• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Khandwa
  • Case Registered Against 5 People Including Khandwa's Reputed Dr. Renu Soni And Her Son in law; Doctor Absconding

डॉक्टर ने नवजात को बेचा:मशहूर डॉक्टर ने खुद के अस्पताल में नाबालिग का प्रसव कराया, बच्चे का ढाई लाख में किया सौदा; दामाद समेत 5 पर केस

खंडवा3 महीने पहले
नगर पुलिस अधीक्षक कार्यालय में देर रात तक चली कार्रवाई।

खंडवा में नाबालिग का प्रसव और नवजात की खरीद-फरोख्त का भंडाफोड़ हुआ है। अस्पताल के डॉक्टरों ने ही नवजात को ढाई लाख रुपए में सौदा कर दिया। मामले में पुलिस ने शहर के पड़ावा क्षेत्र के कथित डॉ. सौरभ सोनी, शहर की प्रतिष्ठित डॉक्टर स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉक्टर रेणु सोनी सहित पांच आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज किया है। सौरभ सोनी डॉक्टर रेणु सोनी का दामाद है। इस पूरे मामले का खुलासा तब हुआ जब बच्चे की देखरेख कर रही महिला ने पुलिस से शिकायत की।

डॉ. सौरभ सोनी ने स्त्री रोग विशेषज्ञ रेणु सोनी का नाम भी उजागर किया। इसके अलावा डॉक्टर रेणु सोनी के अस्पताल पर काम करने वाले कर्मचारी मोहसिन खान निवासी हरीगंज, जिला अस्पताल की एक स्वास्थ्य कर्मी संजना पटेल, डॉ. सौरभ सोनी का कर्मचारी कमलेश पटेल निवासी छनेरा नया हरसूद के खिलाफ पुलिस ने शनिवार को जुवेनाइल जस्टिस एक्ट (जेजे एक्ट) व पाक्सो एक्ट में प्रकरण दर्ज किया है।फिलहाल पुलिस ने डॉक्टर सौरभ सोनी, मोहसीन को हिरासत में लिया है।

खरगोन निवासी 16 वर्षीय किशोरी ने प्रसव के दौरान बालक को 6-7 दिन पहले जन्म दिया। परिवार वाले किशोरी को घर ले गए, लेकिन बच्चे को अस्पताल में ही छोड़ दिया। इसके बाद अस्पताल के कर्मचारी ने बच्चा कंचन बाई को दे दिया। कंचन को 500 रुपए देकर दूध पिलाने और 5 दिन रखने के लिए कहा था, लेकिन शुक्रवार को जब बच्चा वापस मांगा तो कंचन बाई ने देने से इनकार कर दिया और एसपी से शिकायत कर दी। इसके बाद पूरा मामला सामने आया गया। SP विवेकसिंह ने बताया पुलिस ने केस दर्ज कर मामला जांच में लिया है, नवजात को जिला अस्पताल के एसएनसीयू वार्ड में भर्ती कराया गया है।

किसका क्या रोल
डॉ. रेणु सोनी-
डॉ. सौरभ सोनी के कहने पर नाबालिग का प्रसव अपने अस्पताल के ऑपरेशन थियेटर में किया।
डॉ. सौरभ सोनी-नाबालिग और अविहवाहित लड़कियों का गर्भपात व प्रसव कराया
नर्स संजना पटेल- स्वास्थ्य विभाग में नर्स है। अस्पताल से डॉ. सौरभ के पास अवैध केस लाती थी।
मोहसिन खान- डॉक्टर रेणु के अस्पताल का कर्मचारी, बच्चों को बेचने ग्राहक तलाशता था।
कमलेश पटेल- डॉ. सौरभ सोनी के क्लिनिक पर काम करता था। इसकी भूमिका भी ग्राहक तलाशने की थी।

नवजात जिसका सौदा ढ़ाई लाख रुपए में किया गया।
नवजात जिसका सौदा ढ़ाई लाख रुपए में किया गया।

ढाई लाख में कर लिया था नवजात का सौदा

पुलिस के मुताबिक मेडिकल चौराहा स्थित सोनी हॉस्पिटल की संचालिका डॉ. रेणु सोनी और पड़ावा स्थित स्वाति फार्मा के डॉ. सौरभ सोनी द्वारा नाबालिगों का अवैध रूप से प्रसव कराया जा रहा है। शक है कि अवैध गर्भपात और अवैध प्रसव का यह खेल लंबे समय से जारी है। अवैध प्रसव से पैदा हुए नवजात बच्चों को बेच दिया जाता है। इस मामले में नवजात का ढाई लाख रुपए में सौदा भी कर लिया गया था, लेकिन महिला को देखभाल के लिए नवजात दिया गया उसने पूरी कहानी पुलिस को बता दी।

