पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Khandwa
  • The Student Who Joined Online Classes, Projects, Webinars Throughout The Year Came First With 20% Marks.

कोरोना के दौर में कक्षा 10वीं में सब पास:ऑनलाइन क्लास, प्रोजेक्ट, वेबिनार से जो विद्यार्थी सालभर जुड़ा, वह 20% अंक लेकर प्रथम आया

खंडवा20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • माशिमं ने बुधवार को घोषित किए परीक्षा परिणाम, जिले के 17091 विद्यार्थी उत्तीर्ण

कोरोना संक्रमण के चलते इस साल माध्यमिक शिक्षा मंडल ने कक्षा 10वीं की परीक्षा नहीं ली लेकिन परीक्षा परिणाम आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर घोषित किए। बोर्ड परीक्षा में छह विषयों में से सर्वाधिक अंक वाले पांच विषयों के आधार पर अर्द्धवार्षिक परीक्षा के 50%, आंतरिक मूल्यांकन के 20% व कोरोनाकाल में लिए गए रिवीजन टेस्ट के 30% अंकों को जोड़ा और विद्यार्थियों का परीक्षा परिणाम तैयार किया गया। ऑनलाइन कक्षा, परीक्षा, वेबिनार व प्रोजेक्ट से जो विद्यार्थी सालभर जुड़ा रहा, वह 20% वाले फार्मूले में सफल रहा और प्रथम आया।

माध्यमिक शिक्षा मंडल भोपाल ने बुधवार को 10वीं बोर्ड के परीक्षा परिणाम घोषित किए। खंडवा जिले में इस साल कुल 17091 विद्यार्थियों ने परीक्षा के लिए आवेदन भरे थे। इनमें से 188 सरकारी स्कूलों के 15684 विद्यार्थी व 45 निजी स्कूलों के 3325 विद्यार्थी शामिल होने वाले थे। कोरोना संक्रमण के कारण इस साल न स्कूलें खुलीं न ऑफलाइन पढ़ाई हुई। पहली लहर दिसंबर में खत्म होने के बाद मार्च-अप्रैल में परीक्षाएं होनी थी, 79 सेंटर भी तय हो गए थे, परीक्षा की तैयारियां भी पूरी कर ली गई थी लेकिन फरवरी-मार्च में कोरोना की दूसरी लहर आ गई और परीक्षाएं निरस्त कर दी गई। पहली बार परीक्षा में सभी परीक्षार्थी पास हुए।

ऐसे तैयार हुआ परिणाम अर्द्धवार्षिक परीक्षा के 50%, आंतरिक के 20% व रिवीजन टेस्ट के 30% अंकों को जोड़ा, बेस्ट फाइव से तैयार हुआ परीक्षा परिणाम, परीक्षाफल से संतुष्ट नहीं होने पर विद्यार्थियों को सितंबर में फिर मिलेगा परीक्षा देने का मौका

यह है बेस्ट फाइव से परीक्षा परिणाम तैयार करने का फार्मूला

अर्द्धवार्षिक परीक्षा के 50% अंक
जब स्कूलें बंद थी तो विद्यार्थियों को ऑनलाइन पढ़ाया गया। ऑनलाइन ही अर्द्धवार्षिक परीक्षाएं जनवरी में हुई। जिसकी उत्तर पुस्तिकाएं स्कूल के शिक्षकों ने ही जांची। वार्षिक परीक्षा में अर्द्धवार्षिक परीक्षा के 50% अंकों को जोड़ा गया।

रिवीजन टेस्ट के 30% अंक
ऑनलाइन पढ़ाई के साथ-साथ शिक्षकों ने विद्यार्थियों के रिवीजन टेस्ट भी लिए। रिवीजन टेस्ट का उद्देश्य घर बैठे पढ़ाई कर रहे विद्यार्थियों की शैक्षणिक गुणवत्ता की जांच करना था। इसलिए वार्षिक परीक्षा फल में रिवीजन टेस्ट के 30% अंकों को भी आधार माना गया।

