• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Khandwa
  • The Average Rainfall In Nimar Is Only 40 Percent, There Is No Scope For The Next 7 Days; Scientist Said The System Is Not Active In Nimar, Will Bid Farewell To Gwalior Chambal

निमाड़ में मौसम की बेरुखी, मुरझाने लगी फसलें:औसत से 40 % ही बारिश, अगले 7 दिन तक भी गुंजाइश नहीं; एक्सपर्ट बोले- यहां सिस्टम सक्रिय नहीं

खंडवा4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
खेतों में खड़ी सोयाबीन फसल मुरझाने की कगार पर। - Dainik Bhaskar
खेतों में खड़ी सोयाबीन फसल मुरझाने की कगार पर।

प्रदेश में चंबल संभाग में बाढ़ तबाही मचा रही है, लेकिन निमाड़ में सूखे के हालात हैं। अब तक औसत से सिर्फ 40% बारिश हो सकी है। ताप्ती, नर्मदा, कुंदा में उफान नहीं आ सका, तो इंदिरा सागर और ओंकारेश्वर डैम के गेट भी नहीं खुल सके। सूखे के कारण फसलें मुरझाने लगी हैं। इधर, मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि निमाड़ में सिस्टम नहीं बन पा रहा है। अगले एक सप्ताह तक बारिश की गुंजाइश नहीं है।

निमाड़ में मौसम की बेरुखी से हालात बुरे हैं। किसान फसलों को लेकर चिंतित हैं, तो कुओं व नलकूपों में भी पानी नहीं आ सका है। शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में जलसंकट बरकरार है। पानी की कमी से सोयाबीन की फसल मुरझाकर खराब होने लगी है। कपास और मिर्च उत्पादक किसान भी चिंतित है। क्योंकि, जो बारिश हुई थी, उसकी नमी भी खेतों से गायब हो चुकी है। फसलों में खाद व दवाओं का छिड़काव किया जा चुका है। नमी नहीं होने से जमीनी गर्मी के कारण फसलें सूखने की कगार पर हैं।

किसान मिट्‌टी में चिरा लगाकर फसल को बचाने की जुगत में लगा है।
किसान मिट्‌टी में चिरा लगाकर फसल को बचाने की जुगत में लगा है।

निमाड़ के जिलों में ऐसे है बारिश के हाल

खंडवा जिले की औसत बारिश 32 इंच है। 1 जून से अब तक जिले में 15.4 इंच बारिश हो चुकी है। यानी औसत बारिश से 40 फीसदी बारिश ही हुई है। पिछले साल इस समय तक 18.7 इंच बारिश हुई थी। इस मान से अब तक 3.3 इंच बारिश कम हुई है। बुरहानपुर जिले में इससे भी कम 12.18 इंच बारिश हुई है। जबकि पिछले साल अब तक 18.59 इंच पानी बरसा था। बुरहानपुर में 10.51, नेपानगर में 12.39 व खकनार में 13.65 इंच बारिश हुई है। यहीं हाल खरगोन और बड़वानी जिले के है।

MP में बांधों के गेट खुलने का मनमोहक VIDEO:चंदेरी में राजघाट बांध के 6, छतरपुर-टीकमगढ़ में 3 और राजगढ़ मोहनपुरा डैम के 8 गेट खोले, विदिशा में संजय सागर बांध के 2 गेट अभी भी खुले

एक सप्ताह तक गुंजाइश नहीं

भोपाल स्थित मौसम विज्ञान केंद्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. जीडी मिश्रा के अनुसार अभी निमाड़ में मानसून सक्रिय नहीं है। अगले एक सप्ताह तक कोई सिस्टम भी नहीं बन रहा है, जिससे कि बारिश का अनुमान लगाया जा सकें। हालांकि, इस बीच छुटपुट बारिश होगी। अगस्त के साथ सितंबर तक बारिश होगी, जिससे कि औसत बारिश का कोटा पूरा हो जाएगा। यहीं हालात मध्यप्रदेश के है। ग्वालियर-चंबल संभाग में बना सिस्टम भी आज लौट जाएगा।

सूखे के हालात बनने से कपास की ग्रोथ जस की तस।
सूखे के हालात बनने से कपास की ग्रोथ जस की तस।
खबरें और भी हैं...