पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Khandwa
  • Courses Like IT, Beauty Parlor, Health Care And Plumber In 25 Government Schools In Khandwa; No One To Teach Them

3 हजार स्टूडेंट्स बिजनेस एजुकेशन से छूटे:खंडवा के 25 सरकारी स्कूलों में IT, ब्यूटी पार्लर, हेल्थ केयर और प्लंबर जैसे कोर्स; इन्हें पढ़ाने वाला कोई नहीं

खंडवा15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सरकारी स्कूलों में बिजनेस एजुकेशन से वंचित हो गए स्टूडेंट्स। - Dainik Bhaskar
सरकारी स्कूलों में बिजनेस एजुकेशन से वंचित हो गए स्टूडेंट्स।

सरकारी स्कूलों में सामान्य शिक्षा के अलावा बिजनेस एजुकेशन की शुरुआत प्रदेश सरकार ने की थी। खंडवा के 25 सरकारी स्कूलों में ट्रेड सेंटर खोले गए, जहां IT, ब्यूटी पार्लर, हेल्थ केयर जैसे कोर्सेस में 3 हजार स्टूडेंट्स ने एडमिशन लिया था। लेकिन इन्हें पढ़ाने वाला कोई नहीं है। विभाग ने 50 शिक्षकों की भर्ती की थी, जिन्हें कोरोना के चलते नौकरी से निकाल दिया गया।

जिले के 25 सरकारी स्कूल ऐसे हैं जहां पर कक्षा 9वीं से 12वीं तक विद्यार्थियों को रोजगार उपलब्ध कराने के उद्देश्य से व्यावसायिक ट्रेड की शुरुआत तीन साल पहले की गई थी। कोरोना काल में स्कूल बंद हो जाने से विभाग ने डेढ़ महीने पहले जुलाई 2021 में जिले के 50 शिक्षकों को नाैकरी से निकाल दिया। इन शिक्षकों ने कोर्ट में केस दायर किया है। अगर भर्ती होती है तो प्रबंधन को पहले इन्हें मौका देना होगा, इसके बाद बचे पदों पर आउटसोर्सिंग कंपनी के लोगों को रखा जाएगा।

9वीं से 12वीं तक इन ट्रेड में बिजनेस एजुकेशन

जिले में हर ब्लाॅक के उत्कृष्ट विद्यालय व दो-दो उच्चतर माध्यमिक विद्यालयों में सामान्य विषयों के अलावा इंफर्मेशन टेक्नोलॉजी, इलेक्ट्रिकल एवं इलेक्ट्रॉनिक्स, ब्यूटी एवं वैलनेस, सुरक्षा गार्ड, रिटेलर, प्लंबर, हार्डवेयर, हेल्थ केयर आदि विषयों के ट्रेड चलाए जा रहे हैं। 9वीं-10वीं के विद्यार्थी संस्कृत विषय को छोड़कर इस विषय को लेते हैं, जबकि 11वीं-12वीं के विद्यार्थी को भी एक विषय को छोड़कर यह ट्रेड लेना होता है।

शिक्षकों को 15 जुलाई तक थे रखने के आदेश

राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान के एडीपीसी जेएस छाबड़ा का कहना है कि शाला प्रबंधन समितियों द्वारा शिक्षकों को रखा गया था। शासन के आदेश के बाद 15 जुलाई से इन्हें हटा दिया था। भर्ती होती है तो पहले पुराने शिक्षकों को पात्रता दी जाएगी।

खबरें और भी हैं...