आंतरिक मूल्यांकन के 20% अंक
स्कूल प्रबंधनों ने ऑनलाइन कक्षाओं के लिए सोशल मीडिया पर ग्रुप बनाकर पढ़ाई कराई। इसमें जो विद्यार्थी सालभर जुड़े, जिसने प्रोजेक्ट वर्क पूरा किया, वेबिनार अटैंड किए, पढ़ाई की, कितने दिन उपस्थित रहा आदि को देखा गया और उसी आधार पर 20% अंक दिए गए।

एक्सपर्ट बोले, छह विषय होते तो कम अंक मिलते
शासकीय उत्कृष्ट विद्यालय खंडवा के प्राचार्य आरके सेन ने बताया परिणाम 5 विषयों के 500 अंकों पर तैयार हुआ है। विद्यार्थी को जिस विषय में सर्वाधिक अंक मिले उसे ही जोड़ा गया, एक विषय जिसमें सबसे कम अंक हैं उसे नहीं जोड़ा गया। अगर छठे विषय के अंक भी जोड़ दिए जाते और गणना की जाती तो परिणाम का % और कम हो जाता।

विशेष परीक्षा 1 से 25 सितंबर के बीच
रिजल्ट से असंतुष्ट छात्रों को परीक्षा का विकल्प दिया है। यह परीक्षा 1 से 25 सितंबर के बीच होगी। इसमें प्राप्त अंकों के अनुसार मार्कशीट बनेगी। छात्रों को 1 से 10 अगस्त तक ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कराना होगा।

कलेक्टर के वाहन चालक का बेटा बना टॉपर
शा. उत्कृष्ट के विद्यार्थी आदित्य ने 500 में से 500 अंक पाए। आदित्य के पिता भगवान सिंह कलेक्टर अनय द्विवेदी के वाहन चालक हैं। आदित्य ने बताया उसे 5 विषयों में 100 में से 100 अंक मिले, गणित में 97 अंक। शिक्षकों ने ऑनलाइन कठिनाईयों का निराकरण किया। आठवीं में 94% व 9वीं में 94.24% अंक मिले थे। कोरोना के चलते प्राइवेट परीक्षा देने वालों की संख्या कम रही। परीक्षा के लिए चयनित 79 केंद्रों पर परीक्षा देने के लिए 1407 ने आवेदन किए थे, जिन्हें 33% अंकों के आधार पर उत्तीर्ण किया।

इधर, सप्ताह में चार दिन ही खुलेंगे स्कूल, एक बैच पहले और दूसरा अगले दिन पढ़ेगा
सरकारी स्कूलों में 25-26 जुलाई से ऑफलाइन पढ़ाई शुरू हो जाएगी। शुरुआत 11वीं व 12वीं की कक्षाओं से होगी। कक्षाएं सप्ताह में चार दिन संचालित होगी। जिसमें एक बैच को पहले दो दिन तो दूसरे बैच को अगले दो दिन पढ़ाया जाएगा। सबकुछ ठीक रहा तो इसके बाद 9वीं, 10वीं फिर 5वीं से 8वीं तक के सारे स्कूलें खुल जाएंगी।

संक्रमण की दूसरी लहर का प्रभाव कम होते ही शिक्षण संस्थाएं खुलने की संभावना हैं। बुधवार को सीएम ने यह घोषणा की। फिलहाल इस संबंध में आदेश जिला शिक्षा विभाग को नहीं मिले हैं। फिर भी विभाग ने स्कूलों के प्राचार्यों को 50-50 के फार्मूले के साथ पढ़ाई कराने के लिए तैयारियों के निर्देश दे दिए हैं। इसके पूर्व शासन द्वारा 1 जुलाई से स्कूलों में ऑफलाइन पढ़ाई के आदेश जारी किए गए थे। इससे बाद में स्थगित कर दिया गया था।

फिलहाल आदेश नहीं आए

  • 25-26 जुलाई से कक्षा 11वीं व 12वीं की कक्षाएं संचालित करने की हमारी पूरी तैयारी है। प्राचार्यों को निर्देश दिए हैं। फिलहाल लिखित आदेश नहीं मिले हैं।​​​​​​​ -संजीव भालेराव, प्रभारी, डीईओ।
खबरें और भी हैं...