जगन्नाथ रथयात्रा:मंडलेश्वर से आएंगे भगवानजी के वस्त्र, पीले चावल से दे रहे निमंत्रण

महेश्वरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

नगर के पेशवा घाट स्थित प्राचीन जगन्नाथ मंदिर से 1 जुलाई की सुबह 9 बजे साध्वी महंत जगतगिरि गुरु मां के सान्निध्य व महंत हृदयगिरि महाराज के मार्गदर्शन में निकलने वाली रथयात्रा को लेकर तैयारियां पूरी हो चुकी है। संतों की उपस्थिति में विद्वान आचार्य पूजन करवाएंगे।

इसके बाद भगवान जगन्नाथ, भाई बलभद्र व बहन सुभद्रा को रथ पर विराजमान किया जाएगा। रथ को रस्से के माध्यम से एक ओर से पुरुष व दूसरी ओर से महिलाएं खीचेंगी। भगवान का रथ नगर के मुख्य मार्गों से होकर शाम तक पेशवा घाट स्थित मंदिर पहुंचेगा।

यहां महाआरती, छप्पन भोग व भात प्रसाद के बाद भंडारा होगा। रथयात्रा को लेकर नगर सहित जिले में उत्साह है। नगर की महिलाएं वार्ड, मोहल्ला व घर-घर जाकर पीले चावल से निमंत्रण दे रही है। वहीं युवाओं की टोली बैठकों के माध्यम से आमंत्रण दे रही है।

रथयात्रा से पहले भगवान की काष्ठ मूर्तियों को मंदिर के गर्भगृह से रथ पर विराजमान करने व रथयात्रा के बाद रथ से मंदिर में विराजमान करने के लिए निशुल्क ड्रा से पर्ची निकाली जाएगी। 16-16 श्रद्धालुओं को यह अवसर मिलेगा। भगवान को उठाने की यह परंपरा पूरे निमाड़-मालवा में प्रसिद्ध है। यात्रा से जुड़ी खास बात यह भी है कि भगवान के वस्त्र मंडलेश्वर से आते है। ऋतु पाटीदार ने अपने हाथों से यह वस्त्र बनाए है। ईश्वरीय प्रेरणा से यह काम उनकी माता व परिवार करता है।

28 जून को रथयात्रा समिति मंडलेश्वर बैंड, ढोल-ताशे व भजन कीर्तन के साथ वस्त्र यात्रा निकालेगी। व्यवसायी व समाजसेवी गजराज कैलाशचंद्र यादव व परिवार 29 जून को भगवान जगन्नाथ के वस्त्र मंदिर को भेंट करेंगे।

बीसा नीमा महाजन समाज खोलेगा द्वार

नर्मदा के शीतल जल से स्नान के बाद भगवान के अस्वस्थ होने से मंदिर के पट बंद है। रथयात्रा के एक दिन पहले मंदिर के द्वार खोले जाएंगे। हर साल नगर के एक समाज को यह अवसर मिलता है। इस बार बीसा नीमा महाजन समाज को यह अवसर मिला है।

श्रद्धालु इस दिन कीर्तन व ढोल-मंजीरों के साथ आकर मंदिर पर ध्वज चढ़ाएंगे। 30 जून की शाम 4 बजे जन जागरण वाहन रैली से नगर आमंत्रण होगा। 30 जून की रात 8 बजे भजन संध्या में क्षेत्र के भजन गायक प्रस्तुति देंगे। इससे पहले 29 जून की रात 8 बजे राष्ट्र वंदना व देश के बलिदानियों की गौरवगाथा पर काव्य पाठ होगा।

राष्ट्रीय कवि देवकृष्ण व्यास देवास, महेंद्र मधुर आष्टा, पंकज प्रसून मांडव, ज्योति जलज हरदा, कुलदीप रंगीला देवास, डॉ. शैलेंद्र चौकड़े सनावद, कृष्णपाल राजपूत इगरिया, नरेंद्र अटल महेश्वर, गौतम रावल इंदौर, जितेंद्र राज कसरावद व सक्षम राहुल देवास प्रस्तुति देंगे।

खबरें और भी हैं...