• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Khandwa
  • Girlfriend 'Sonu Babu' Was A Relative Hence Became 'useless Child'; After 5 Years Went To Indore To Meet His Parents; Piles, Liver Problem Also Became The Reason

कॉन्स्टेबल सुसाइड केस में खुलासा:शादीशुदा महिला पर आया दिल तो परिवार से दूर हुआ; आखिरी नोट में लिखा- आधे पैसे ‘सोनू बाबू’ को देना

खंडवा7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

इंदौर के कॉन्स्टेबल के खंडवा में सुसाइड करने के मामले में नया खुलासा हुआ है। कॉन्स्टेबल धनेश्वर सोनेने ने सुसाइड नोट छोड़ा है। इसमें लिखा है कि उसकी मौत के बाद मिलने वाले पैसों में से आधे ‘सोनू बाबू’ यानी उसकी गर्लफ्रेंड को दे देना। इंदौर के 32 साल के धनेश्वर ने खंडवा में सरकारी आवास में शनिवार सुबह 9 बजे फांसी लगा ली थी।

पता चला है कि खुदकुशी से पहले धनेश्वर ने 5 साल में पहली बार मां-बाप से इंदौर आकर मुलाकात की थी। खंडवा लौटने के बाद दोस्तों को पाइल्स और लिवर प्राॅब्लम के कारण शरीर में कमजोरी बताई। दो दिन बाद सुसाइड नोट लिखा और खुदकुशी कर ली। देर शाम परिवार वालों ने भी खंडवा में ही अंतिम संस्कार किया।

शादीशुदा महिला के प्यार में था धनेश्वर
धनेश्वर शादीशुदा महिला के प्यार में पड़ गया था। गर्लफ्रेंड शादीशुदा होने के साथ नजदीक की रिश्तेदार थी। इसी कारण मां-बाप और परिवार से दूर हो गया था। उसने सुसाइड नोट में ‘सोनू बाबू’ का जिक्र करते हुए लिखा है कि उसकी मौत के बाद मिलने वाले रुपयों में से आधा हिस्सा दिया जाए। पिछले कुछ माह से बीमार पड़ गया था। दोस्तों ने साथ दिया, लेकिन खुद अकेला सा पड़ गया था। एएसआई जितेंद्रसिंह चौहान का कहना है कि फिलहाल मर्ग कायम किया है। मामला जांच में है।

खंडवा में कांस्टेबल ने की खुदकुशी:सरकारी आवास पर लगाई फांसी, सुसाइड नोट में लिखा- अकेला पड़ गया था पापा, माफ करना, अब खुश रहना

गर्लफ्रेंड ने बुरी आदतें छुड़वा दी, तो बढ़ गई मोहब्बत
धनेश्वर की शादी नहीं हुई थी। रिश्तेदार की पत्नी पर दिल आ गया। फोन पर बातें करना, आर्थिक तौर पर एक-दूसरे की मदद करते रहे। कभी यह उसके बैंक खाते में पैसे डालता, तो कभी वह डालती। धनेश्वर को शराब पीने की लत थी, लेकिन गर्लफ्रेंड समझाती रही। उसने शराब व बुरी आदतें छुड़वा दी। हालांकि, प्यार बढ़ा, लेकिन परिवार वालें दूर हो गई।

2013 में जॉइन किया था
कॉन्स्टेबल धनेश्वर ने 2013 में मप्र पुलिस में जॉइन की थी। तब से खंडवा में पदस्थ था। कई थानों में तैनात रहा। दोस्तों के मुताबिक, वह कभी घर नहीं जाता था। 4-5 साल से तो जाना बंद ही कर दिया था। परिवार में छोटे भाई से लगाव था। सुसाइड नोट में बाइक व कमरे पर रखी वाॅशिंग मशीन उसे देने की बात लिखी है।