पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नुकसान:20 किलो कम उपज तौलने पर मंडी के दोनों कांटे बंद, 200 वाहनों का बाहर हुआ तौल

खंडवा8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • मंडी समिति ने ठेकेदारों को दिए नोटिस, नापतौल विभाग के सत्यापन के बाद ही चालू होंगे

एक वाहन का वजन 20 किलो कम तौलने पर मंडी समिति ने दोनों कांटों से तुलाई बंद कर दी। बुधवार काे उपज लाने वाले 200 किसानों ने एक वाहन पर 50 रु. अधिक चुकाकर उपज का तौल बाहर कराया। इस पर उन्हें नुकसान नहीं बल्कि 750 रु. का फायदा हुआ क्योंकि 20 किलो कम तौल पर उन्हें 4 हजार रु. प्रति क्विंटल के हिसाब से 800 रु. का नुकसान हो रहा था। बाहर तुलाई पर केवल 50 रु. ही अधिक खर्च करना पड़ा। इधर व्यापारी भी फायदे में रहे। एक क्विंटल उपज पर उन्हें 10 रु. भाड़ा देना पड़ता है। किसान नीलाम के बाद उपज को स्वयं गोदामों तक ले गए। कृषि उपज मंडी में मंगलवार को 50 टन वजनी कांटे पर कम तौल को लेकर किसानों ने हंगामा कर दिया था। घटना के बाद मंडी समिति ने कांटे पर ताला लगाकर तौल बंद करा दिया। दूसरे दिन बुधवार को मंडी समिति ने दोनों कांटा संचालकों को नापतौल विभाग से कांटों का सत्यापन कराने के नोटिस थमाए। इधर कांटे बंद हाेने से उपज बेचने आए 200 किसानों को उपज का तौल बाहर कराना पड़ा।

कांटे पर हर रोज हो रही थी 30 हजार की चोरी
मंडी स्थित 50 टन वजनी बलराम धर्मकांटे पर हर राेज 30 हजार रु. की उपज की चोरी की जा रही थी। मंगलवार को करीब 200 वाहनों का तौल हुआ था। एक वाहन पर वजन 20 किलो यानी 200 वाहनों पर 4 हजार किलो कम तौल हो रहा था। साेयाबीन का भाव 4 हजार रु. प्रति क्विंटल है।

सत्यापन के बाद चालू कराएंगे कांटे
^ शिकायत के बाद कांटे बंद किए हैं, संचालकों को नोटिस दिए हैं। दो तीन दिन में नापतौल विभाग से सत्यापन कराएंगे।
-गजराजसिंह, इंजीनियर मंडी निर्माण शाखा

इधर... मंडी के बजाय व्यापारी को बेच रहे उपज
मूंदी | नगर की कृषि उपज मंडी में सोयाबीन की आवक में कम हो चुकी हैं। बुधवार को मात्र 650 क्विंटल आवक हुई। जबकि किसानों को मंडी में बाहर की तुलना में अधिक भाव मिल रहे हैं। इस कारण किसान मंडी में कम, बाहर अधिक मात्रा में सोयाबीन बेच रहे हैं। बुधवार को मंडी में उच्चतम सोयाबीन के भाव 3735 रुपए एवं न्यूनतम भाव 2800 रुपए के आसपास रहा। मंडी में इसी तरह अनाज की आवक कम होती गई तो राजस्व में भारी कमी आएगी। प्रदेश सरकार द्वारा भी मंडी टैक्स कम कर दिया है। इससे भी राजस्व पर असर पड़ेगा। कृषि मंडी के प्रभारी सचिव हरेसिंह सोलंकी ने बताया अभी सोयाबीन की आवक 650 क्विंटल हो रही हैं।

खबरें और भी हैं...