पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मूंग उपार्जन:29 किसानों ने मूंग उपार्जन के लिए कराया पंजीयन, 20 जून तक होंगे

निवालीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • अब तक निवाली के 9 व पलसूद के 20 किसानों ने ही कराया पंजीयन

विकासखंड के किसानों से मूंग खरीदने के लिए पंजीयन किया जा रहा है लेकिन खरीदी केंद्र पर अब तक सिर्फ 29 किसानों ने ही उपार्जन के लिए पंजीयन कराया है। इसमें 20 किसान पलसूद व 9 निवाली के हैं। क्योंकि तहसील के अधिकांश किसानों ने अप्रैल में उपज निकलते ही उसे बाजार में बेच दिया है। अब गिने चुने किसान ही पंजीयन करवाने आ रहे हैं। 20 जून तक पंजीयन कार्य हाेना है।

केंद्र पर राजपुर तहसील के पलसूद के किसान अधिक आ रहे हैं। केंद्र प्रभारी विनोद मंडलोई ने बताया पहले पंजीयन की अंतिम तिथि 15 जून थी, इसे बढ़ाकर 20 जून किया है। केंद्र पर तारीख आगे बढ़ने की सूचना किसानों को दी है लेकिन कम ही किसान पंजीयन कराने आ रहे हैं।

किसान संघ के अनुसार क्षेत्र में अप्रैल माह से ही मूंग निकलना शुरू हो गए थे। किसानों ने कुछ दिनों तक सरकारी खरीदी शुरू हाेने का इंतजार किया लेकिन खरीदी शुरू नहीं होेने पर उन्होंने बाजार में व्यापारियों के पास मूंग बेच दिया हैैैै। अब व्यापारी किसानों के नाम से पंजीयन कराकर उपज बेचेंगे।

इसका फायदा किसान की जगह व्यापारियों को मिलेगा। ब्लॉक में मूंग की फसल बहुत ही कम मात्रा में बोई जाती है। 40 ग्राम पंचायतों में मूंग कम मात्रा में लगाया जाता है। कृषि विभाग के अनुसार 70 हेक्टेयर में मूंग लगाई गई थी। अभी ग्राम पंचायतों में किसान मूंगफली, सोयाबीन व मक्का लगा रहे हैं। मू्ंग निकलने के बाद सभी किसानों ने उपज बाजार में बेच दी है।

सभी बीज मिलते ही मंगलवार से करेंगे वितरण - किसानों को कम दाम पर कृषि विभाग से मिलने वाले बीज कार्यालय में आ गए हैं। अन्य फसलों के बीज आने का इंतजार किया जा रहा है। शेष बचे हुए बीज सोमवार तक आ सकते हैं। इसमें सोयाबीन, लाल मूंग व मक्का के बीज हर साल कृषि विभाग से किसानों को अनुदान पर दिए जाते हैं। कोरोना संक्रमण के चलते कृषि विभाग के विभिन्न कामकाज बंद होने से बीज आने में देरी हुई। कृषि कार्यालय के अनुसार किसानों को मंगलवार से बीज वितरित किए जाएंगे।

खबरें और भी हैं...