पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

जहां नहीं चैना, वहां नहीं रहना:छज्जा गिरने के कारण तीन साल पहले निगम ने भवन को घोषित किया था जर्जर

खंडवाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • किशोर दा की जन्मस्थली गांगुली हाउस में सड़ांध

किशोर कुमार की जन्मस्थली गांगुली हाउस में अब प्रवेश द्वार ही सुरक्षित है। छत से टपक रहे पानी से यहां पड़ा कबाड़ सड़ गया है। सड़ांध के कारण परिसर में दो पल रुकना मुश्किल हो रहा है। निगम तीन साल पहले इस भवन को जर्जर घोषित कर चुका है। हालांकि उनके प्रशंसक कई सालों से भवन को स्मारक बनाने की मांग कर रहे हैं, लेकिन प्रशासन ने अब तक कोई कार्रवाई नहीं की। निगम के रिकार्ड में मकान कल्याण कुमार कुंजीलाल गांगुली (अमित कुमार पिता स्व.किशोर कुमार व अन्य) के नाम से दर्ज है।

इधर 4 अगस्त को देशभर में प्रशंसकों द्वारा किशोर दा का जन्मदिन मनाया जाएगा। हालांकि कोरोना संक्रमण से बचने के लिए इस बार किसी स्थान पर सार्वजनिक कार्यक्रम नहीं होंगे। निगम द्वारा इंदौर रोड स्थित समाधि स्थल पर सुबह दूध-जलेबी का भोग लगाकर श्रद्धांजलि कार्यक्रम किया जाएगा। इसमें आम लोग शामिल नहीं हो सकेंगे।

कोरोना के कारण पहली बार नहीं आया कोई प्रशंसक: गांगुली हाउस की 40 साल से देखरेख कर रहे 75 वर्षीय सीताराम सावनेर सोमवार सुबह किशोर दा को भारत रत्न दिए जाने की मांग का संदेश दे रहे मास्क पहने नजर आए। उन्होंने कहा साहब "किशोर दा’ के जन्मदिन के एक दिन पहले हर साल दूसरे शहरों से लोग यहां मकान देखने आते थे। कोरोना के कारण इस बार कोई नहीं आया। भवन का एक हिस्सा टूट गया है। साहब थे तब से यहां देखरेख करा रहा हूं। ऐसी स्थिति पहले कभी नहीं रही।

ऐसे हैं भवन के हालात

1. भवन में एक तरफ का छज्जा पहले ही गिर चुका है। दूसरी तरफ की छत भी खस्ताहाल होकर खतरनाक हो चुकी है। इससे पानी टपक रहा है।

2. परिसर में जगह-जगह मलबा पड़ा हुआ है। बारिश में कबाड़ा भीगने के कारण पूरे परिसर में सडांध फैल रही है।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज उन्नति से संबंधित शुभ समाचार की प्राप्ति होगी। धार्मिक और आध्यात्मिक कार्यों में भी कुछ समय व्यतीत होगा। किसी विशेष समाज सुधारक का सानिध्य आपके अंदर सकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न करेगा। बच्चे त...

और पढ़ें