पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Khandwa
  • Three Days Before Gurupurnima, 500 People Offered Marks To Grandfather, Entry Of Common Devotees Banned From Today

ऑनलाइन दर्शन:गुरुपूर्णिमा से तीन दिन पहले 500 लोगों ने दादाजी को चढ़ाए निशान, आज से आम श्रद्धालुओं का प्रवेश प्रतिबंधित

खंडवा3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पांढुर्ना से 350 किलोमीटर पदयात्रा कर खंडवा पहुंचे श्रद्धालु इस तरह हाथों से रथ खींचते हुए दादाजी दरबार पहुंचे। - Dainik Bhaskar
पांढुर्ना से 350 किलोमीटर पदयात्रा कर खंडवा पहुंचे श्रद्धालु इस तरह हाथों से रथ खींचते हुए दादाजी दरबार पहुंचे।
  • मंगलवार सुबह से रात तक 15 हजार से अधिक लोगों ने किए दादाजी मंदिर में दर्शन
  • चार महीने बाद मंदिर संस्थान ने शुरू की ऑनलाइन बुकिंग के साथ वीआईपी दर्शन व्यवस्था
  • रविवार व सोमवार को ओंकारेश्वर की सीमाएं रहेंगी सील, बाहरी लोगों के प्रवेश पर प्रतिबंध
  • आज से 23 तक सील रहेंगी सीमाएं, बाहरी श्रद्धालु नहीं आ सकेंगे, मंदिर में सिर्फ सेवादार ही करेंगे पूजन-आरती

गुरुपूर्णिमा से तीन दिन पहले श्री दादाजी दरबार में 500 से अधिक लोगों ने निशान चढ़ाए। मंगलवार सुबह से रात तक करीब 15 हजार लोगों ने यहां बड़े और छोटे दादाजी की समाधियों के साथ ही मां नर्मदा के दर्शन किए और धूनी माता में हवन किया। आश्रम ट्रस्ट ने मां नर्मदा मंदिर में मंगलवार को स्वर्ण कलश चढ़ाया।

बुधवार से गुरुपूर्णिमा 23 जुलाई तक जिले की सीमाएं सील रहेंगी। बाहर का कोई भी व्यक्ति शहर में प्रवेश नहीं कर सकेगा। वहीं मंदिर में आम श्रद्धालु प्रवेश नहीं कर सकेंगे। इस दौरान सेवादार ही पूजन और आरती करेंगे। मंगलवार शाम को पांढुर्ना और हरसूद के साथ ही शहर के विभिन्न क्षेत्रों से आए श्रद्धालुओं ने निशान चढ़ाए।

350 किलोमीटर पदयात्रा कर पांढुर्ना से लाए निशान

छिंदवाड़ा जिले के पांढुर्ना से 350 किलोमीटर पदयात्रा कर श्रद्धालु दादाजी के निशान लेकर मंगलवार शाम दादाजी दरबार पहुंचे। जत्थे में 6 वर्षीय बालक मयंक गुरव भी शामिल रहा। इसी तरह जिले के हरसूद सहित शहर के विभिन्न स्थानों से भी कई लोग भजो दादाजी का नाम भजो हरिहर जी का नाम का उच्चारण करते हुए शहर के प्रमुख मार्गों से निकले। शाम को रिमझिम बारिश के बावजूद श्रद्धालु कंधे पर निशान लेकर मंदिर पहुंचे।

पांढुर्ना और हरसूद सहित शहर के विभिन्न स्थानों से आए श्रद्धालुओं ने चढ़ाए निशान

आज से 4 समय की ऑनलाइन आरती में हो सकेंगे शामिल

मंदिर ट्रस्ट द्वारा कोरोना संक्रमण की शुरुआत होने के बाद से ही ऑनलाइन दर्शन कराए जा रहे हैं। प्रतिदिन शाम की आरती में श्रद्धालु दर्शन कर रहे हैं। इसमें 30 हजार लोग जुड़े हुए हैं। गुरुपूर्णिमा पर्व होने के कारण बुधवार से चार समय की आरती में लोग ऑनलाइन शामिल हो सकेंगे।

इस तरह किए दर्शन

  • गेट नंबर एक से प्रवेश कर बड़े दादाजी के दर्शन किए। धूनी माई में हवन किया। मां नर्मदा के दर्शन किए। छोटे दादाजी की समाधि के दर्शन कर मंदिर की परिक्रमा की।
  • निशान लेकर आए श्रद्धालुओं ने बड़े दादाजी और छोटे दादाजी मंदिर के समक्ष पेश किए।

आज से ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग के सशुल्क वीआईपी दर्शन शुरू

  • तीर्थनगरी में ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग के वीआईपी दर्शन बुधवार से शुरू हो रहे हैं। चार महीने बाद मंदिर संस्थान ऑनलाइन बुकिंग के माध्यम से वीआईपी दर्शन की सुविधा को शुरू कर रहा है। हालांकि गुरुपूर्णिमा पर्व के तहत नगर सीमा रविवार और सोमवार को सील होने के कारण बाहरी लोगों का प्रवेश प्रतिबंधित रहेगा। इन दो दिनों में बुकिंग बंद रहेगी।
  • दर्शन बुकिंग की वेबसाइट- www.shri omkareshwar.org के माध्यम से की जा सकती है। श्रद्धालु निशुल्क सामान्य दर्शन के लिए टोकन भी प्राप्त कर सकते हैं। वेबसाइट में दर्शन टोकन की अनिवार्यता वाले दिन भी दर्शाए गए हैं। जिसमें श्रावण माह के चारों रविवार व सोमवार पर टोकन बुकिंग के माध्यम से ही भक्त ज्योतिर्लिंग मंदिर में प्रवेश कर सकेंगे। वेबसाइट द्वारा मंदिर की अन्य गतिविधियों की जानकारी भी दी गई है।
  • वीआईपी दर्शन की इच्छा रखने वाले श्रद्धालु ऑनलाइन बुकिंग के माध्यम से मंगलवार से शनिवार के बीच 300 रुपए शुल्क जमा कर ज्योतिर्लिंग के दर्शन कर सकेंगे। यह व्यवस्था ऑनलाइन बुकिंग वालों के लिए ही रहेगी। मंदिर संस्थान के मुख्य कार्यपालन अधिकारी व एसडीएम चंदर सिंह सोलंकी ने बताया रविवार व सोमवार को बुकिंग बंद रहेगी।
खबरें और भी हैं...