पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

चुनावी तैयारी:अध्यक्ष का निर्वाचन पार्षदों से, दावेदारों को बदलना पड़ेगी रणनीति

खंडवाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • नए समीकरण वार्ड आरक्षण के बाद तय किए जा सकेंगे, अध्यक्ष पद ओबीसी (मुक्त); दोनों दलों में वर्तमान पार्षदों पर संकट आना तय

दो दिनों पहले निकाय निगम अध्यक्ष / महापौर पद का निर्वाचन पार्षदों द्वारा किए जाने के निर्णय से शहर की राजनीति गरमाने लगी है। हालांकि नगर परिषद छनेरा हरसूद के आम चुनाव को तकरीबन साल भर का समय है। लेकिन शासन के नए फैसले से अध्यक्ष पद के दावेदारों के सामने रणनीति बदलने की विवश्ता आ चुकी है। यहां बता दें कि अध्यक्ष पद आरक्षण के बाद भाजपा और कांग्रेस से संभावित उम्मीदवारों द्वारा डेढ़ साल पहले ही ताना-बाना बुनना शुरू कर दिया था। अब अध्यक्ष निर्वाचित 15 पार्षदों के बीच से ओबीसी वर्ग से चुना जाएगा।

सीधे जनता के बीच जाने नीति पर ब्रेक - फरवरी 2021 में निकाय अध्यक्ष /महापौर आरक्षण में छनेरा हरसूद नप अध्यक्ष पद ओबीसी घोषित होने के बाद से भाजपा से संतोष कुमरावत, द्वारकाप्रसाद प्रजापति, गुलाबचंद सोनी कांग्रेस से रामू यादव, मुकेश वर्मा सहित अन्य नाम सामने आए हैं। इनमें से कुछ दावेदारों ने जमीनी तैयारी में नागरिकों से मेलजोल और पार्टी के वरिष्ठ नेताओं से मुलाकात का दौर शुरू कर दिया था। लेकिन उपरोक्त संभावित दावेदारों का सीधे जनता के बीच जाकर चुनाव लड़ने की नीति पर ब्रेक लग जाएगा। सभी की निगाहें अब वार्ड आरक्षण पर टीक गई है । क्योंकि इन्हें अध्यक्ष की दौड़ में शामिल होने के पहले पार्षद का चुनाव लड़ना होगा, उसके लिए इन्हें वार्ड का चयन आसान नहीं होगा।

90 के दशक में हुआ था इस तरह निर्वाचन
निकाय चुनावों में अध्यक्ष का निर्वाचन 1995-96 में एक बार तत्कालीन दिग्विजय सिंह की सरकार में हो चुका है। डूब के पहले नगर परिषद हरसूद में पार्षदों से चुनकर पहले अध्यक्ष गोविंद दास सोमानी निर्वाचित हुए थे। इसके बाद 1999-2000 से 2016-17 तक अध्यक्ष का चुनाव सीधे जनता से हुआ है। एक बार फिर निकाय चुनाव में 90 के दशक का ट्रेड अपनाया जाएगा। इससे पार्षद के लिए भी काफी मशक्कत करना पड़ेगी।

संगठन रणनीति तय करेगा

  • भाजपा परिषद के कार्यकाल से आगामी नप चुनाव में कांग्रेस की राह आसान है। वार्ड आरक्षण पश्चात संगठन रणनीति तय करेगा। पीसीसी के निर्देश मिलते ही संगठन कार्य में जुट जाएगा। -सुनील सोलंकी, नगर कांग्रेस अध्यक्ष

चुनाव में पूरी ताकत से मैदान में उतरेंगे

  • फिलहाल कुछ भी कहना जल्दबाजी होगा। प्रत्यक्ष प्रणाली चुनाव में भाजपा पूरी ताकत से मैदान में उतरेगी। हरसूद पुनर्वास में मालिकाना हक हमारी बड़ी उपलब्धि है। -प्रीतम सिंह डोटवा, भाजपा नगर मंडल अध्यक्ष
खबरें और भी हैं...