पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Khandwa
  • Survey Will Be Done Again For Laying Broad Gauge Line Between Mhow To Choral, Railways Had Decided To Turn The Line At 1:100 Gradient

ब्रॉडगेज निर्माण में एक और ब्रेक:महू से चोरल के बीच ब्रॉडगेज लाइन बिछाने के लिए दोबारा होगा सर्वे, रेलवे ने 1:100 ग्रेडियंट पर लाइन को टर्न कर बनाने का लिया था निर्णय

खंडवा14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
फोटो- चोरल स्टेशन के पास का। - Dainik Bhaskar
फोटो- चोरल स्टेशन के पास का।
  • अब 1:150 ग्रेडियंट तय किया, काम में छह महीने का लगेगा वक्त
  • गेज कन्वर्जन : उप-मुख्य इंजीनियर, इंदौर (पश्चिम रेलवे) ने कहा- रेल ट्रैक के लिए नए सिरे से करेंगे वन भूमि अधिग्रहण का आवेदन

मीटरगेज ट्रेन की गति से चल ब्रॉडगेज निर्माण में एक और ब्रेक लग गया है। क्योंकि महू-चोरल के बीच ग्रेडिएंट (रेलवे ट्रैक का उतार-चढ़ाव) के सर्वे को पश्चिम रेलवे ने रद्द कर नए के लिए टेंडर जारी किया है। अब नए सिरे से सर्वे होेगा। इसमें करीब छह महीने का वक्त लगेगा। सर्वे रिपोर्ट के आधार पर ट्रैक के लिए वन विभाग की जमीन के अधिग्रहण का आवेदन रेलवे करेगा। निजी कंपनी ट्रैक का सर्वे अक्टूबर से शुरू करेगी। चोरल से महू के बीच गेज कन्वर्जन के तहत 12 किमी लंबी सुरंग बननी है। महू के आगे घाट सेक्शन (पातालपानी- कालाकुंड, चोरल-मुख्तियारा बलवाड़ा) का सबसे महत्वपूर्ण काम है। यहां फिलहाल 1:40 (वन इन 40 ग्रेडिएंट, यानी 40 फीट चलने पर ट्रेन घाट पर एक फीट ऊंचाई की ओर बढ़ती है) है। इसे बदलकर 1:100 ग्रेडियंट पर लाइन को टर्न कर बनाने का निर्णय लिया गया था। 2008 में इस सेक्शन पर काम शुरू होने के बाद अब तक दो बार और सर्वे हो चुका है। अब तय किया गया कि 1:150 ग्रेडियंट होगा।

वन विभाग : पुराने सर्वे में आ रही थी 250 हेक्टेयर वन भूमि, रेलवे ने पेड़ों की कटाई व पौधारोपण के लिए जमा नहीं किए 60 करोड़ रुपए

महू से बलवाड़ा बीच रेलवे ने गेज कन्वर्जन के तहत ट्रैक निर्माण के लिए वन विभाग की लगभग 250 हेक्टेयर जमीन अधिग्रहण का प्रस्ताव डेढ़ साल पहले भेजा था। जिसे केंद्रीय पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय ने सैद्धांतिक मंजूरी दे दी थी, लेकिन ट्रैक का ग्रेडियंट तय नहीं होने से रेलवे ने अंतिम मंजूरी के लिए मंत्रालय को वन भूमि सहित 35 हजार पेड़ों की कटाई व वैकल्पिक पौधारोपण के लिए 60 करोड़ की राशि जमा नहीं की। अब नए सिरे से सर्वे के बाद रेलवे मंत्रालय को जमीन अधिग्रहण के लिए दोबारा आवेदन करेगा।

राजनीति : इंदौर सांसद ने रेल मंत्री को लिखा पत्र, महू-खंडवा सेक्शन का बजट धार लाइन में किया जाए मर्ज

इंदौर-खंडवा ब्रॉडगेज कन्वर्जन में देरी से अब राजनीति शुरू हो गई है। इंदौर सांसद शंकर लालवानी ने रेल मंत्री को पत्र लिखकर इंदौर-खंडवा सेक्शन के लिए जारी राशि को टिही-धार रेल मार्ग निर्माण के लिए मर्ज करने की मांग की है। सांसद लालवानी ने रेल मंत्री को लिखे पत्र में कहा है कि महू-सनावद अमान परिवर्तन का काम अभी प्रारंभ होने की संभावना नहीं है। रतलाम-अकोला खंडवा के अमान परिवर्तन के कार्य में अकोट के आगे का कार्य प्रारंभ नहीं हुआ है। केवल खंडवा से आकोट की ओर 50 किमी का काम धीमी गति से चल रहा है।

गेज कन्वर्जन के लिए इस वर्ष करीब 325 करोड़ का बजट आवंटित हुआ है। जिसका उपयोग उपरोक्त स्थिति को देखते हुए पूर्ण रूप से नहीं हो पाएगा। मेरा अनुरोध है कि अमान परिवर्तन के लिए आवंटित राशि में करीब 150 करोड़ इंदौर-दाहोद लाइन के टिही से धार तक कार्य के लिए दिए जाए। जिससे संभावित दो साल में पूरे होने वाले इस काम से इंदौर से धार तथा धार से छोटा उदयपुर का सीधा संपर्क बन सकेगा।

महू से चोरल के बीच रूट में भी होगा परिवर्तन

महू से चोरल के बीच गेज कन्वर्जन के लिए ग्रेडियंट रिवाइज होगा। इसके लिए टेंडर जारी किए गए हैं। ग्रेडियंट रिवाइज में 6 महीने का वक्त लगेगा। इसमें रूट में भी परिवर्तन होगा। जिसके बाद दोबारा वन विभाग को भूमि अधिग्रहण के लिए आवेदन करेंगे। -एसके पिपलोदिया, उप-मुख्य इंजीनीयर, इंदौर (पश्चिम रेलवे)

खबरें और भी हैं...