• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Khandwa
  • Yadav Faction Dominated The Seats Where The Congress Lost By A Huge Margin; Rajnarayan Singh Said The Younger Man Remains, The Big Officers Will Take The Decision

कांग्रेस दफ्तर में चुनावी हार पर मंथन:जिन सीटों पर कांग्रेस बड़े अंतर से हारी, वहां यादव गुट का दबदबा; राजनारायणसिंह बोले- छोटा आदमी ठहरा, बड़े अधिकारी लेंगे निर्णय

खंडवा22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कांग्रेस दफ्तर में प्रेसवार्ता को संबोधित करते कांग्रेस कैंडिडेट रहे राजनारायणसिंह पुरनी। - Dainik Bhaskar
कांग्रेस दफ्तर में प्रेसवार्ता को संबोधित करते कांग्रेस कैंडिडेट रहे राजनारायणसिंह पुरनी।

खंडवा उपचुनाव में 82 हजार वोट से परास्त हो चुकी कांग्रेस में हार को लेकर मंथन का दौर जारी है। शनिवार को गांधी भवन स्थित दफ्तर पर कांग्रेस कैंडिडेट रहे राजनारायणसिंह पुरनी ने कार्यकर्ताओं की बैठक ली। मीडिया से चर्चा में कांग्रेस को बीते चुनाव परिणाम के मुकाबले मजबूत बताया। 8 और 9 नवंबर को भोपाल में होने वाली बैठक में शामिल होने की बात कहीं।

मीडिया ने सवाल किया कि, उपचुनाव के दौरान नेपानगर विधानसभा का चुनाव प्रभारी अरुण यादव के भाई सचिन यादव थे। बुरहानपुर जिलाध्यक्ष और बागली के बड़े पदाधिकारी भी उनके करीबी थे। बड़वाह विधायक सचिन बिरला भी अरुण यादव के खास मुरीद रहे। बावजूद कांग्रेस इन्ही चार विधानसभा सीटों पर बड़े अंतर से हारी है। खंडवा शहर कांग्रेस भी परपंरागत वोटर्स को मतदान के लिए नहीं ला सकी। क्या.. अरुण यादव की टीम ने कोई काम नहीं किया।

सवाल पर राजनारायणसिंह ने कहा कि, मैं बहुत छोटा आदमी हूं, ज्यादा बड़ी बात नहीं करता। बुरहानपुर में काम हुआ या नहीं हुआ इस पर मंथन चल रहा है। मैं उम्मीदवार रहा हूं इसलिए किसी पर आरोप या किसी को हार का दोषी नहीं बता सकता। पार्टी के बड़े अधिकारी देख रहे है, वहीं इस पर उचित निर्णय ले सकेंगे और मैंने कोई रिपोर्ट कार्ड भी नही दिया है। 9 तारीख को भोपाल में बैठक है, वहां से जो भी जिम्मेदारी मिलेगी, खंडवा आकर कांग्रेस संगठन को मजबूत करने के लिए काम करेंगे।

बीते चुनाव में 58 हजार वोट से कांग्रेस हारी थी पंधाना सीट

उपचुनाव के नतीजों को लेकर राजनारायणसिंह ने कहा कि, हार को हार ही कहूंगा लेकिन बीते चुनावों की अपेक्षा परिणाम अच्छे रहे है। 58 हजार वोट से पंधाना सीट जीतने वाली बीजेपी अब 4 हजार वोट पर आ गई। 43 हजार वोट से मांधाता हारने वाली कांग्रेस 8 हजार वोट से जीती है। खंडवा सीट भी बीजेपी 45 हजार वोट से जीता करती थी, जिसे भी 4 हजार वोट पर लेकर आ गए। भीकनगांव सीट पर जीत हासिल की।

खबरें और भी हैं...