पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जल जीवन मिशन:घर के बाहर टोटी से देंगे शुद्ध पानी, पाइप डालने व नल कनेक्शन का काम जारी

खंडवा8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • 109 गांवों में हो चुका है सर्वे, इनमें से 38 गांवों में स्वीकृति के लिए भेजी फाइल

जल जीवन मिशन के तहत हर घर में पाइप के माध्यम से पेयजल सप्लाई की जाएगी। प्रशासन ने 38 गांवों में सर्वे के बाद यहां टंकी व पंप हाउस निर्माण, पाइपलाइन डालने व नल कनेक्शन देने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। जो गांव शेष है, वहां सर्वे जारी है।

जानकारी के अनुसार विकासखंड के 147 गांवों में हर घर नल के माध्यम से पानी पहुंचाना है। इनमें से 38 गांवाें में सर्वे के बाद प्रशासनिक स्वीकृति के लिए भेजा गया है। लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के अनुसार शासन से नियुक्त एजेंसी विकासखंड के गांव में सर्वे कर रही है। इसमें गांव व फलियाें में टंकी बनाने, पंप हाउस बनाने, पाइप लाइन बिछाने के लिए सर्वे किया जा रहा है। 109 गांवाें में सर्वे पूर्ण होने के बाद प्रस्ताव शासन को भेजा गया है। 38 गांवों की प्रशासकीय स्वीकृति मिलने के बाद टेंडर प्रतिक्रियाएं शुरू हो जाएंगी। जिन गांवों में टेंडर स्वीकृत हो चुके हैं वहां तो अनुबंध कर लिए गए हैं। फिलहाल 38 को छोड़कर सभी गांवाें में काम जारी है। इनमें टंकी, पंप हाउस बनाने, पाइप लाइन डालने और नल कनेक्शन देने का काम किया जा रहा है।

टेंडर के बाद टंकी, पंप हाउस निर्माण, पाइप लाइन डालने व नल कनेक्शन देने की प्रक्रिया शुरू

37 गांवाें में है नल जल योजना

विकासखंड के 37 गांवाें में नल जल योजना संचालित है। हालांकि इन गांवों में भी फलियाें में पानी नहीं पहुंच पा रहा है। फलियाें के लोग शासकीय हैंडपंप व निजी ट्यूबवेल के सहारे हैं। योजना के तहत इन 37 गांवाें में पहले काम होना है, ताकि इनके संसाधनों का उपयोग छूटे हुए फलियाें में पानी पहुंचाने में किया जा सके। 30 गांवाें में कार्य प्रगति पर है। 37 गांवों में पुरानी नल जल योजना है।

और इधर, 21 साल पहले लगे पेड़ों को अतिक्रमणकारियों ने काटा, कार्रवाई की जाएगी

कलेक्टर की पहल पर 21 साल पहले किए गए पौधारोपण के पेड़ों को अतिक्रमणकारियों ने काट डाला। पुराने जनपद कार्यालय परिसर के सामने ग्राम पंचायत और जनपद पंचायत द्वारा किए गए वृक्षारोपण पर चली कुल्हाड़ी को अधिकारियों ने नहीं रोका। जबकि इसी के नजदीक वन विभाग का रेस्ट हाउस भी है, जहां पुनासा वन परिक्षेत्राधिकारी रहते हैं। इधर, अतिक्रमणकारियों द्वारा धीरे-धीरे इन वृक्षों की कटाई कर अवैध रूप से निर्माण किया जा रहा है। गौरतलब है 1999 में तत्कालीन कलेक्टर आरपी मंडल की प्रेरणा से वृक्षारोपण किया गया था, लेकिन अधिकारियों की अनदेखी से हरियाली को अतिक्रमणकारियों ने उजाड़ दिया। इस मामले में एसडीएम चंदरसिंह सोलंकी ने कहा पटवारी और पंचायत सचिव को भेजकर मौके का मुआयना करवाता हूं। वहां रहने वाले सभी लोगों की भूखंड की रजिस्ट्री भी देखता हूं। पेड़ काटने वालो के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

प्रत्येक वार्ड में पहुंचाया जाएगा पानी

खारकलां में लगभग दो करोड़ रुपए की लागत से पानी की टंकी का निर्माण व पाइपलाइन बिछाने का काम किया। जनपद सदस्य मुकेश पटेल ने बताया जिन वार्डों में पानी नहीं पहुंच पा रहा है, वहां नियमानुसार पाइपलाइन बिछाकर पानी दिया जाएगा। गांव में बनी पानी की टंकी को जोड़कर सभी ग्राम के वार्ड में पानी पहुंचाएंगे।

अनलॉक के बाद काम में आई तेजी
विकासखंड के 147 गांवाें में से 109 गांवाें में सर्वे पूरा कर लिया गया। शेष में सर्वे जारी होकर प्रशासनिक स्वीकृति के लिए भेजा गया है। स्वीकृति मिलने के बाद इन गांवाें में भी नल जल योजना के तहत निर्माण कार्य किया जाएगा।
-करणसिंह वास्कले, इंजीनियर, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग, हरसूद

खबरें और भी हैं...