पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

निर्दयी:खेत किनारे बोरी में बंद मिला 7 घंटे पहले जन्मा नवजात, गले में बंधी चिंदी

खंडवाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • रोने की आवाज सुन लोगों ने देखा, सिंगोट अस्पताल से खंडवा रैफर किया

जन्म लेते ही नवजात को बोरी में बांधा और मरने के लिए फेंक दिया, लेकिन उसके नसीब में जीवन लिखा था। रोने की आवाज सुन लोगों ने बोरी खोली में उसमें नवजात मिला। घटना सिंगोट स्थित पेट्रोल पंप के पास की है। बच्चे के गले में कपड़े की चिंदी बंधी हुुई थी। पुलिस ने बच्चे को बरामद कर पहले सिंगोट अस्पताल लाई फिर जिला अस्पताल में भर्ती करा दिया गया। डॉक्टरों की देखरेख में शिशु वार्ड में बच्चा पूरी तरह से स्वस्थ है। हालांकि उसके मां-बाप का पता नहीं चल सका है। जानकारी के मुताबिक रविवार सुबह 10.30 बजे गांव के प्रकाश यादव को बच्चे के रोने की आवाज सुनाई दी। पास जाकर देखते ही वह घबरा गया। उसने अपने दोस्त शुभम नाथ को सूचना दी। दोनों ने बोरी खोलकर देखा और पुलिस को सूचना दी। बच्चे की हालत नाजुक बनी हुई थी। जानकारी मिलते ही मौके पर पिपलौद थाना उपनिरीक्षक अनामिका राजपूत व पुलिस टीम पहुंची। उन्होंने बालक का उपचार गांव के ही स्वास्थ्य केंद्र पर कराया। डॉ. रामदास बकोरिया ने प्राथमिक जांच कर बच्चे को जिला अस्पताल के एसएनसीयू के लिए रैफर किया। ढाई किलो वजन है शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. कृष्णा वास्केल ने कहा बालक का वजन ढाई किलो है। मोटे टाट में लपेटने से शरीर की ऊपरी खाल निकल गई। बालक खतरे से बाहर है।

अस्पताल के बाद आश्रम
ऐसे बच्चों का जिला अस्पताल के एसएनसीयू में उपचार के बाद इंदौर के आश्रम भेजा जाता है। इंदौर में ऐसे बच्चों के लिए तीन आश्रम है। मातृ छाया आश्रम, नवदीप सेवा संस्थान व राजकीय बाल संरक्षण।

केस दर्ज किया है
पिपलौद थाना पुलिस ने भादंवि की धारा 317 के तहत अज्ञात आरोपी महिला के खिलाफ जन्म छुपाने की नीयत से नवजात बालक को असुरक्षित स्थान पर छोड़ देने के मामले में प्रकरण दर्ज किया। टीआई शिवराम जमरा ने बताया कि आसपास में किसी जगह सीसीटीवी कैमरे नहीं लगे हैं। आंगनवाड़ी का रिकार्ड देखेंेगे।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- घर-परिवार से संबंधित कार्यों में व्यस्तता बनी रहेगी। तथा आप अपने बुद्धि चातुर्य द्वारा महत्वपूर्ण कार्यों को संपन्न करने में सक्षम भी रहेंगे। आध्यात्मिक तथा ज्ञानवर्धक साहित्य को पढ़ने में भी ...

और पढ़ें