बजे मोरटक्का से महू के लिए निकलेगी।

रतलाम मंडल के डीआरएम विनित गुप्ता ने बताया कोरोना और लॉकडाउन के कारण 23 मार्च 2020 से इसे बंद कर दिया गया था। रेलवे महाप्रबंधक आलोक कंसल के दौरे के वक्त गांवों के लोगों ने मीटरगेज ट्रेन पुन: चालू करने की मांग की थी। उनकी मांग स्वीकार कर ट्रेन चालू की गई है। मुख्त्यारा-बलवाड़ा से सनावद के बीच सर्वे का काम लगभग पूरा हो चुका है। एक्जीक्यूशन टेंडर होने हैं, तब तक मीटरगेज ट्रेन चालू रखी जाएगी। इस प्रक्रिया में चार-पांच माह लग सकते हैं। टेंडर होते ही पटरियां उखाड़ने का काम शुरू हो जाएगा।

बजट की स्थिति, कब- कब कितना मिला बजट

  • 250 करोड़ रुपए 17-18 में
  • 18 करोड़ रु. 18-19 में स्वीकृत
  • 355 करोड़ रुपए 19-20 में​​​​​​​
  • 235​​​​​​​ करोड़ रुपए 20-21 में​​​​​​​
  • 250​​​​​​​ करोड़ रुपए 21-22 में​​​​​​​

ओंकारेश्वर से महू : 60 किमी दूरी। काम शुरू नहीं हाे पाया। रेलवे ने 3 सितंबर से पुन: मीटरगेज ट्रेनें चालू कर दी। काम के लिए जल्द ही टेंडर हो सकते हैं। ​​​​​​​

सनावद से ओंकारेश्वर: 10 किमी दूरी। ब्रॉडगेज का काम शुरू ही नहीं हो पाया। इसके चलते लोगों को निजी वाहनों या अन्य परिवहन का सहारा लेना पड़ रहा है। ​​​​​​​

मथेला से सनावद : 54 किमी दूरी। मालगाड़ियों का परिचालन सेल्दा प्लांट तक हो रहा है। क्षेत्र के लोगों की मांग है खंडवा-मथेला होकर सनावद तक यात्री ट्रेनें चलाएं। ​​​​​​​

खंडवा से अहमदपुर खैगांव : दूरी 7 किमी। ट्रैक बनाना बाकी है। अधिकारियों का कहना है यार्ड रिमॉडलिंग का काम पूरा होने पर 7 किमी का काम भी पूरा कर देंगे।

खंडवा यार्ड रिमॉडलिंग: सेंट्रल रेलवे मीटरगेज के प्लेटफार्म नंबर 4 और 5 तक और पूरे यार्ड का रिमॉडलिंग कार्य करेगा। सेंट्रल रेलवे ने अगस्त में टेंडर भी जारी किए।

अमुल्ला खुर्द से खंडवा : 54 किमी दूर है। इस पर अर्थवर्क, पुल-पुलियाओं के काम जारी है। अफसरों के अनुसार दिसंबर 22 तक ब्रॉडगेज रेलवे मार्ग बिछा देंगे। ​​​​​​​

आकोट से अमुल्लाखुर्द: 77 किमी दूरी। मेलघाट क्षेत्र के बीच में आता है। वन्य जीवी प्राणी संस्थाओं यहां से ट्रैक निकालने पर आपत्ति लगाई है। काम चालू नहीं हो पाया। ​​​​​​​

आकाेला से आकाेला की दूरी 44 किमी ब्राॅडगेज परिवर्तन हाे गया। सीआरएस द्वारा ट्रेन चलाने की अनुमति भी दे दी गई है। हालांकि अभी ट्रेन चालू नहीं हो पाई। ​​​​​​​

परिवार के 16 सदस्यों के साथ की यात्रा

राजस्थान के बूंदी जिले से आए देवलाल सेन ने बताया आज राजस्थान से इंदौर पहुंचे तो पता चला दोबारा ट्रेन शुरू हो चुकी है इसलिए 16 सदस्यों वाला परिवार ट्रेन के सफर का लुत्फ उठाने के लिए यात्रा शुरु की। बड़वाह के सफदर हुसैन ने बताया हम इंदौर से बड़वाह के लिए शनिवार को आने वाले थे, लेकिन ट्रेन शुरू होने की जानकारी मिली तो हमने आज ही अपना सफर तय कर बड़वाह पहुंचे।​​​​​​​

खबरें और भी हैं...