पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सिविल अस्पताल:ऑक्सीजन प्लांट शुरू, 30 बेड पर मरीजों को मिलेगी प्रति मिनट 500 लीटर प्राणवायु

सेंधवा4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सिविल अस्पताल में तकनीशियनों द्वारा ऑक्सीजन प्लांट का डेमो दिया गया। - Dainik Bhaskar
सिविल अस्पताल में तकनीशियनों द्वारा ऑक्सीजन प्लांट का डेमो दिया गया।
  • प्रधानमंत्री केयर फंड से लगा है ऑक्सीजन प्लांट, नहीं होगी ऑक्सीजन की किल्लत

सिविल अस्पताल में ऑक्सीजन प्लांट शुरू हो गया है। प्लांट के बचे हुए पुर्जे आने के बाद तकनीशियनों ने इंस्टॉल कर इसके संचालन का डेमो सिविल अस्पताल के स्टाफ को दिया। प्लांट से प्रतिमिनट 500 लीटर ऑक्सीजन का उत्पादन किया जाएगा।

कोरोना महामारी की दूसरी लहर के दौरान देशभर में ऑक्सीजन की कमी से दिक्कत हुई थी। इसे देखते हुए केंद्र और प्रदेश सरकार अस्पतालों में ऑक्सीजन प्लांट लगवा रही है। सिविल अस्पताल में केंद्र सरकार की मदद से पीएम केयर फंड से ऑक्सीजन प्लांट लगवाया गया। नेशनल हाइवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने शेड बनाया। इसके बाद दिल्ली से दो बार में प्लांट के पुर्जे आए। पांच दिन पहले बचे हुए पुर्जे आने के बाद कंपनी के तकनीशियन आए। दो दिन में प्लांट को इंस्टॉल किया। इसके बाद अस्पताल की पाइप लाइन से कनेक्शन जोड़ा। अस्पताल स्टाफ को इसके संचालन का तरीका बताया। इस दौरान बीएमओ ओएस कनेल भी मौजूद रहे।

100 मरीजों को उपलब्ध होगी ऑक्सीजन

अस्पताल में वर्तमान में ऑक्सीजन सिलेंडर और कंसंट्रेटर मशीनें हैं। इससे एक बार में 50 मरीजों को ऑक्सीजन की पूर्ति की जा सकती है। ऑक्सीजन प्लांट से 500 लीटर प्रति मिनट ऑक्सीजन का उत्पादन किया जा सकता है। इससे 100 मरीजों को प्रतिमिनट पांच लीटर ऑक्सीजन उपलब्ध करवाई जा सकेगी।

कोरोनाकाल में मशीनें मिलने से मिली थी मदद

कोरोना की दूसरी लहर के दौरान ऑक्सीजन की मांग बढ़ने से देशभर में दिक्कत हुई थी। सेंधवा में निजी व्यक्ति इंदौर से सिलेंडर में ऑक्सीजन भरवाकर बुलाता था। सिविल अस्पताल व निजी अस्पताल उससे खरीदते थे। उचित प्रबंधन और ऑक्सीजन कंसंट्रेटर मशीनें मिलने से अस्पताल में ऑक्सीजन का संकट नहीं आया।

तकनीशियनों ने दो दिन में इंस्टॉल किया प्लांट

ऑक्सीजन प्लांट के बचे हुए पुर्जे दिल्ली से आने के बाद तकनीशियनों को सूचना दे दी थी। तकनीशियनों ने दो दिन में प्लांट इंस्टॉल कर डेमो दिया। इससे ऑक्सीजन की समस्या नहीं होगी। अस्पताल में 50 और बेड पर ऑक्सीजन पाइप लाइन डालने का काम भी शुरू हो गया है।
-डॉ. ओएस कनेल, बीएमओ, सेंधवा

50 बेड पर पाइप लाइन डालने का काम भी शुरू

कोरोना की दूसरी लहर के दौरान ऑक्सीजन की कमी आने का बाद अस्पताल को ऑक्सीजन कंसंट्रेटर मशीनें, बायपेप मशीनें, वेंटिलेटर के अलावा 20 सेमीफॉलर बेड भी मिले हैं। आइसोलेशन वार्ड में बेड रख दिए हैं। प्रभारी मंत्री ने वार्ड की शुरुआत की थी। आइसोलेशन वार्ड में 30 बेड पर ऑक्सीजन पाइप लाइन भी डाली जा चुकी है। इससे मरीजों को ऑक्सीजन दी जाएगी।

सिविल अस्पताल से प्राप्त जानकारी के अनुसार प्रसूति वार्ड, बच्चों के आईसीयू सहित 50 बेड पर ऑक्सीजन पाइप लाइन बिछाने के लिए प्रस्ताव सीएमएचओ के माध्यम से विभाग को भेजा गया है। उसे भी स्वीकृति मिल गई है। इसका काम भी शुरू हो गया। इससे 100 बिस्तर के अस्पताल के 80 बेड पर पाइप लाइन से ऑक्सीजन की सुविधा रहेगा। वहीं अस्पताल प्रबंधन बचे हुए 20 बेड पर भी पाइप लाइन डलवाने का प्रयास कर रहा है। ऐसा हुआ तो सभी 100 बेड पर पाइप लाइन से ऑक्सीजन पहुंचेगी।

खबरें और भी हैं...