पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

हरसूद पुनर्वास:9 सेक्टर का नक्शा 7 दिन में होगा तैयार भूखंडों पर स्वामित्व की कार्रवाई होगी आसान

खंडवाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ड्रोन सर्वे करते हुए भोपाल की टीम। - Dainik Bhaskar
ड्रोन सर्वे करते हुए भोपाल की टीम।
  • 2392 विस्थापितों में से अब तक 1130 लोगों ने जमा किए दस्तावेज

इंदिरा सागर बांध परियोजना के तहत बसाए सबसे बड़े पुनर्वास स्थल हरसूद के विस्थापित परिवारों को आवासीय भूखंडों पर मालिकाना हक दिए जाने की प्रक्रिया अंतिम दौर में पहुंच चुकी है। हरसूद प्रशासन के मुताबिक पुनर्वास के 9 सेक्टर की आबादी भूमि का मूल डिजिटल नक्शा आगामी 7 दिन तैयार हो जाएगा। इससे भूखंडों पर स्वामित्व की कार्रवाई आसान होगी।

तहसीलदार नितिन चौहान ने कहा कि मुनादी और विभाग द्वारा घर-घर जाकर दस्तावेज संग्रहण की कार्रवाई के बावजूद अभी तक 2392 के मुकाबले 1130 लोगों ने ही दस्तावेज जमा किए हैं। डिजिटल नक्शा आने के पूर्व सभी भूखंड पात्रता वाले नागरिक आवंटित पट्टे, आधार कार्ड और समग्र आईडी की फोटो कॉपी तहसील कार्यालय में जमा करें ताकि आगे की प्रक्रिया में विलंब न हो।

हरसूद पुनर्वास के विस्थापित परिवारों को भूखंड पर स्वामित्व की कार्रवाई में हरसूद प्रशासन जी तोड़ मेहनत कर रहा है। एसडीएम डॉ. परीक्षित झाड़े के निर्देशन में राजस्व अमला पूरे शहर का ड्रोन सर्वे कराए जाने के बाद रिकॉर्ड भोपाल आईटी ऑफिस में सबमिट कर चुका है। ड्रोन सर्वे और अधिग्रहित भूमि रिकॉर्ड के आधार पर हरसूद के 9 सेक्टर की करीब 369 हेक्टेयर भूमि का डिजिटल नक्शा भोपाल में तैयार हो रहा है। 5 दिनों से भोपाल में जुटा पटवारियों का दल सोमवार को ही वापस आया है। राजस्व विभाग की टीम में शामिल पटवारी अनिल चौहान ने बताया कि नक्शे में सभी खसरे नंबर अंकित किए जा रहे हैं। इससे किसी भी सेक्टर के भूखंड का खसरा नंबर स्पष्ट हो जाएगा। उसका उल्लेख मालिकाना हक पत्र में किया जाएगा।

भौतिक सत्यापन का काम 3-4 दिन में होगा पूरा

  • डिजिटल नक्शे के आधार पर राजस्व विभाग भौतिक सत्यापन का कार्य मात्र 3-4 दिनों में पूरा कर लेगा। इस कार्य के लिए टीम का प्रशिक्षण हो चुका है। नागरिकों द्वारा जल्दी अपने दस्तावेज सबमिट किए जाने चाहिए। -डॉ. परिक्षित झाड़े, एसडीएम हरसूद
खबरें और भी हैं...