पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पर्युषण पर्व:श्वेतांबर मूर्तिपूजक जैन संघ का पर्युषण पर्व जारी, आराधकों को अर्पण करेंगे कल्पसूत्र ग्रंथ

सेंधवा14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

श्वेतांबर मूर्तिपूजक जैन संघ का पर्युषण पर्व जारी है। पर्व के तीसरे दिन सोमवार को जैन धर्म के पवित्र एवं सर्वश्रेष्ठ ग्रंथ कल्पसूत्र का वरघोड़ा, कल्पसूत्र ग्रंथ आराधकों को अर्पित करने व पांच ज्ञान पूजा की बोलियां लगाई गई।

मुंबई से आई आराधक भाग्यलक्ष्मी एवं कुसुम बहन ने कल्पसूत्र ग्रंथ की व्याख्या की और ज्ञान पूजा का महत्व बताया। कल्पसूत्र ग्रंथ दोहराने की बोली कल्याण शामजी सेठिया परिवार, कल्पसूत्र ग्रंथ अर्पण करने की बोली कपूरचंद ठाकरसी शाह परिवार, प्रथम ज्ञान पूजा जय, शुभ परेश सेठिया, द्वितीय ज्ञान पूजा सिद्धि, मीत विजय गोसर, तृतीय ज्ञान पूजा हर्षित, जियांश मोमाया, चतुर्थ ज्ञान पूजा यश, जयंती गिरीश नागड़ा, 5वीं ज्ञान पूजा की बोली ईशान, ध्वनि अभय नागड़ा ने ली। कल्पसूत्र ग्रन्थ मंगलवार को आराधक बहनों को अर्पित करेंगे। सुरेश बागरेचा, अंबालाल शाह, जवेरचंद जैन, गुलाब खोना, अभय नागड़ा, धनराज लुणावत, शांतिलाल मोमाया, परेश सेठिया, अशोक जैन, गिरीश नागड़ा, नीलेश जैन, संतोष जैन, राजेश देसाई, चंद्र कुमार बागरेचा, विजय जैन, दीपक गोसर, जयेश नागड़ा, भरत नागड़ा, प्रेम नागड़ा उपस्थित थे।

खबरें और भी हैं...