पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Khandwa
  • Blasting In The River For The Construction Of The Dam, The Stones Fell On The Innocent And His Sister, Who Was Eating The Food After Breaking The House; For 3 Hours, The Company Supervisor Did Not Even Give Water To The Innocent.

अवैध खनन ने बच्ची की बलि ले ली:नदी में ब्लास्टिंग के बाद उड़े पत्थर घर की चद्दर चीरकर खाना खा रहीं दो बहनों पर गिरे; 12 साल की छोटी बहन की मौत, बड़ी घायल

खंडवा13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • बचने के लिए बच्ची को निजी अस्पतालों में लेकर घूमता रहा सुपरवाइजर

खंडवा में नदी में ब्लास्टिंग के दौरान उड़े पत्थर लगने से 12 साल की बच्ची की जान चली गई। वहीं, उसकी बड़ी बहन घायल हो गई। पत्थर घर की चद्दर चीरते हुए दोनों बहनों पर गिर लगे। मामला, पंधाना विधानसभा क्षेत्र के गांव सेमलिया-राजगढ़ का है।

कंपनी के सुपरवाइजर ने बच्ची का इलाज कराना तो दूर उसे पानी पिलाना तक उचित नहीं समझा। कार्रवाई से बचने के लिए वह निजी अस्पतालों के चक्कर काटता रहा। आखिरकार इलाज के अभाव में बच्ची ने दम तोड़ दिया। परिवार डैम निर्माण में मजदूरी करता है। ब्लास्टिंग के समय लड़कियां घर में खाना खा रही थीं। परिजन के अनुसार ठेकेदार ने ब्लास्टिंग के समय उन्हें सूचना भी नहीं दी।

यहां भाम नदी पर डैम निर्माण का कार्य इंदौर की सत्यलक्ष्मी कंस्ट्रक्शन कंपनी कर रही है। रविवार दोपहर 12 बजे ठेकेदार ने नदी में ब्लास्टिंग कराई। इससे थोड़ी दूर बने मजूदर के घर पर पत्थर उड़े। पत्थर बने घरों की टीन को चीरते हुए बच्ची सुषमा (12) पिता जगनलाल निवासी हीरापुर व उसकी बड़ी बहन मथुरा पर जा गिरे। सुषमा बुरी तरह घायल हो गई। वहीं, मथुरा का पैर फ्रेक्चर हो गया।

घबराकर कंपनी के सुपरवाइजर ने पुलिस को सूचना नहीं देकर उसने बच्ची को पानी तक नहीं पिलाया। यही नहीं, कार्रवाई से बचने के लिए खुद ही निजी अस्पताल ले जाने लगा। कई अस्पतालों के चक्कर काटने के बाद आखिरकार बच्ची की मौत हो गई।

निर्माण कंपनी का सुपरवाइजर अशोक बर्फा।
निर्माण कंपनी का सुपरवाइजर अशोक बर्फा।

बड़ी बहन का दर्द : मां के बाद बहन चली गई, मेरा संसार लुट गया

मजदूरी करने वाली घायल बड़ी बहन मथुराबाई सदमे में है। वह कहने लगी कि मां के बाद छोटी बहन थी, वह मुझे ही मां कहकर बुलाती थी। वह सुषमा को खाना खिला रही थी। इसी दौरान घर की चद्दर पर बड़े-बड़े पत्थर गिरे। वह चद्दर चीरते हुए सिर और पैर पर गिरे। ठेकेदार की लापरवाही के कारण बहन चली गई। मेरा तो संसार लुट गया।

विधानसभा में गूंज चुका है अवैध खनन का मामला

कंपनी पर पूर्व से अवैध उत्खनन के मामलों में केस दर्ज हैं। विधानसभा में मामला गूंजने के बाद भी ठेकेदार पर कार्रवाई नहीं हो सकी। अस्पताल पहुंचे विधायक राम दांगोरे ने खनिज और राजस्व विभाग के अफसरों पर आरोप लगाया कि वे पार्टनर की भूमिका में ठेकेदारों के साथ काम करते हैं। ठेकेदार मनोज शर्मा, अशोक बर्फा आदि पर कार्रवाई नहीं होती है, तो वह धरने पर बैठेंगे। विधायक ने कंपनी के सुपरवाइजर को अशोक को पकड़कर पुलिस को सौंप दिया।

निर्माण कंपनी के सुपरवाइजर को विधायक राम दांगोरे ने पकड़ा।
निर्माण कंपनी के सुपरवाइजर को विधायक राम दांगोरे ने पकड़ा।
खबरें और भी हैं...