पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Khandwa
  • In Corona Period, The Teachers Were Fired On The Demand For Salary, The Operator Said 75% Of The Salary Was Given, Out Of The Leadership Of The Leader

बड़गांव भीला मार्ग पर स्थित निजी स्कूल का मामला:कोरोना काल में वेतन मांगने पर शिक्षकों को नौकरी से निकाला, संचालक बोले- 75% वेतन दिया, नेतागिरी करने पर बाहर किया

खंडवाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना काल में वेतन मांगने पर स्कूल प्रबंधन ने चार शिक्षिकाओं व तीन शिक्षकों को स्कूल से निकाल दिया। जबकि स्कूल प्रबंधन का कहना है उन्होंने शिक्षकों को 75% वेतन दे दिया है। वे स्कूल में पढ़ाई कम, नेतागिरी अधिक कर रहे थे, इसलिए उन्हें बाहर कर दिया। शिक्षिकाओं की शिकायत पर मामला कोर्ट में है और प्रबंधन ने उन्हें वापस नौकरी पर रख लिया है। अब शिक्षक स्कूल प्रबंधन की शिकायत जिला शिक्षाधिकारी से करने की तैयारी में है।

मामला बड़गांव भीला रोड स्थित निजी स्कूल का है। वेतन मांगने पर स्कूल प्रबंधन ने हायर सेकंडरी शिक्षक राजेंद्र सिंह बघेल, संदीप जोशी, सौरभ बरोले व प्राइमरी शिक्षिका प्रेमलता पिल्लई, पल्लवी सुनेहरिया, श्रद्धा व श्वेता श्राफ को नौकरी से निकाल दिया। इसकी शिकायत शिक्षिकाओं ने जिला शिक्षाधिकारी से की। जिस पर जांच के बाद प्रबंधन ने शिक्षिकाओं को वापस नौकरी पर रख लिया, लेकिन शिक्षक नौकरी पर वापस नहीं आ पाए।

शिक्षक राजेंद्रसिंह ने बताया अब वह और अन्य शिक्षक भी जिला शिक्षाधिकारी से प्रबंधन की शिकायत करेंगे। इधर स्कूल संचालक अमरेश सिंह सिकरवार ने कहा शिक्षिका प्रेमलता पिल्लई, श्वेता श्राफ, पल्लवी सुनेहरिया का केस कोर्ट में चल रहा है। तीनों को 40 प्रतिशत वेतन दे दिया है। फीस आने पर बाकी भी दे देंगे। हमने डीईओ को भी लिखकर दिया है। अन्य तीन शिक्षक संदीप जोशी, सौरभ बरोले व राजेंद्रसिंह बघेल किसी संगठन से जुड़े हैं, इन्होंने ही शिक्षिकाओं को भड़काया था। ब्लैकमेलिंग व नेतागिरी करने पर हमने इन्हें स्कूल से निकाल दिया।

इसके बावजूद हमने इन्हें 75% वेतन दे दिया है। हमने सभी शिक्षकों को नोटिस भी दिया था कि संस्था की आर्थिक स्थिति खराब है, अगले सत्र में हम आपको नहीं रख पाएंगे। इस पर सभी ने रीजॉइन के लिए भी प्रबंधन को पत्र लिखा था। जिसके सारे दस्तावेज हमारे पास हैं। हमने व्यक्तिगत कारणों से किसी को भी संस्था से नहीं निकाला।

खबरें और भी हैं...