• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Khandwa
  • Panel Building, Island Platform Will Be Built, Platform No. Will Increase 5, Many Works Will Be Done At Khandwa Junction With 15.19 Crores, Tenders Done

यार्ड रिमॉडलिंग:पैनल बिल्डिंग, आइलैंड प्लेटफार्म बनेगा, प्लेटफार्म नं. 5 को बढ़ाएंगे, खंडवा जंक्शन पर 15.19 करोड़ से होंगे कई काम, टेंडर हुए

खंडवा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • टेंडर की प्रक्रिया व वर्क आर्डर जारी होने के बाद जनवरी-2022 से स्टेशन पर निर्माण शुरू होने की संभावना

खंडवा जंक्शन पर यार्ड रिमॉडलिंग के तहत 15 करोड़ 19 लाख की लागत से कई काम होंगे। इसमें पैनल बिल्डिंग, 3 व 4 नंबर प्लेटफार्म काे आइलैंड प्लेटफार्म बनाना और रेलवे ओवर ब्रिज तक प्लेटफार्म नंबर 5 का विस्तार करना शामिल है। चिड़िया मैदान की ओर ट्रैक चौड़ा करने के लिए तीन पुलिया अंडर पास में कांक्रीट बॉक्स डाले जाएंगे। वहीं 9 करोड़ 42 लाख रुपए से अकोला-खंडवा-रतलाम गेज कन्वर्जन प्रोजेक्ट के तहत छोटे-बड़े ब्रिज, सब-वे और रिटेनिंग वाल का निर्माण होगा। सेंट्रल रेलवे मुंबई ने भुसावल मंडल के तहत खंडवा स्टेशन पर यार्ड रिमॉडलिंग सहित अकोला ट्रैक पर निर्माण कार्यों के टेंडर खोले। सब कुछ ठीक रहा तो जनवरी-2022 में खंडवा स्टेशन पर निर्माण कार्य शुरू हो जाएगा।

रेलवे ने यार्ड रिमॉडलिंग के लिए लगभग 18 महीने का समय तय किया है। इस लिहाज से यार्ड का काम जून-2022 में पूरा हो जाएगा, जबकि खंडवा-अकोला ट्रैक पर ब्रॉडगेज का काम चल रहा है। इसके तहत ही मेजर व माइनर ब्रिज, सब-वे, रिटेनिंग वाल का काम भी हो रहा है।

2017 से ट्रैक बंद, ऑफिस पर ताला

1 जनवरी 2017 से अकोला-खंडवा-सनावद मीटरगेज ट्रैक पर रेलवे ने ट्रेनाें का संचालन बंद कर दिया है। जिसके बाद अहमदपुर खैगांव से लेकर निमाड़खेड़ी तक ब्रॉडगेज का काम वाया मथेला हुआ, लेकिन रेलवे ने इन चार सालों में यार्ड रिमॉडलिंग की ओर कभी ध्यान नहीं दिया। सेंट्रल, साउथ सेंट्रल और वेस्टर्न रेलवे मंडल के बीच में उलझे खंडवा स्टेशन की दशा खराब ही रही। जिस ट्रैक पर ट्रेन चलती थी वहां घास उग गई।

3-4 नंबर प्लेटफार्म बनेगा आइलैंड जैसा

प्लेटफॉर्म नंबर-4 व 5 के बीच केवल दो रेलवे लाइन डाली जाएगी। 3 व 4 नंबर प्लेटफार्म आइलैंड प्लेटफार्म की तरह विकसित किए जाएंगे। रेलवे इंजीनियर्स ने बताया आइलैंड प्लेटफार्म का मतलब यह है जिसमें यात्री बीच में बने प्लेटफार्म पर रहते हैं। प्लेटफार्म के दोनों तरफ रेलवे ट्रैक बने होते हैं। एक ट्रैक पर ट्रेन आती है तो दूसरे से जाती है।

इंदाैर-अकाेला वाले यात्रियों काे फायदा

यार्ड रिमॉडलिंग का काम होने से आने वाले चार से पांच साल के भीतर खंडवा, इंदौर व अकोला से सीधा जुड़ जाएगा। अभी तक इंदौर जाने के लिए यात्रियों को बस का ही सहारा है। ट्रेन शुरू होने से इंदौर और खंडवा के बीच व्यावसायिक गतिविधियां भी बढ़ेंगी। वहीं वाया अकोला होकर यात्रियों को दक्षिण-पश्चिम भारत की ओर जाने के लिए नया रूट भी मिलेगा। फिलहाल खंडवा के यात्रियों को वाया भुसावल होकर अकोला तक जाना पड़ता है।

अकोला-खंडवा-इंदौर के बीच गेज कन्वर्जन की स्थिति

  • 1 खंडवा-अकोला: सिकंदराबाद के नांदेड डिविजन में अकोला-खंडवा सेक्शन का काम चल रहा है। खंडवा से अकोला 172 किमी है। गुड़ी तक अर्थवर्क के साथ ट्रैक का काम शुरू हो गया है। खंडवा से गुड़ी बीच आबना नदी पर गणगौर घाट के पास रेलवे नया ब्रिज बना रहा है।
  • 2 खंडवा-सनावद : अहमदपुर खैगांव से खंडवा को जोड़ने वाले 7 किमी ट्रैक पर काम शुरू नहीं किया है, जबकि रेलवे ने सेल्दा पॉवर प्लांट ट्रैक के साथ यहां की पटरी उखाड़ने का काम शुरू किया था, लेकिन इसे अभी तक पूरा नहीं किया जा सका है।
  • 3 सनावद-महू : मीटरगेज ट्रैक को ब्रॉडगेज में बदलने के लिए फिलहाल सनावद से महू के बीच काम नहीं के बराबर हो रहा है। यहां ट्रैक से पहले स्टेशन के निर्माण को प्राथमिकता दी जा रही है। वन विभाग की जमीन और घाट सेक्शन होने के कारण ट्रैक के काम में रुकावट आ रही है।
खबरें और भी हैं...