पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

संत सिंगाजी:आज से तीन दिन रहेगी सिंगाजी मंदिर में भीड़, प्रसादी-अगरबत्ती पर रहेगा प्रतिबंध

खंडवाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • मेला ग्राउंड पर मिठाई-चाट की दुकानों की जगह नजर आ रहे मवेशी, घाट पर नहीं कोई व्यवस्था, पीने का पानी भी नहीं मिल रहा, 29 के बाद बढ़ेगी भीड़

दशहरा से शुरू होने वाला संत सिंगाजी महाराज का मेला इस साल नहीं लगा। इसके बावजूद भक्तों के आने का सिलसिला जारी है। समाधि के महंत ने भक्तों से दशहरे से पूर्णिमा तक किसी भी दिन आने के आग्रह का असर दिखाई दे रहा है। भक्तों का सीमित संख्या में आगमन शुरू चुका है। प्रशासन ने मंदिर में सिर्फ दर्शन की अनुमति दी है। प्रसादी, अगरबत्ती आदि पर प्रतिबंध है। मेला नहीं लगने से भक्तों के साथ दुकानदार भी निराश हैं। जिस जगह इस समय मिठाई-चाट, मनोरंजन सहित अन्य जरूरतों का सामान की दुकानें सजी रहती हैं वहां आज मवेशी चरते दिखाई दे रहे हैं। मंदिर में गुरुवार से शनिवार तक भीड़ रहने की संभावना है। कोविड-19 तथा उपचुनाव की आचार संहिता को देखते हुए जिला प्रशासन ने मेला लगाने की अनुमति नहीं दी है। श्रद्धालु मेला ग्राउंड से लगे दूधतलाई पर स्नान तो कर रह हैं लेकिन यहां प्रशासन की ओर से कोई सुविधा नहीं दी गई है। कपड़े बदलने के लिए टीन शेड नहीं होने से महिलाओं को परेशानी का समना करना पड़ रहा है। सुरक्षा के भी कोई इंतजाम नहीं है। यहां पीने के पानी की सबसे ज्यादा दिक्कत है।

परिक्रमा पर प्रतिबंध, 80 सेवादार नियुक्त
संत सिंगाजी समाधि ट्रस्ट ने शरद पूर्णिमा पर हर साल की तरह ही व्यवस्थाएं की हैं। कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए मंदिर की परिक्रमा पर ट्रस्ट ने प्रतिबंध लगाया है। हर साल की तरह 80 सेवादार मंदिर परिसर में सेवा दे रहे हैं। सिंगाजी भक्तों से मास्क लगाने के साथ दो गज की दूरी बनाने का लगातार आग्रह सेवादार कर रहे हैं। फूल, प्रसादी व अगरबत्ती पर भी रोक लगाई गई है।

प्रसादी व खानपान की दुकानें हटाई... संत सिंगाजी समाधिस्थल जलाशय पर कुछ छोटे दुकानदारों ने रविवार को ही नारियल प्रसादी व खान-पान की दुकानें लगा ली थी। प्रशासन को सूचना मिलते ही अफसर पहुंचे और दुकानें हटवा दीं। उन्होंने दुकानदारों को चेतावनी भी दी कि फिर से दुकान लगाई तो कानूनी कार्रवाई करना पड़ेगा।

बीड़-सिंगाजी रोड उखड़ा
मुख्यमंत्री ने उपचुनाव में सिंगाजी को धार्मिक पर्यटन स्थल तो घोषित कर दिया है लेकिन यहां तक पहुंचने के लिए 5 किमी सड़क (बीड़ से सिंगाजी) पूरी तरह उखड़ चुकी है। साल में दशहरे से पूर्णिमा तक पांच दिन लाखों की संख्या में श्रद्धालु समाधि पर मत्था टेकने व निशान चढ़ाने आते हैं। यातायात का दबाव भी ज्यादा रहता है। इसके बावजूद प्रशासन ने सड़क के गड्‌ढे भरने की कोशिश भी नहीं की। श्रद्धालुओं को वाहनों पर हिचकोले खाते हुए पहुंचना पड़ रहा है। दुर्घटना का भी अंदेशा बना हुआ है।

कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए किए हैं इंतजाम
^ट्रस्ट की ओर से श्रद्धालुओं के बीच दूरी बनाए रखने और कतार में आने के लिए रेलिंग लगा दी गई है। इससे भीड़ नहीं होगी और लोग कतार में आएंगे। 29, 30 व 31 को ज्यादा भीड़ रहने की संभावना है।
रतन महाराज, महंत सिंगाजी समाधि स्थल
चुनाव ड्यूटी में लगा है अमला
^प्रशासन ने मेला निरस्त कर दिया है इसलिए सिंगाजी में ज्यादा कर्मचारियों की ड्यूटी नहीं लगाई। सिर्फ पुलिस जवान तैनात किए हैं। पूरा अमला उपचुनाव की ड्यूटी में व्यस्त है।
सीएस सोलंकी, एसडीएम पुनासा

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- घर के बड़े बुजुर्गों की देखभाल व उनका मान-सम्मान करना, आपके भाग्य में वृद्धि करेगा। राजनीतिक संपर्क आपके लिए शुभ अवसर प्रदान करेंगे। आज का दिन विशेष तौर पर महिलाओं के लिए बहुत ही शुभ है। उनकी ...

और पढ़ें