स्मृति दिवस पर शहीदों को श्रद्धांजलि:पुलिस परेड ग्राउंड में शहीदों को दी सलामी, वीरांगनाओं का किया सम्मान

खंडवाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पुलिस स्मृति दिवस पर पुलिस लाइन में शहीदों को श्रद्धांजलि कार्यक्रम किया गया। इसमें शहीदों की याद मे उनके परिजन का सम्मान किया। खंडवा से नाता रखने वाले शहीद सीताराम यादव की पत्नी ज्योति और कैप्टन उपमन्यु सिंह की पत्नी मोनिका सिंह को शाल श्रीफल भेट देकर सम्मान किया। जब शहीदों को याद किया तो पत्नी ज्योति और मोनिका सिंह की आंखों से आंसू निकल आएं। माहौल गमगीन हो गया। यादव ने सिमी का नेटवर्क ध्वस्त किया था। मुठभेड़ के दौरान 2009 में आतंकियों ने उन्हें गोली मार दी थी। वही, कश्मीर के बारामुला में कैप्टन सिंह ने आतंकी की टीम को घेरा था।

जिसमे सिंह ने दो आतंकी को ढेर कर दिया। वहाँ गोलीबारी के दौरान उन्हें भी गोली लग गई थी। जिसमे कैप्टन सिंह शहीद हो गये। सिंह की ससुराल खंडवा की है। यहां उनकी पत्नी रहती हैं। आरआई पुरुषोत्तम विश्नोई ने बताया कि कार्यक्रम में शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की। परेड का नेतृत्व धरम सिंह जामोद ने किया। मुख्य न्यायाधीश संजीव कालगांवकर, कलेक्टर अनूप कुमार सिंह, एसपी विवेक सिंह, विधायक देवेंद्र वर्मा, महापौर अमृता यादव, भाजपा जिलाध्यक्ष सेवादास पटेल, राजेश तिवारी, जिला पंचायत अध्यक्ष कंचन तनवे, सीएसपी पीसी यादव, डीएसपी ट्रैफिक प्रशांत, सूबेदार देवेंद्रसिंह परिहार, नितिन निगवाल, धरमसिंह जामोद और अन्य विभाग के अफसर मौजूद थे।

एक साल में 261 पुलिस अधिकारी और कर्मचारी हुए शहीद
गौरतलब है लद्दाख स्थित हॉट स्प्रिंग की यात्रा देश के प्रत्येक पुलिस कर्मचारी के लिए तीर्थ है। भारतीय तिब्बत सीमा पुलिस के उप पुलिस अधीक्षक करम सिंह और केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल के उनके 20 सहयोगी 21 अक्टूबर 1959 को अन्य दिन की तरह हॉट स्प्रिंग जो कि समुद्र तल से 4681 मीटर स्थित है, भारतीय सीमा पर गश्त पर थे। तभी चीनी सैनिकों ने पहाड़ी की चोटी से भारतीय गश्ती दल पर हमला बोला, जिसमें 11 वीर सपूत शहीद हुए व अन्य को कैदी बना लिया गया।

समूचे भारत की पुलिस प्रत्येक वर्ष 21 अक्टूबर को "पुलिस स्मृति दिवस" के रूप में मनाती है। एसपी सिंह ने बताया 1 सितम्बर 2021 से 31 अगस्त 2022 तक की अवधि में कुल 261 अधिकारी और कर्मचारी कर्तव्य की वेदी पर शहीद हुए। इसमें मध्यप्रदेश के 16 अधिकारी/कर्मचारी शामिल हैं।

खबरें और भी हैं...