पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बोलती तस्वीरें...:बड़ी लापरवाही, काेराेना का डर खत्म... अब नहीं दिख रहा कोई रोकने-टोकने वाला

खंडवा8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कोरोना का संक्रमण लगातार बढ़ रहा और लापरवाही ऐसी कि लाेग खुद भी संक्रमित होंगे और दूसरों को भी करेंगे

इन तस्वीरों को देखकर तो ऐसा ही लग रहा है कि शहर में काेराेना का डर खत्म हो गया है। न तो सोशल डिस्टेंस दिख रहा है और न लोगों के मुंह पर मास्क। कुछ लाेग औपचारिकता के लिए मास्क लगा भी रहे तो उनका मुंह खुला दिखाई दे रहा है। कोराेना पॉजिटिव मरीजों की संख्या में प्रतिदिन इजाफा हो रहा है। रोज 5 से 10 मरीजों को आइसोलेशन वार्ड में भर्ती करना पड़ रहा है। 8 अप्रैल को पहला मरीज मिलने के बाद अब तक पॉजिटिव मरीजों की संख्या 1690 हो गई हैं। इनमें से 77 मरीज एक्टिव हैं। 30 जिला अस्पताल व होम आइसोलेशन में 37 व इंदौर में 10 भर्ती हैं। 46 लोगों की मौत हो चुकी है।

बिना मास्क के कर रहे सवारी, काेई राेक-टाेक नहीं
लोगों की सुविधा के लिए रेल, टैक्सी व बसें चालू हाे गई है, लेकिन सबसे ज्यादा नियमों की धज्जियां बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन पर ही उड़ रही है। यहां कोई रोकने-टोकने वाला नहीं कि भैया-दीदी मास्क पहन लो। कई लोगों के तो जेब में मास्क रखा होने के बावजूद वे खुले मुंह घूम रहे हैं। बसों में बैठे लोग भी मास्क नहीं लगा रहे हैं।

इनको न तो खुद की फिक्र है न ही अपने परिवार की
इन्हें देखिये न तो इन्हें खुद की फिक्र है न परिवार की। बाइक चलाते समय यातायात नियम तोड़ने के साथ ही कोरोना को भी भूल गए हैं। बाइक पर दो की जगह चार बैठे और मास्क भी नहीं लगाया। ये सिर्फ एक तस्वीर है, इस तरह सैकड़ों लोग परिवार सहित जिंदगी दांव पर लगाकर खुद भी दुर्घटना का सबब बनते हैं और दूसरों को भी नुकसान पहुंचाते हैं।

प्रतिबंध के बावजूद वाहन पर बात करते हुए युवती
वाहन चलाते समय बात करने पर सरकार ने प्रतिबंध लगा दिया है। इसके बावजूद लोग दिनभर बाइक-स्कूटर चलाते समय मोबाइल पर बतियाते रहते हैं। मंगलवार दोपहर तीन बजे ओवरब्रिज से स्टेशन मार्ग की ओर जा रहे वाहन पर सवार युवती एसएन कॉलेज से अग्रसेन चौराहा तक इस तरह लापरवाही से वाहन चलाते हुए निकलीं।

खबरें और भी हैं...