25 साल बाद बदली रेल लाइन:खंडवा-भुसावल के बीच 130 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से दौड़ेंगी ट्रेनें, 72 किमी काम पूरा

खंडवा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

खंडवा से भुसावल के बीच ट्रेनें अब 110 की जगह 130 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से चलेंगी। रेलवे ने 25 साल बाद ट्रेनों की गति सीमा बढ़ाने के लिए खंडवा से बुरहानपुर सेक्शन के बीच रेल लाइन और स्लीपर को बदल दिया है। सेंट्रल रेलवे सेफ्टी की टीम स्पेशल ट्रेन दौड़ाकर ट्रैक का ट्रायल करेंगी। इसके बाद ट्रेनें 130 किमी की गति से चलाई जाएगी। सेफ्टी ट्रायल की प्रक्रिया एक साल के भीतर होने की संभावना रेलवे के अधिकारी व्यक्त कर रहे हैं। क्योंकि बुरहानपुर-भुसावल सेक्शन में ट्रैक की रेल लाइन और स्लीपर बदलने काम अभी चल रहा है।

वहीं पुल-पुलिया की मजबूती के साथ ही रेल लाइन के फाटक अभी तक बंद नहीं हुए हैं। इस काम में एक साल का वक्त लगेगा। फिलहाल खंडवा-बुरहानपुर-भुसावल सेक्शन में अधिकतम 110 किमी प्रति घंटा की स्पीड़ से ट्रेनें चल रही हैं। इधर, रविवार को सेंट्रल रेलवे मुंबई के प्रिसिंपल चीफ इंजीनियर ने भुसावल-खंडवा सेक्शन का निरीक्षण किया। पीसीई राजेश अरोरा सुबह मुंबई से चलकर गोरखपुर को जाने वाली कुशीनगर एक्सप्रेस से सेक्शन के डाउन ट्रैक की जांच करते हुए आए थे।

अरोरा के साथ भुसावल रेल मंडल के एईएन शम्स अहमद, सीनियर डीईएन (को) तरूण दंडोतिया भी खंडवा तक आए थे। पीसीई अरोरा निरीक्षण के बाद ट्रैक की कमियों एवं सुधार के आदेश बनाकर मंडल रेल कार्यालय भुसावल को भेजेंगे। गौरतलब है खंडवा-भुसावल सेक्शन की कुल लंबाई 120 किमी है। इसमें खंडवा से बुरहानपुर कुल अप में 36 और डाउन में 36 यानी कुल 72 किमी सेक्शन में रेल लाइन बदलने का काम किया गया। वर्ष 1998 में डाली गई रेल लाइन को बदलने का काम 2019 में शुरू हुआ था।

तब सेक्शन में 10 किमी रेल लाइन बदलने काम हुआ था। इसके बाद 2020 में केवल पांच किमी रेल लाइन को बदला गया। रेलवे ने काम को गति देते हुए दिसंबर 2021 में अधिकारियों को जुलाई 2022 तक रेल लाइन बदलने का लक्ष्य दिया था।

खंडवा-इटारसी ट्रैक का 130 किमी प्रतिघंटा की रफ्तार से ट्रायल पूरा
इधर, खंडवा-इटारसी (183) रेलवे ट्रैक पर पश्चिम मध्य रेलवे भोपाल मंडल ने 130 किमी प्रतिघंटा की रफ्तार से ट्रायल पूरा कर लिया है। खंडवा-बुरहानपुर सेक्शन से पहले डब्ल्यूसीआर भोपाल ने ट्रैक की गति बढ़ाने के लिए रेल लाइन और स्लीपर बदलने का काम शुरू किया था। वहीं भुसावल से आगे इगतपुरी-बडनेरा सेक्शन में भी सेंट्रल रेलवे ने 130 किमी प्रतिघंटा की रफ्तार से ट्रायल पूरा कर लिया है। खंडवा-भुसावल सेक्शन में रेल लाइन और स्लीपर बदले जाने के बाद पुल-पुलिया की मजबूती और रेलवे फाटक को बंद करने के लिए ओवर और अंडर ब्रिज बनाया जाना प्रस्तावित है। रेलवे बजट के अभाव में काम नहीं कर रहा है।

खबरें और भी हैं...