पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Khandwa
  • Police Returned The Devotees Who Reached Omkar City To Bathe Narmada From The Entrance; Mandhata MLA Did Not Take Initiative To Lift Ban, Now Writing Letter To CM

वट सावित्री अमावस्या:नर्मदा स्नान करने ओंकार नगरी पहुंचे श्रद्वालुओं को पुलिस ने प्रवेश द्वार से लौटाया; मांधाता विधायक ने प्रतिबंध हटाने पहल नहीं की, अब सीएम को लिख रहे पत्र

खंडवा4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
अमावस्या के दिन तीर्थनगरी पहु� - Dainik Bhaskar
अमावस्या के दिन तीर्थनगरी पहु�

वट सावित्री अमावस्या के दिन महिलाएं बरगद के पेड की पूजा और परिक्रमा करके सौभाग्य की चीजों का दान करती है। तो निमाड़ में श्रद्वालु नर्मदा में स्नान करने के साथ ओंकारेश्वर स्थित ममलेश्वर ज्योर्तिलिंग जाते है। लेकिन अनलॉक के बावजूद तीर्थनगरी में धारा 144 लागू है, पुलिस ने प्रवेश द्वार से ही श्रद्वालुओं को वापस लौटा दिया। खास बात यह है कि मांधाता विधायक दो दिन पहले क्राइसिस मैनेजमेंट की बैठक में प्रतिबंध हटाने काे लेकर पहल नहीं कर पाए और अब सीएम को पत्र लिख रहे है।

नर्मदा तट पर बारह ज्योर्तिलिंगों में से ओंकारेश्वर में ममलेश्वर है। बीते वर्षों में हर साल इस अमावस्या पर बड़ी आस्था व श्रद्धा के साथ हजारों की संख्या में मालवा, निमाड़, राजस्थान सहित अन्य क्षेत्रों से हजारों की संख्या में श्रद्धालुओं का जमावड़ा ओंकारेश्वर में लगता था। भक्त मां नर्मदा में स्नान व ओंकार जी के दर्शन के उद्देश्य से यहां आते हैं। लेकिन गुरूवार को तीर्थनगरी में पुलिस का सख्त पहरा रहा। बाइक, कार से पहुंचे बाहरी व स्थानीय श्रद्वालुओं को तीर्थनगरी के बाहर 2 किमी दूर से ही लौटा दिया गया। पुलिस ने जगह-जगह बैरिकेड्स लगा रखे थे। राजस्व व पुलिस के बड़े अफसरों ने भी क्षेत्र का दौरा किया।

अनलॉक की तैयारी:आज से खुलेगा जिम, 25 % क्षमता से होटल-रेस्टोरेंट में खिला सकेंगे खाना; व्यापारी ने मास्क नहीं लगाया तो दुकान होगी सील

ओंकार नगरी के प्रवेश द्वार से ही श्रद्वालुओं को लौटाया
ओंकार नगरी के प्रवेश द्वार से ही श्रद्वालुओं को लौटाया

- मांधाता विधायक की आस्था जगी तो सीएम को लिखा पत्र

मांधाता विधायक नारायण पटेल ने सीएम शिवराजसिंह चौहान को लिखे पत्र में कहा कि कोविड-19 महामारी पर नियंत्रण के बाद समूचे प्रदेश को अनलॉक किया गया है। ऐसे में मेरे विस क्षेत्र के धार्मिक स्थल ओंकारेश्वर और सिंगाजी धाम बंद है। मंदिर परिसर में भिक्षावृत्ति करने वाले, पुजारी व नारियल-पूजन सामग्री की दुकान लगाने वालों की आजीविका पर संकट आ चुका है। अनलॉक की श्रेणी में इन धार्मिक स्थलों को भी रखा जाएगा।

मांधाता विधायक ने सीएम को लिखा पत्र
मांधाता विधायक ने सीएम को लिखा पत्र
खबरें और भी हैं...