आदेश का पालन करवाने जिम्मेदार नहीं दे रहे ध्यान:महाराष्ट्र से बसों के परिवहन पर 21 तक प्रतिबंध, फिर भी आ रहीं

बिजासन घाट/पलसूद/बड़वानी3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बिजासन घाट पर महाराष्ट्र तरफ से प्रदेश की सीमा में आती बस। - Dainik Bhaskar
बिजासन घाट पर महाराष्ट्र तरफ से प्रदेश की सीमा में आती बस।

कोराेना संक्रमण की रोकथाम के लिए महाराष्ट्र राज्य से बस परिवहन सेवाओं पर रोक लगाई गई है। पहले यह रोक 14 जुलाई तक थी, अब परिवहन आयुक्त ने इसे बढ़ाकर 21 जुलाई तक कर दिया है। परिवहन आयुक्त के आदेश का जिले में पालन नहीं हो रहा है। निजी ट्रेवल्स की बसें महाराष्ट्र से सवारी भरकर आना-जाना कर रही हैं। परिवहन विभाग, पुलिस व प्रशासन इस पर रोक नहीं लगा पा रहा है। आगरा-मुंबई नेशनल हाईवे पर स्थित बिजासन चौकी के सामने से दिन व रात दोनों समय बसें निकल रही है। पुलिस बसों को रोक नहीं रही है। ये बसें हाईवे पर बालसमुद जांच चौकी से बचने के लिए ग्रामीण रास्तों से निकल रही है। आदेश का पालन करवाने के लिए जिम्मेदार ध्यान नहीं दे रहे हैं। ऐसे में संक्रमण फैल सकता है।

बिजासन चौकी के सामने से दो माह से राेजाना 50 से अधिक बसें महाराष्ट्र से आकर इंदौर की तरफ जा रही है। पुलिसकर्मी बसों काे रोक नहीं रहे हैं। यह बसें सेंधवा के आगे परिवहन विभाग की जांच चौकी बालसमुद से बचने के लिए ग्रामीण रास्ते व सेंधवा-कुशलगढ हाइवे से पलसूद होते हुए राजपुर, जुलवानिया जाकर हाईवे से निकल रही है। इन बसों को रोकने के लिए रास्ते पर बिजासन चौकी, सेंधवा शहर थाना, ग्रामीण थाना, पलसूद थाना, राजपुर थाना, जुलवानिया व ठीकरी थाना आते हैं लेकिन कहीं पर भी पुलिस इन बसों को रोक नहीं पा रही है। ऐसे में पुलिसकर्मियों की बस संचालकों से साठगांठ हाेने की आशंका जताई जा रही है। वहीं परिवहन विभाग बालसमुद चौकी पर जांच करने की बात कहता है लेकिन बसें वहां नहीं जा रही है। भास्कर के लगातार सवाल करने के बाद अफसर कार्रवाई करने की बात तो कहते हैं लेकिन कार्रवाई नहीं कर रहे हैं। ऐसे में बस संचालक बेखौफ होकर बसों का संचालन कर रहे हैं। डब्ल्यूएचओ ने तीसरी लहर आने की बात कही है। संक्रमण को रोकने के लिए परिवहन आयुक्त के आदेश का पालन नहीं हो रहा है। जिम्मेदारों की अनदेखी से बस संचालक नियमों की धज्जियां उड़ा रहे हैं।

बिजासन चौकी प्रभारी को निर्देशित करेंगे कि महाराष्ट्र से आने वाली बसों की निगरानी की जाए। यदि कोई बस जिले में प्रवेश करती है तो संबंधित पर कार्रवाई की जाए।
-तपस्या परिहार, एसडीएम, सेंधवा

खबरें और भी हैं...