सोनी अस्पताल की संचालिका डॉ. रेणु सोनी।
सोनी अस्पताल की संचालिका डॉ. रेणु सोनी।

ऐसे पकड़ाया पूरा गिरोह
रामनगर क्षेत्र की कंचन बाई को 6 दिन पहले डॉक्टर रेणु सोनी के कर्मचारी मोहसिन खान और डॉक्टर सौरभ सोनी के कर्मचारी कमलेश पटेल ने 500 रुपए देकर यह जिम्मेदारी दी कि इस नवजात शिशु को 5 दिन तक दूध पिलाना और इसका ख्याल रखना। फिर अचानक शुक्रवार की शाम मोहसीन और कमलेश ने कंचन बाई को फोन पर कहा कि बच्चा हमें दे दो। इस पर कंचन बाई ने कहा कि इतनी रात में बच्चे को नहीं दूंगी। उसकी मां को लेकर आओ और बच्चा ले जाओ। कंचन बाई को संदेह हुआ तो उसने पुलिस अधीक्षक विवेक सिंह को मामले की शिकायत की। इसके बाद सीएसपी ललित गठरे व कोतवाली टीआई बीएल मंडलोई ने मामले में आरोपियों को थाने बुलाकर पूछताछ शुरू की। इसके बाद मामले की परतें खुलती गईं।

कई बड़े अस्पतालों के डॉक्टरों के भी शामिल होने की आशंका
क्लिनिक से रजिस्टर और मोबाइल भी जब्त किए हैं। डॉक्टर द्वारा अब तक कितनी महिलाओं व युवतियों के गर्भपात किए है, कितनी महिलाओं का अवैध रूप से प्रसव कराया है, अब तक कितनों लोगों को नवजात शिशु बेचे हैं, मामले में शहर के और कितने डॉक्टर, नर्स और दलाल जुड़े हैं, इन सबकी जांच की जा रही है। बताया जा रहा है कि डॉ. सौरभ सोनी खुद के क्लिनिक पर चेकअप के बाद शहर के नामी अस्पतालों में गर्भपात के लिए ऑपरेशन थियेटर का इस्तेमाल करता था। कथित डॉक्टर के साथ कई बड़े अस्पतालों के डॉक्टर भी शामिल होने की आशंका पुलिस व्यक्त कर रही है। डॉक्टर सौरभ के पास किसी प्रकार की डिग्री भी नहीं है, फिर भी वह महिलाओं काे प्रसव का झांसा देकर यह काम कर रहा था। चर्चा है कि आरोपी सौरभ सोनी और उसकी टीम कई बच्चे बेच चुकी हैं। नाबालिग और अविवाहित गर्भवतियों का अवैध गर्भपात कराने के लिए डॉक्टर सौरभ सोनी को जाना जाता है।

फिरौती से पुलिस शिकायत और कार्रवाई तक पहुंचा मामला
मामले में पुलिस ने नर्स संजूला पटेल को आरोपी बनाया। इसके परिजनों का कहना था कि वह बेकसूर है। पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने बताया कि शिकायतकर्ता महिला ने पुलिस से पहले कुछ कथित पत्रकारों के सामने अस्पताल प्रबंधन की इस करतूत का खुलासा किया। कथित पत्रकारों ने मामले में आरोपी मोहसिन का तलाशा और घटना की सच्चाई कबूल करवाई। फिर अस्पताल संचालक से 50 लाख की फिरौती मांगी, उसने आनाकानी की तो महिला से पुलिस को शिकायत करवा दी। फिर कथित पत्रकार गिरोह ने 25 लाख रुपए लेकर खबरें दबाने की बात कही। कुछ राशि उनके खातों में ट्रांसफर भी कर दी गई। मामला बढ़ा तो देर रात पुलिस ने 5 लोगों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया।

मामले में जांच जारी है
मामला नाबालिग का प्रसव और बच्चे को बेचने का है। शिकायत मिलने पर पांच आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज किया है।
-
बीएल मंडलोई, टीआई कोतवाली

स्वाति फार्मा का संचालक डॉ. सौरभ सोनी।
स्वाति फार्मा का संचालक डॉ. सौरभ सोनी।
खबरें और भी हैं...