• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Khandwa
  • Family's Pain The Mother Continued To Suffer After Delivery, The Negligence Of The Doctor Took Her Life; Get A High Level Inquiry Into The Incident

प्रसूता की मौत, SP से मिले मीडियाकर्मी:परिवार का दर्द- प्रसव बाद तड़पती रही प्रसूता, डॉक्टर की लापरवाही ने ले ली जान; घटना की उच्चस्तरीय जांच कराएं

खंडवा5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
गुरुवार को मीडियाकर्मी एसपी विवेकसिंह से मिले, घटना की उच्च स्तरीय जांच की मांग की। - Dainik Bhaskar
गुरुवार को मीडियाकर्मी एसपी विवेकसिंह से मिले, घटना की उच्च स्तरीय जांच की मांग की।

महिला जिला अस्पताल (लेडी बटलर) में स्वस्थ बच्ची को जन्म देकर प्रसूता ने दर्द से तड़प-तड़पकर जान दे दी। प्रसव बाद डॉक्टर, नर्सिंग स्टॉफ ने प्रसूता का इलाज तक नहीं किया, जान निकलने तक दर्द काे सामान्य बताते रहे। यह जानबूझकर अस्पताल प्रबंधन की लापरवाही है, कार्रवाई के लिए गुरुवार को मीडियाकर्मी एसपी विवेकसिंह से मिले, घटना की उच्च स्तरीय जांच की मांग की।

20 नवंबर की रात जिला महिला अस्पताल के प्रसूति वार्ड में डॉक्टरों एवं स्टॉफ नर्स की लापरवाही के चलते प्रसूता मोनिका गीतें की मौत हो गई थी। उनके पति गोविंद गीते एक राष्ट्रीय समाचार-पत्र के वरिष्ठ पत्रकार है। प्रसव बाद दर्द से तड़प रही पत्नी का इलाज करने वह बार-बार डॉक्टरों से निवेदन करते रहे लेकिन किसी ने नहीं सुनी।

मीडियाकर्मियों के साथ एसपी से मिलने गए गोविंद गीते ने कहा, मैने अपनी पत्नी मोनिका गीते (31) को 19 नवम्बर 2021 की रात्रि में जिला अस्पताल खण्डवा के लेडी बटलर वार्ड में प्रसूती के लिए भर्ती किया था। दूसरे दिन 20 नवंबर दोपहर को डॉ. निशा पंवार ने ऑपरेशन किया। मोनिका ने स्वस्थ्य बच्ची को जन्म दिया। ऑपरेशन से पहले मोनिका को एनेस्थिसिया के दो डोज दिए गए थे। बच्ची का जन्म होने के बाद से मोनिका की तबीयत बिगड़ती गई। वार्ड में नर्सिंग स्टॉफ कक्ष में कोई भी मौजूद नहीं रहा। ऑपरेशन के बाद डॉ. निशा पंवार एक बार भी चेकअप के लिए नहीं आई। स्टॉफ द्वारा ब्लड चढ़ाने के लिए कहा गया। हमने तुरंत व्यवस्था कर ब्लड चढ़वाया । इसके बाद बार-बार जरूरत पड़ने पर लेबर रूम तक जाकर हम मोनिका को हो रही घबराहट के बारे में बताते रहे। उसे हो रही तकलीफ और घबराहट को गंभीरता से नहीं लिया गया।

हमें बस यह कहा जाता रहा कि ऑपरेशन के बाद ऐसा होता है, इसके बाद लगातार तबीयत बिगड़ने के बाद भी अस्पताल स्टॉफ लापरवाही बरतता रहा। इसी वजह से 21 नम्बबर को सुबह 5 बजे मोनिका की मौत हो गई। डॉक्टरों ने मौत का स्पष्ट कारण नहीं बताया। समाजसेवी एवं वरिष्ठ पत्रकार सुनील जैन ने बताया कि महिला अस्पताल में व्याप्त अव्यवस्थाओं को लेकर जहां विगत दिनों पत्रकार साथियों ने जिला कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा था। गुरूवार को पुलिस अधीक्षक कार्यालय जाकर अव्यवस्थाओं के खिलाफ एसपी विवेक सिंह को ज्ञापन सौंपकर पूरी घटना से अवगत कराते हुए उच्च स्तरीय जांच का अनुरोध किया।

खबरें और भी हैं...